लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency#News18Showreel

ट्रेंडिंग

और भी पढ़ें
होम / न्यूज / राष्ट्र /

साइबर अपराध को रोकने के लिए एक्शन में मोदी सरकार, जानें गृह मंत्रालय की पुलिस चौकी स्तर तक की तैयारी

साइबर अपराध को रोकने के लिए एक्शन में मोदी सरकार, जानें गृह मंत्रालय की पुलिस चौकी स्तर तक की तैयारी

गृह मंत्रालय (MHA) साइबर अपराधों से निपटने और साइबर हमलों को रोकने के लिए कई फैसले लिए हैं. केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने बुधवार को चौथे राष्ट्रीय युवा पुलिस अधीक्षक सम्मेलन और पुलिस एक्सपो के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कई घोषनाएं की. राय ने कहा है कि अब देश के सभी 16,347 पुलिस थानों में क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम्स (CCTNS) लागू किया गया है और 99 प्रतिशत थानों में 100 प्रतिशत एफआईआर सीधे सीसीटीएनएस में दर्ज की जा रही है.

गृह मंत्रालय साइबर अपराधों से निपटने और साइबर हमलों को रोकने के लिए कई फैसले लिए हैं.

गृह मंत्रालय साइबर अपराधों से निपटने और साइबर हमलों को रोकने के लिए कई फैसले लिए हैं.

नई दिल्ली. केंद्र सरकार साइबर क्राइम (Cyber Crime) से निपटने लिए अब एक्शन में आ गई है. पिछले कुछ दिनों से गृह मंत्रालय (MHA) साइबर अपराधों से निपटने और साइबर हमलों को रोकने के लिए कई फैसले लिए हैं. केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने बुधवार को चौथे राष्ट्रीय युवा पुलिस अधीक्षक सम्मेलन और पुलिस एक्सपो के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कई घोषनाएं की. राय ने कहा है कि अब देश के सभी 16,347 पुलिस थानों में क्राइम एंड क्रिमिनल ट्रैकिंग नेटवर्क एंड सिस्टम्स (CCTNS) लागू किया गया है और 99 प्रतिशत थानों में 100 प्रतिशत एफआईआर सीधे सीसीटीएनएस में दर्ज की जा रही है. इसके अलावा साइबर क्राइम से निपटने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने का काम पुलिस चौकी स्तर तक पूरा हो चुका है, जबकि साइबर क्राइम के खिलाफ एनालिटिकल टूल बनाने का काम भी 40 फीसदी तक पूरा हो चुका है.

नित्यानंद राय ने कहा है कि बीपीआरएंडडी अपनी स्थापना के समय से उत्तम कार्यप्रणालियों और मानकों के प्रोत्साहन द्वारा हर उस क्षेत्र के विकास में शामिल रहा है, जहां देश की पुलिस की क्षमता निर्माण, प्रशासनिक एवं सुधारात्मक सुधार, आधुनिकीकरण और उन्नयन की आवश्यकता है. बीपीआरएंडडी ने राष्ट्र की सेवा में 52 साल की लंबी यात्रा पूरी की है और ब्यूरो देशभर में शांति, सद्भाव सुनिश्चित करने और कानून-व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने तथा भारतीय पुलिस के हर कदम का मार्गदर्शन एवं संवर्धन करने के लिए अनुकरणीय कार्य कर रहा है.

साइबर एक्सपर्ट का काम ख़ासतौर पर कंपनी की फाइलों को किसी भी तरह की हैकिंग से बचाना होता है.

साइबर क्राइम को लेकर क्या है MHA की तैयारीराय ने कहा कि हमारी कानून प्रवर्तन एजेंसियां दो मोर्चों पर परिवर्तन देख रही हैं, पहला, दिन-प्रतिदिन नई आपराधिक चुनौतियों को हल करने के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाना, अपराध पैटर्न की बेहतर पहचान के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि का उपयोग करना, और दूसरा, तेजी से बदलते अपराध पैटर्न और उनके तौर-तरीके को समझना और कड़ी कार्यवाही करना. अपराधी इस तकनीकी क्रांति का अधिक तेजी से दुरूपयोग करके हमारे सामने गंभीर खतरों और चुनौतियों को खड़ा कर रहे हैं, जिन पर हमें तत्काल ध्यान देने और नागरिकों और बुनियादी ढांचों की रक्षा के लिए कानून प्रवर्तन एजेंसियों को हमेशा विरोधियों से आगे रहने की आवश्यकता है.

