होम / न्यूज / राजस्थान /

राजस्थान की सरहद से बाहर निकला दलित छात्र की मौत का केस, मायावती ने उठाये गहलोत सरकार पर सवाल

राजस्थान की सरहद से बाहर निकला दलित छात्र की मौत का केस, मायावती ने उठाये गहलोत सरकार पर सवाल

बीएसपी चीफ मायावती ने कहा कि गहलोत सरकार को बर्खास्त कर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाये तो बेहतर है.

बीएसपी चीफ मायावती ने कहा कि गहलोत सरकार को बर्खास्त कर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाये तो बेहतर है.

बीएसपी प्रमुख मायावती ने बोला गहलोत सरकार पर हमला: राजस्थान के जालोर में स्कूल में टीचर की पिटाई से हुई दलित छात्र की मौत के मामले में बसपा प्रमुख मायावती ने प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार पर बड़ा हमला (BSP chief Mayawati attacked on Ashok Gehlot) बोला है. मायावती ने घटना की निंदा करते हुये कहा कि गहलोत सरकार दलितों, आदिवासियों एवं उपेक्षितों आदि की जान तथा मान-सम्मान की सुरक्षा करने में नाकाम है.

हाइलाइट्स

राजस्थान के जालोर के सायला थाना इलाके के सुराणा गांव की है घटना
दलित छात्र की मौत के मामले में पुलिस ने आरोपी टीचर को गिरफ्तार कर लिया है

जयपुर. राजस्थान के जालोर जिले के सायला थाना इलाके में स्थित एक निजी स्कूल में टीचर की पिटाई से हुई दलित छात्र की मौत (Dalit student death case) का मामला अब राजस्थान की सरहदें पार कर गया है. इस मसले को लेकर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती (BSP chief Mayawati) ने अशोक गहलोत सरकार पर बड़ा हमला बोला है. मायावती ने राजस्थान की कांग्रेस सरकार को दलितों, आदिवासियों और उपेक्षितों की सुरक्षा करने में नाकाम बताते हुए राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है.

सायला इलाके के सुराणा गांव में दलित छात्र की मौत के बाद रविवार को तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट करते हुये कहा कि ‘‘राजस्थान में आए दिन ऐसी जातिवादी दर्दनाक घटनाएं होती रहती हैं. इससे स्पष्ट है कि कांग्रेसनीत राज्य सरकार वहां खासकर दलितों, आदिवासियों एवं उपेक्षितों आदि की जान तथा मान-सम्मान की सुरक्षा करने में नाकाम है. इसलिए इस सरकार को बर्खास्त कर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाये तो बेहतर है.’’


मायावती ने एक के बाद एक कई ट्वीट किये
इससे पहले मायावती ने अपने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, ‘‘राजस्थान के जालोर जिले के सुराणा में निजी स्कूल के नौ साल के दलित छात्र द्वारा प्यास लगने पर मटके से पानी पीने के कारण सवर्ण जाति के जातिवादी सोच के शिक्षक ने उसे इतनी बेरहमी से पीटा कि शनिवार को उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. इस हृदय विदारक घटना की जितनी निंदा और भर्त्सना की जाए वह कम है.’’

आपके शहर से (लखनऊ)

सुनहरी यादें : इंदौर के जिस घर में गूंजी थी लता दीदी की पहली किलकारी, जानिए अब कैसा है वहां का हाल...

लखनऊ में सपा का अधिवेशन: बीजेपी पर हमलावर रहेंगे अखिलेश, मायावती के वोटों पर होगी नजर

दुआ-राष्ट्रगान से शुरुआत, अब 6 घंटे चलेंगे क्लास; यूपी के मदरसों को लेकर सरकार बड़ा फैसला

UPSSSC PET 2022: 15 अक्टूबर से होगी यूपी पीईटी परीक्षा, इस तारीख को आएगा एडमिट कार्ड

Sudhanva Kund: लखनऊ के 'सुधन्वा कुंड' में स्नान करने से मिलती है पाप से मुक्ति! जानें इतिहास

UP: धौलपुर में लगातार बारिश से मकान गिरा, 4 मासूम बच्चों की मौत, मां और बेटी घायल

क्या दिग्विजय सिंह होंगे कांग्रेस के नये अध्यक्ष, पढ़िए दिलचस्प इनसाइड स्टोरी

नरेश उत्तम पटेल दुबारा बने प्रदेश अध्यक्ष, अखिलेश यादव बोले- बीजेपी को हराने के लिए किया हर त्याग

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए UPEIDA ने ऊंचे दामों पर खरीदी थी जमीन, CAG र‍िपोर्ट में बड़ा खुलासा

82 साल की उम्र में दो बेटों ने घर से निकाला, बेटियों ने भी किया किनारा; पढ़ें बेबस पिता की कहानी

Opinion: लता मंगेशकर से बहुत आत्मीय रिश्ता रहा है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का


टीचर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज
उल्लेखनीय है कि सुराणा गांव के एक निजी स्कूल में एक अध्यापक ने नौ वर्षीय दलित बच्चे इंद्र कुमार मेघवाल को कथित तौर पर मटकी छूने के कारण बेरहमी से पीटा था. यह घटना बीते 20 जुलाई की है. उसके बाद पीड़ित छात्र की तबीयत खराब हो गई थी. करीब 25 दिन के इलाज के बाद शनिवार को बच्चे ने अहमदाबाद में दम तोड़ दिया था. पुलिस ने इस मामले में आरोपी शिक्षक छैल सिंह (40) को गिरफ्तार कर लिया है. उसके खिलाफ हत्या और अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

Tags:Ashok Gehlot Government, BSP chief Mayawati, Crime News, Jaipur news, Lucknow news, Political news, Rajasthan news

अधिक पढ़ें