केरल पुलिस ने हाई कोर्ट को बताया, बिशप ने कई बार किया था नन का रेप

पुलिस ने हाईकोर्ट में हलफनामा में ये माना है कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने रेप और अप्राकृतिक यौनाचार किया था.

news18 hindi , News18Hindi
केरल की नन से रेप के मामले में पुलिस ने हाईकोर्ट में हलफनामा में ये माना है कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने रेप और अप्राकृतिक यौनाचार किया था. न्यूज़ एजेंसी ANI के मुताबिक हलफनामे के साथ पेश मेडिकल रिपोर्ट में भी इस बात की पुष्टि हो गई है कि बिशप ने कई बार पीड़िता नन का रेप किया था.उधर नन ने भारत में वेटिकन के प्रतिनिधि जियामबटिस्टा दिक्वात्रो को एक ख़त लिखकर मामले की जांच कराने और बिशप फ्रैंको को पद से हटाने की गुहार लगाई है. मिली जानकारी के मुताबिक पुलिस कल कोर्ट में एफिडेविट पेश करेगी. 


नन ने लिखा वेटिकन को ख़त
8 सितंबर 2018 को लिखे गए सात पेजों के खत में नन ने कहा है कि चर्च की चुप्पी मुझे अपमानित महसूस करा रही है.' नन ने पूछा है कि क्या चर्च उन्हें वह लौटा सकता है, जो उन्होंने खोया है. नन ने इस पत्र में बताया है कि कब-कब उन्हें शिकार बनाया गया और कैसे उन्हें और उनके समर्थकों को चुप कराने की कोशिशें की गईं. नन ने लिखा है, 'कैथलिक चर्च सिर्फ बिशपों और पादरियों की चिंता करता है। हम जानना चाहते हैं कि क्या कैनन कानून में महिलाओं और ननों को न्याय का कोई प्रावधान है?' उधर बिशप के प्रवक्ता का कहना है कि अगर केरल पुलिस किसी तरह की पूछताछ करना चाहती है तो हम मदद के लिए तैयार हैं. 


आपको बता दें कि नन से बलात्कार मामले में केरल हाई कोर्ट ने सोमवार को कड़ा रुख दिखाया था. पीठ ने केरल सरकार से इस संबंध में गठित एसआईटी द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देने को कहा है. कोर्ट ने सरकार से यह भी पूछा है कि पीड़िता और उसके समर्थन में आई ननों की सुरक्षा के लिए उनकी ओर से क्या किया गया है. गौरतलब है कि पहले भी बिशप पर नन और उनके समर्थकों को पैसे और संपत्ति देकर मामले को दबाने की बात सामने आई थी. चौंकाने वाली बात यह है कि अपने इस खत में उन्होंने आरोप लगाया है कि बिशप ने पहले दूसरी नन्स के साथ भी ऐसा व्यवहार किया है.विधायक पीसी जॉर्ज की विवादित टिप्पणीबिशप के समर्थक और केरल के कोट्टायम से निर्दलीय विधायक पीसी जॉर्ज ने शनिवार को रेप पीड़िता नन के खिलाफ एक विवादित टिप्पणी की थी. पीसी जॉर्ज ने कहा, ''जब उस नन ने अपनी वर्जिनिटी खो दी तो उन्हें ये धार्मिक काम नहीं करना चाहिए था. जब 12 बार उसके साथ रेप किया गया तो वो चुप क्यों थी. 13वीं बार रेप के बाद ही वो क्यों शिकायत ले कर आई. उसने पहली बार ही शिकायत क्यों नहीं की?'' साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अगर बिशप के खिलाफ आरोप सिद्ध हो जाते हैं तो उन्हें अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

Trending Now