लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency#News18Showreel
होम / न्यूज / राजस्थान /

राजस्थान के इस 'गोपीनाथ मंदिर' का इतिहास, जहां रात में कोई नहीं रुकता! जानें रहस्य

राजस्थान के इस 'गोपीनाथ मंदिर' का इतिहास, जहां रात में कोई नहीं रुकता! जानें रहस्य

Jhunjhunu News: जयपुर के गोविंद देव मंदिर जैसी ही गोपीनाथ जी की प्रतिमारमेश पुजारी के अनुसार हाथीसिंह ने मंदिर का निर्माण कराया. मरोल गांव के पुजारियों को लाकर बसाया, ताकि वे इसकी पूजा अर्चना कर सकें.

रिपोर्ट- इम्तियाज अली

झुंझुनूं. झुंझुनूं जिले के सुलताना कस्बे में स्थित गोपीनाथ मंदिर का निर्माण करीब 260 साल पहले तत्कालीन शासक हाथी सिंह की रानी की इच्छा पर करवाया गया था. यहां के बारे में एक कहावत है कि मंदिर में रात के समय कोई नहीं रुक सकता. यदि कोई रुकना भी चाहे तो उसके साथ ऐसी घटनाएं होती हैं कि उसे रात को ही मंदिर से बाहर जाना पड़ता है. गांव के बुजुर्ग व मंदिर पुजारी इसके पीछे दैवीय शक्ति बताते हैं. मंदिर जितना पुराना है, इसका इतिहास भी उतना ही अनूठा है. किवदंति के अनुसार गांव में 250 साल पहले ध्यानदास जी महाराज रहते थे. वे बड़े तपस्वी थे. एकबार उनके पास दूसरे संत आए और आश्रम किया. वे गोपीनाथजी भक्त थे.

कहते हैं कि संत की भगवान गोपीनाथ जी की प्रतिमा से बातें होती थी. इसकी चर्चा पूरे गांव में फैल गई. इस बीच एक दिन तत्कालीन राजा हाथी सिंह का पुत्र बीमार हो गया. जान बचने की कोई संभावना नहीं थी. तब हाथी सिंह ने अपने पुत्र को ले जाकर ध्यानदास जी के पास रुके, और साधु के चरणों में डाल दिया. कहते हैं कि ध्यानदासजी ने जैसे ही हाथी सिंह के बेटे के सिर पर हाथ फेरा, वह खड़ा हो गया. उस दिन से ध्यानदास जी के प्रति श्रद्धा बढ़ गई. हाथी सिंह की रानी ने भी उनके बारे में सुना था. वे ध्यानदासजी के पास गईं और उन्हें गुरु बना लिया.

आपके शहर से (झुंझुनूं)

Sardarshahar By-Election Result: Anil Sharma की बड़ी जीत, BJP दूसरे स्थान पर सिमटी | Hindi News

Sardarshahar By-Election Result: Anil Sharma 8991 वोटों से आगे, BJP तीसरे स्थान पर खिसकी |Hindi News

Sardarshahar Election Result | Congress की भारी मतों से जीत, देखिए परिणाम के आंकड़े | Latest News

Jodhpur में शादी समारोह में बड़ा हादसा, गैस सिलंडर फटने से 30 से ज्यादा लोग घायल | Latest Hindi News

Sardarshahar By-Election Result: Anil Sharma 10458 वोटों से आगे, BJP अभी भी तीसरे स्थान पर

Sardarshahar By-Election Result: जीत के बाद क्या बोले Anil Sharma, देखिए News18 पर सबसे पहले

Afternoon Headline | दोपहर की सभी बड़ी खबरें | Latest Hindi News | Top Headlines | 8 December 2022

Sonia Gandhi कल Ranthambore में Rahul Gandhi और Priyanka Gandhi के साथ मनाएंगी जन्मदिन

Jaipur News | दूदू में सड़क हादसे में 3 लोगों की मौत पर बवाल, मुआवजा और नौकरी की मांग | Hindi News

Morning Headlines | सुबह की सभी बड़ी खबरें | Latest Hindi News | Top Headlines | 8 December 2022

Sardarshahar By-Election Result: सरदारशहर उपचुनाव की मतगणना जारी, Anil Sharma आगे | Hindi News


सपने में दिखे थे गोपीनाथजी
हाथीसिंह का बेटा ठीक होने के बाद वह और उनकी रानी दोनों की बाबा ध्यानदास के प्रति श्रद्धा बढ़ गई. बाबा ध्यानदास कहते थे वे कुछ नहीं करते. जो भी करते हैं सब गोपीनाथजी ही करते हैं. गोपीनाथजी के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ गया. एक दिन हाथीसिंह को सपने में गोपीनाथ जी ने दर्शन दिया और कहा कि उनकी मूर्ति की कोई गृहस्थी स्थापना करवाकर पूजा करे तो इलाके में दुख तकलीफ नहीं होगी. तब दूसरे दिन राजा हाथीसिंह बगीची में ठहरे साधु के पास गए और मूर्ति स्थापना की इच्छा जताई, लेकिन संत ने मना कर दिया और रात को वहां से चले गए. उस रात फिर हाथीसिंह को सपने में गाेपीनाथ जी ने कहा कि मैं आज जहां हूं, वहां से आकर मुझे ले जाइए. तब हाथी सिंह उस संत से मूर्ति लेकर आए उसकी स्थापना करवाई.

मैं जब तक जिंदा रहूंगा…
पंडित निरंजन शर्मा व रमेश पुजारी कहते हैं कि संत गोपीनाथजी की मूर्ति हाथीसिंह को देना नहीं चाहते. लेकिन हाथीसिंह ले आए और उसकी स्थापना करवा दी. तब साधु ने हाथीसिंह को खरी खोटी सुनाई ताे राजा ने कहा कि वापस ले जाओ अपनी मूर्ति. कहते हैं कि जो संत गोपीनाथजी की मूर्ति को हमेशा साथ लेकर चलते थे, वे स्थापना के बाद मूर्ति को उठा भी नहीं सके. तब साधु ने कहा कि आप मेरे साथ नहीं चलना चाहते, कोई बात नहीं, लेकिन मैं जब तक जिंदा रहूंगा, मुझे दर्शन देने होंगे.

चमत्कारों से प्रभावित
जयपुर के गोविंद देव मंदिर जैसी ही गोपीनाथ जी की प्रतिमारमेश पुजारी के अनुसार हाथीसिंह ने मंदिर का निर्माण कराया. मरोल गांव के पुजारियों को लाकर बसाया, ताकि वे इसकी पूजा अर्चना कर सकें. जयपुर के गोविंद देव जी की तरह यहां भी काले पत्थर की मूर्ति है. बाद में चमत्कारों से प्रभावित होकर सुलताना के लाठ परिवार ने मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था.

पहले मंदिर नीचे था. जिसे लाठ परिवार ने जीर्णोद्धार करवा ऊंचाई पर प्रतिमा स्थापित करवाई.


ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: CM Rajasthan, Hindu Temples, Jhunjhunu news, Rajasthan news, Rajasthan Tourism Department

FIRST PUBLISHED : September 29, 2022, 17:09 IST
अधिक पढ़ें