आपके शहर से (दिल्ली-एनसीआर)

श्रद्धा वालकर हत्याकांड: आरोपी आफताब पूनावाला की साकेत कोर्ट में पेशी आज

AAP को मिलेगा राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा, दिल्ली में ऑफिस के लिए जगह पाने की होगी हकदार

MCD Election Results 2022: एमसीडी के इन 12 नए जोनों में बांटी पूरी द‍िल्‍ली, गृह मंत्रालय ने जारी की अध‍िसूचना

दिल्ली में फिर सूटकेस में मिली महिला की लाश, अब तक नहीं हो सकी पहचान, तफ्तीश में जुटी क्राइम ब्रांच की टीम

MCD Elections Result 2022: एमसीडी चुनाव जीत कर आए कितने दागी प्रत्‍याशी, जानें

Delhi crime news: दिल्ली में सूटकेस में मिली महिला की लाश, जांच में जुटी पुलिस

10 दिसंबर को टिकारी बॉर्डर पर जमा होंगे किसान, MSP गारंटी पर आंदोलन का आह्वान

रेलवे विभिन्‍न इलाकों को रेल नेटवर्क से जोड़ने के लिए देशभर में बिछा रहा है 183 नई रेल लाइन, ये होंगे इलाके

बड़ी सफलता! दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने सागर हत्याकांड में सुशील पहलवान के 2 सहयोगियों को पकड़ा

Himachal Election Result 2022: हिमाचल में कांग्रेस की जीत से खुश हुए राहुल गांधी, बोले- हर वादा करेंगे पूरा

Gujarat Result 2022: हारकर भी कैसे जीती AAP? पार्टी नेता मना रहे हैं जश्न, बोले- 'हम राष्ट्रीय पार्टी बन गए'


कितने प्रकार के साइबर हमले भारत में होते हैं? 

राय ने कहा कि साइबर हमले, रैंसम-वेयर हमले, पहचान उजागर होना और बुनियादी ढांचों का प्रभावित होना आदि साइबर सुरक्षा डोमेन में होने वाले अपराध पैटर्न की कुछ प्रमुख श्रेणियां हैं. गृह राज्यमंत्री ने कहा कि साइबर अपराध और साइबर हमले आम लोगों के जीवन पर व्यापक प्रभाव छोड़ते हैं. इसके अलावा समुदायों के बीच अशांति और अविश्वास पैदा करने, नफरत फैलाने, साइबर फ्रॉड करने, नकली और मनगढ़ंत खबरें फैलाने के लिए भी सोशल मीडिया का दुरुपयोग किया जा रहा है. साइबर अपराधों के बढ़ते मामलों से निपटने के लिए भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र (I4C) की स्थापना की है. इस समन्वय केंद्र के सात घटक हैं, जिनमें से एक महत्वपूर्ण घटक राष्ट्रीय साइबर अपराध अनुसंधान एवं नवाचार केंद्र BPR&D में स्थित है.

सरकार ने एक डेडिकेटेड टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर-1930 की शुरुआत की है. (सांकेतिक फोटो)

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार ने राष्ट्रीय लॉजिस्टिक्स नीति के तहत 3 लक्ष्य किए निर्धारित, 2030 तक इतना सस्ता होगा माल भाड़ा

ऑनलाइन वित्तीय धोखाधड़ी में पैसा गंवाने वाले आम नागरिकों को त्वरित और समय पर सहायता प्रदान करने के लिए, सरकार ने एक डेडिकेटेड टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर-1930 की शुरुआत की है और इसके लिए एक पोर्टल भी है जहां लोग अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं. इसके साथ ही आंतरिक सुरक्षा, सीमा सुरक्षा और दूरदराज के इलाकों में सुरक्षा को मजबूत करने की बात करते हैं तो ड्रोन लड़ाकू अभियानों, निगरानी, दूरदराज के इलाकों में संचार आदि में उपयोगी हो सकते हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Cyber Crime, Cyber Crime News, Cyber crime training, MHA, Nityanand Rai

FIRST PUBLISHED : September 29, 2022, 15:42 IST
अधिक पढ़ें