भाषा चुनें :

हिंदी

एनएचआरसी ने बिहार के मुख्य सचिव और डीजीपी को भेजा नोटिस

राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने बेगूसराय में तीन कथित अपहरणकर्ताओं की पीट-पीटकर हत्या करने के मामले में दोनों अधिकारियों से छह सप्ताह में जवाब देने को कहा है.

News18Hindi |

बेगूसराय में मॉब लिंचिंग के मामले में राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने बुधवार को बिहार के मुख्य सचिव और पुलिस प्रमुख को नोटिस जारी किया है. राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग ने बेगूसराय में तीन कथित अपहरणकर्ताओं की पीट-पीटकर हत्या करने के मामले में दोनों अधिकारियों से छह सप्ताह में जवाब देने को कहा है.


एनएचआरसी ने एक बयान में कहा कि, ‘घटना में दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ क्या कदम उठाए गए और ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए क्या कदम उठाए गए’ सहित मामले पर दोनों अधिकारियों से छह सप्ताह के भीतर तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी गई है.


आयोग ने पाया कि संदेह होने पर भी पुलिस अधिकारियों को बुलाया जाना चाहिए था और स्कूल प्रशासन को आगे आकर कानूनी तरीके से काम करना चाहिए था. उसने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कानूनी कार्रवाई करने की बजाय लोग संदेह के आधार पर एकत्रित हुए और तीन लोगों की हत्या कर दी.


बेगूसराय के पुलिस अधीक्षक आदित्य कुमार ने बताया कि शुक्रवार को छौराही ब्लॉक के अधीन नारायणपुर गांव में भीड़ ने 11 वर्षीय स्कूली छात्रा का अपहरण करने का केवल संदेह होने पर तीन लोगों की पीट पीटकर हत्या कर दी थी. बताया जा रहा है कि तीनों ही इलाके के नामचीन अपराधी हैं. बदमाशों से इलाके में काफी दहशत थी. मारे गए बदमाशों की पहचान मुकेश महतो, हीरा सिंह और बौनु सिंह की रूप में हुई है.


ये भी पढ़ें - 


मॉब लिंचिंग: मंदिर में छिपे तीन अपराधियों को भीड़ ने खींचा और पीट-पीट के मार डाला

SC-ST एक्ट: यादव वोट बैंक खिसकने के डर से तेजस्वी ने बदली रणनीति


गैंग रेप और मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं के बीच नीतीश ने बुलाई हाई-लेवल मीटिंग