Home / News / rajasthan /

कांस्टेबल ने दिया सरकारी नौकरी का झांसा, बेरोजगारों से ठगे 73 लाख रुपये, पुलिस ने किया गिरफ्तार

कांस्टेबल ने दिया सरकारी नौकरी का झांसा, बेरोजगारों से ठगे 73 लाख रुपये, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Barmer Latest News: मोतीलाल व्यास  ने नौकरी लगाने के नाम पर युवाओं को ठगा.

Barmer Latest News: मोतीलाल व्यास ने नौकरी लगाने के नाम पर युवाओं को ठगा.

Rajasthan News: बाड़मेर की कोतवाली पुलिस ने नौकरी लगाने का झांसा देकर युवाओं से 3 लाख रुपये ठगने वाले शातिर कांस्टेबल मोतीलाल व्यास (thug Motilal Vyas)को जोधपुर से गिरफ्तार किया है. पुलिस अब आरोपी से पूछताछ करेगी.

बाड़मेर. राजस्थान (Rajasthan) के बाड़मेर (barmer) में युवाओं को नौकरी लगाने का झांसा देकर करोड़ों रुपये की ठगी करने मामला का सामने आया है. यह कारनामा करने वाला सीआईडी बीआई में कार्यरत कांस्टेबल मोतीलाल व्यास (thug Motilal Vyas) का है. पुलिस अब महाठग से पूछताछ करने में जुट गई है. जोधपुर सीआईडी में कार्यरत कांस्टेबल ने बाड़मेर के युवाओे से करोड़ों रूपये की ठगी की है. बताया जा रहा है कि हाईकोर्ट में एलडीसी लगाने के नाम पर युवाओ से ठगी की गई है. बाड़मेर में ऐसे ही दर्जनभर युवकों से लाखों रुपये हड़पने की शिकायतें मिली है. अब कोतवाली पुलिस ने आरोपी कांस्टेबल को जोधपुर से गिरफ्तार किया है.


आपके शहर से (बाड़मेर)

अस्पताल में भर्ती महिला की आंख कुतर गए चूहे, पलक के हुए दो टुकड़े, लापरवाही के बाद मचा हड़कंप

अनूठा प्रेम! हिरण के अनाथ बच्चे लॉरेंस को 9 महीने पाला, रात्रि जागरण कर बेटी की तरह विदा किया

REET 2022: फिर बढ़ी रीट के लिए आवेदन की लास्ट डेट, देखें लेटेस्ट अपडेट

कचौरी खाने लोको पायलट स्टेशन से पहले रोकता था ट्रेन, रेलवे ने लिया ये बड़ा एक्शन

देर रात तक दोस्तों के साथ नाचता रहा दूल्हा, दुल्हन ने दूसरे युवक के साथ ले लिए फेरे और फिर...

राफेल ने इंडो-पाक बॉर्डर पर तबाह किए 'दुश्मन', गरजे 148 विमान, एक मिनट में किए 2500 फायर

जयपाल पूनिया मर्डर केस: कांग्रेस विधायक महेन्द्र चौधरी के भाई समेत 5 आरोपी गिरफ्तार, पढ़ें अपडेट

राजस्थानी लोक गायक मामे खान ने रचा इतिहास, कान्स रेड कार्पेट खोलने वाले पहले लोक कलाकार बने-PHOTOS

बारात लेकर आए दूल्हे ने कर दी छोटी सी गलती, दुल्हन ने ले लिए दूसरे युवक के साथ फेरे

कांग्रेस विधायक गणेश घोघरा और ग्रामीणों ने एसडीएम समेत 22 कर्मचारियों को बनाया बंधक, केस दर्ज

पुलिस भर्ती परीक्षा: परीक्षार्थी के पास मिली 142 प्रश्नों की उत्तर कुंजी, 10 लाख में हुआ था सौदा!




बड़ी बात यह है कि 2019 में सीआईडी में रहते हुए महाठग मोतीलाल व्यास बर्खास्त किया गया था, लेकिन अब जोधपुर सीआईडी बीआई में कार्यरत है. कोतवाली पुलिस ने महाठग मोतीलाल के कब्जे से 6.41 लाख रुपये बरामद किए हैं. जानकारी के मुताबिक, 25 जनवरी 2020 को जयरामदास सोनी ने मामला दर्ज करवाया कि हाईकोर्ट में एलडीसी के पद पर नौकरी लगाने का झांसा देकर आरोपी मोतीलाल पुत्र हरिकिशन व्यास निवासी चौपासनी हाउसिंग बोर्ड ने उससे पौने चार लाख रुपये लिए थे.

सरकारी नौकरी लगाने का दिया झांसा

आरोपी हरिकिशन व्यास ने बताया कि उसकी सेटिंग है और वह एलडीसी की सरकारी नौकरी दिला देगा. इसी तरह आसूलाल सोनी ने भी कोतवाली थाना पुलिस को दी रिपोर्ट में बताया कि मोतीलाल ने उसके बेटों को भी हाईकोर्ट में एलडीसी को नौकरी लगाने का झांसा देकर 28.75 लाख रुपये हड़प लिए है. ठगी के शिकार हुए जयराम दास और पवन सोनी बताते हैं कि उसके साथ लाखों रुपये की ठगी कर आरोपी कांस्टेबल फरार हो गया.

पूरे प्रकरण को लेकर कोतवाली थानाधिकारी उगमराज सोनी का कहना है कि लादुराम मय पुलिस टीम ने आरोपी मोतीलाल पुत्र हरिकिशन व्यास निवासी चौपासनी हाउसिंग बोर्ड जोधपुर को नौकरी का झांसा देकर ठगी करने के मामले में गिरफ्तार किया है.आरोपी आला दर्जे का शातिर है और कई लोगों से नौकरी का झांसा देकर ठगी कर चुका है. लोगों को झांसे में लेता है और लोग विश्वास करके रुपये दे देते हैं. पिछले 2-3 साल से इस तरह की ठगी की कई वारदातों को अंजाम दिया है. कोतवाली थाने में ठगी का एक मामला दर्ज है,लेकिन इसके खिलाफ कई शिकायतें मिली हैं.

ये भी पढ़ें: हाईमास्ट पोल में घुसा 5 फीट लंबा अजगर, Video में देखें कैसे किया गया रेस्क्यू

बर्खास्त भी हो चुका है आरोपी

गौरतलब है कि सीआईडी बीआई बाड़मेर में पदस्थापित कांस्टेबल मोतीलाल को राज्य सेवा से दिसंबर 2019 को बर्खास्त कर दिया गया था. कांस्टेबल के खिलाफ जोधपुर और बाड़मेर जिले में धोखाधड़ी कर लोगों से रुपये ठगने के कई मामले दर्ज हैं. चैक बाउंस के मामलों में भी कांस्टेबल के खिलाफ प्रकरण दर्ज किए गए हैं. बाड़मेर व जोधपुर के विभिन्न पुलिस थानों में 4 प्रकरण दर्ज हुए हैं. मोतीलाल 22 जुलाई 2019 से ड्यूटी से भी अनुपस्थित चल रहा था. रिकॉल नोटिस जारी करने के बावजूद भी ड्यूटी पर उपस्थित नहीं हुआ. इसके बाद दिसंबर 2019 को इसे बर्खास्त कर दिया गया था. मोतीलाल को अब पुलिस ने गिरफ्तार किया तो उसने बताया कि वह नौकरी कर रहा है. आरोपी कांस्टेबल 2019 में बर्खास्त होने से पहले बाड़मेर में सीआईडी में ही पदस्थापित था.

Tags:Barmer news, Crime in Rajasthan, Rajasthan news