लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / राजस्थान /

Video: BSF का 80 साल का यह रिटायर्ड जवान आज भी लगाता है अचूक निशाना, आप भी देखें इनका कमाल

Video: BSF का 80 साल का यह रिटायर्ड जवान आज भी लगाता है अचूक निशाना, आप भी देखें इनका कमाल

Soldier's Spirit: सैनिक कभी बूढ़ा नहीं होता है. उसमें ताउम्र सैनिक का जज्बा बना रहता है. उसका बम, गोली और बंदूक से चोली दामन जैसा साथ बना रहता है. ऐसे ही एक बुजुर्ग जवान हैं चंदन सिंह सोढ़ा (Chandan Singh Sodha). भारत-पाकिस्तान की सरहद पर बसे जैसलमेर जिले के सोढ़ा 29 साल पहले बीएसएफ (BSF) से रिटायर हुए थे. लेकिन वे आज 80 साल की उम्र में भी सटीक निशाना लगाते हैं. देखें वीडियो.

चंदन सिंह बताते हैं कि उनकी 13 BN बीएसएफ में ज्वाइनिंग 1966 में जैसलमेर में हुई थी.

चंदन सिंह बताते हैं कि उनकी 13 BN बीएसएफ में ज्वाइनिंग 1966 में जैसलमेर में हुई थी.

हाइलाइट्स

चंदन सिंह सोढ़ा जैसलमेर के बैरसियाला गांव के रहने वाले हैं
सोढ़ा 1966 में BSF में भर्ती हुए थे और 1993 में रिटायर हो गए
वे आज भी जब बंदूक थामते हैं तो एकदम सटीक निशाना लगा देते हैं

श्रीकांत व्यास.

जैसलमेर. कहते हैं कि सैनिक (Soldier) कभी बूढ़ा नहीं होता. वह हमेशा जवान ही रहता है. उसका जज्बा उम्र के हर पड़ाव में बढ़ जाता है. ऐसे ही एक बुजुर्ग सैनिक हैं भारत-पाकिस्तान की सरहद पर बसे जैसलमेर के बेरसियाला गांव में. यह जवान 80 साल की उम्र में भी सटीक निशाना लगाता है. सीमा सुरक्षा बल (Border Security Force) से 29 साल पहले रिटायर हुए चंदन सिंह सोढ़ा (Chandan Singh Sodha) का जज्बा आज भी पहले जैसा बना हुआ है. उम्र के इस पड़ाव में भी सोढ़ा का निशाना चूकता नहीं है. वे आज भी अचूक निशाना लगाते हैं. सोढ़ा के अचूक निशाने का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है.

80 साल की उम्र में लोग जहां बिस्तर पकड़ लेते हैं. लाचार हो जाते हैं. वहीं बीएसएफ से सेवानिवृत्त हुए 80 वर्षीय भूतपूर्व जवान चंदन सिंह सोढ़ा आज भी जब अपने कांपते हाथों से बंदूक थामते हैं तो अचूक निशाना साध देते हैं. वे एक या दो नहीं बल्कि लगातार अभी भी तीन-तीन निशाने टारगेट पर हिट कर देते हैं. सोढ़ा को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि जवान सेना या अर्द्धसैन्य बलों से रिटायर भले ही हो जाएं लेकिन उनके अंदर का फौजी ताउम्र जिंदा रहता है.

आपके शहर से (जैसलमेर)

5 Minute 25 Khabarein | 5 मिनट 25 ख़बर | Aaj Ki Taaza Khabar | Rajasthan Top News | News18 Rajasthan

Ravichandran Ashwin ने Twitter पर दिया मज़ेदार ज़वाब, बताया 'B' से उनके लिए क्या होता है | #shorts

Dausa: पानी की टंकी पर घंटों चला हाई वोल्टेज ड्रामा, पति-पत्नी ऊपर से कूदने की देते रहे धमकी

20 Minutes 20 Khabar | 20 मिनट में 20 अहम खबरें | Speed News | Top Headlines | News18 Rajasthan

इस बार बजट में क्या होगा खास? बचत और राहत का है दावा | Rajasthan Budget 2023 | Ashok Gehlot

PM Narendra Modi ने अपने भाषण के दौरान Congress पर निशाना साधते हुए पढ़ा Dushyant Kumar का शेर

