Home / News / rajasthan /

udsar unique village churu sardarshahr tehsil where people do not make two story house read ajab gajab story cgpg

इस गांव में नहीं बनाते दो मंजिला मकान, 700 साल से लोगों में खौफ, पढ़ें पूरी कहानी

Churu News: राजस्थान के उडसर गांव में लोगों ने 700 सालों से नहीं बनाया दो मंजिला मकान.

Churu News: राजस्थान के उडसर गांव में लोगों ने 700 सालों से नहीं बनाया दो मंजिला मकान.

Unique Udsar Village story in Hindi: राजस्थान के चूरू (Churu News) जिले की सरदारशहर तहसील के अंतर्गत एक गांव बसा है. नाम है: उडसर (udsar village). इस गांव के लोग पिछले 700 साल से खौफ में जी रहे हैं. गांव में कोई भी दो मंजिल मकान नहीं बनाता. गांव के लोग इसके पीछे एक कहानी भी सुनाते हैं जिसके मुताबिक गांव में लुटेरे मवेशियों को चुराकर ले जा रहे थे. भेमिया नाम के व्यक्ति लुटेरों से अकेला भिड़ गए, लेकिन चोरों ने उन्हें मार डाला था. उनकी मौत के बाद उनकी पत्नी सती हो गई थीं. उन्होंने पूरे गांव को श्राप दिया था कि अगर कोई भी अपने घर की दूसरी मंजिल बनाएगा तो वह संकट से घिर जाएगा. हालांकि, इस मान्यता और इससे जुड़ी कहानी का कोई ऐतिहासिक सबूत नहीं है. यहां लोगों ने भोमिया जी का मंदिर बनाया है.

चूरू. भारत गांवों का देश है. यहां हर गांव की अपनी एक अलग कहानी है. आपको जानकारी हैरानी होगी कि राजस्थान (Rajasthan) में एक ऐसा गांव है जहां आज भी लोग घर की दूसरी मंजिल बनाने से डरते हैं. माना जाता है कि चूरू (Churu) जिले के सरदारशहर तहसील के उडसर गांव (udsar village) में पिछले 700 साल से किसी ने बहुमंजिला तो दूर दो मंजिला मकान भी नहीं बनवाया है. ग्रामीणों का मानना है कि पूरा गांव में कोई श्राप है, जो घर की दूसरी मंजिल बनाएगा उसके परिवार पर विपदा आ जाएगी.

स्थानीय लोगों का कहना है कि यह गांव पिछले 700 सालों से श्राप झेल रहा है, इसी वजह से गांव में आजतक किसी ने दो मंजिल इमारत बनाने की हिम्मत की. बताया जाता है कि 700 साल पहले इस गांव भोमिया नाम का एक व्यक्ति रहता था. भोमिया की पत्नी सती हो गई थी और पूरे गांव को उसने श्राप दिया था.

….तो इस वजह से नहीं बनाते दो मंजिला मकान


आपके शहर से (चूरू)

किन्नर बबीता ने 50 लाख की लागत से बनवाया शिव मंदिर, 40 साल पुराना सपना किया पूरा

CM गहलोत से मुलाकात के बाद बदले अशोक चांदना के सुर, बीजेपी को दी नसीहत

पेपर लीक करने वाले जयपुर के दिवाकर पब्लिक सैकेंडरी स्कूल की मान्यता रद्द, सारा रिकॉर्ड भी जब्त

पत्नी के इलाज पर खर्च किए सवा करोड़, 70 लाख में गिरवी रखी डिग्री, मौत के मुंह से लौट आई लाइफ-पार्टनर

अनोखा रेलवे स्टेशन, 2 राज्यों में खड़ी होती है ट्रेन, टिकट काउंटर से लेकर साइन बोर्ड सब अजब-गजब

जब टीना डाबी ने खुद बताया क्यों चुना 13 साल बड़े प्रदीप गवांडे को अपना हमसफर

राजस्थान ने बनाया पेपर लीक में नया रिकॉर्ड, 12 साल में 11 बड़ी भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक, नया कानून भी बेअसर

OMG: एंबुलेंस में बारात लेकर पहुंचा दूल्हा, स्ट्रेचर पर दुल्हन के साथ लिए 7 फेरे

दादी ने देखीं 7 पीढ़ियां, 11 पोते-पड़पोते पुलिस में, जानें अंतिम यात्रा में क्यों बजे लता दी के गाने

इंटरनेशनल बाइक राइडर असबाक मोन की लव मैरिज से लेकर मौत तक की कहानी, भाई ने किया चौंकाने वाला खुलासा

राज्यसभा चुनाव: दिल्ली से लेकर जयपुर तक लॉबिंग में जुटे BJP नेता, उम्मीदवार पर अटकलें तेज


स्थानीय लोगों का मानना है कि उदसर गांव में करीब 700 साल पहले भोमिया नाम का एक व्यक्ति रहता था. एक दिन उसे गांव में चोरों के आने की खबर मिली. लुटेरे आ गये और मवेशियों को चुराकर ले जाने लगे. इस पर भोमिया लुटेरों से अकेला भिड़ गया, लेकिन चोरों ने उसे लहूलुहान कर दिया. उसके बाद भोमिया दौड़ते-दौड़ते अपने ससुराल पहुंच गया और वहां दूसरी मंजिल पर जाकर छिप गया. लेकिन, भोमिया के पीछे-पीछे चोर भी वहां पहुंच गए.

लुटेरों ने भोमिया के ससुराल वालों के साथ भी मारपीट की. इसे देख भोमिया फिर चोरों से भिड़ गया. लेकिन उन्होंने भोमिया का गला काट दिया. भोमिया फिर भी लड़ते रहे और अपने गांव की सीमा के पास आ गए. आखिर में भोमिया का धड़ उडसर गांव में गिरा. यहां लोगों ने भोमिया जी का मंदिर बनाया है. ग्रामीणों का कहना है कि भोमिया की मौत के बाद उनकी पत्नी ने गांव वालों को श्राप दिया कि अगर कोई भी गांव में अपने घर की दूसरी मंजिल पर मकान या कमरा बनाया तो उस पर विपदा आ जाएगी. मान्यता है कि उस दिन के बाद से उदसर गांव में किसी भी व्यक्ति ने अपने मकान की दूसरी मंजिल नहीं बनाई. यहां तक की नए बनाए जाने वाले मकान में भी दूसरी मंजिल नहीं होती. हालांकि इस घटना का कोई ऐतिहासिक सबूत नहीं है.

Tags:Churu news, Rajasthan news