राजस्थान: करौली के हिंडौन में 4 दिन पुराने विवाद में बरसे पत्थर, तनाव फैला, पुलिस फोर्स तैनात

ऑपरेशन हंटर: लॉरेंस बिश्नोई गैंग एक का और गुर्गा गिरफ्तार, पुलिस को जमकर छकाया, पढ़ें कौन है ये

PM Narendra Modi ने लोकसभा में सुनाई शिकार पर निकले दो नौजवानों की कहानी Congress पर किया वार

5 Minute 25 Khabarein | 5 मिनट 25 ख़बर | Aaj Ki Taaza Khabar | Rajasthan Top News | News18 Rajasthan

Prime 25 | देखिए प्रदेश की 25 बड़ी खबरें | Big Breaking News | Top News Headlines | News18 Rajasthan


जवान का बम, बंदूक और गोली से चोली दामन जैसा साथ रहता है
जैसलमेर जिले के बैरसियाला गांव के रहने वाले 80 वर्षीय चंदन सिंह सोढ़ा 1966 में बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स में भर्ती हुए थे. 28 साल की देश सेवा के बाद वर्ष 1993 में वे रिटायर हो गए थे. एक फौजी का बम, बंदूक और गोली से चोली दामन का साथ रहता है. सोढ़ा के साथ भी यही है. सोढ़ा को बीएसएफ में दी गई हथियार चलाने की ट्रेनिंग आज भी उनके दिलो दिमाग में उसी तरह से बरकरार है जैसी वह बॉर्डर पर तैनात रहने के दौरान थी. चंदन सिंह के अचूक निशाने लगाने का वीडियो जब से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है लोग उनकी तारीफ करते नहीं थक रहे हैं.

जैसलमेर में 1966 में ज्वाइन की बीएसएफ
चंदन सिंह बताते हैं कि उनकी 13 BN बीएसएफ में ज्वाइनिंग 1966 में जैसलमेर में हुई थी. उसके बाद उनकी बटालियन जैसलमेर से जोधपुर चली गई. वर्ष 1971 की जंग में उनकी बटालियन जोधपुर से केलनोर की और कूच कर गई. वहां से उनकी बटालियन पाकिस्तान के छाछरा तक पहुंची. वहां से फिर उनकी बटालियन बाड़मेर आई. बाड़मेर में 4 साल तक सर्विस रही. उसके उपरांत बटालियन 4 साल तक गुजरात के बनासकांठा जिले के दांतीवाड़ा रही.

सोढ़ा को आज भी याद हैं सभी तबादले और बटालियन
बकौल सोढ़ा हमारी बटालियन उसके बाद जम्मू तवी चली गई. वहां वे 2 साल रहे. फिर वहां से श्रीनगर के कुपवाड़ा में 2 साल सेवाएं दी. जम्मू के अखनूर में रहने के दौरान 4 महीने बाद उनकी पोस्टिंग 92 बीएन बीएसएफ में हो गई. वह बटालियन उस समय अगरतला में थी. एक साल तक 92 बीएन बीएसएफ में सेवा देने के बाद उनका 93 बीएन बीएसएफ में ट्रांसफर हो गया. वहां करीब डेढ़ साल सर्विस रही. उसके बाद उनका ट्रांसफर 47 बीएन बीएसएफ में हुआ.

कुछ समय तक सिक्युरिटी गार्ड के रूप में प्राइवेट जॉब की
यह बटालियन उस समय बीकानेर में तैनात थी. वहां से वे एडवांस पार्टी के साथ जैसलमेर आ गए. 1993 में रिटायरमेंट के बाद उन्होंने जैसलमेर में अपना घर बना लिया और परिवार के साथ रहने लगे. कुछ समय तक सिक्युरिटी गार्ड के रूप में प्राइवेट जॉब की. सोढ़ा के परिवार में उनकी पत्नी और 3 लड़के हैं. उनमें से दो की शादी हो चुकी हैं. उनके भी 4 – 4 बच्चे हैं. एक बेटा अभी अविवाहित है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: BSF jawan, Jaisalmer news, Rajasthan news, Shooting

FIRST PUBLISHED : October 26, 2022, 13:20 IST
अधिक पढ़ें