लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / राजस्थान /

Navratra Special: अद्भुत है बायण माता मंदिर का इतिहास, गुजरात की सेना पर बाण चलाने से हुआ ये नामकरण

Navratra Special: अद्भुत है बायण माता मंदिर का इतिहास, गुजरात की सेना पर बाण चलाने से हुआ ये नामकरण

Rajsamand News: मेवाड़ के सिसोदिया राजवंश की उत्पत्ति शिशोदा गांव से हुई है. मेवाड़ के आदी पुरुष बप्पा रावल के 33वीं पीढ़ी में चित्तौड़ के राजा महारावल रणसिंह हुए. रणसिंह के ज्येष्ठ पुत्र क्षेमसिंह ने मेवाड़ की और द्वितीय पुत्र राहप सिंह ने शिशोदा राजवंश की गद्दी संभाली. राणा राहपसिंह की 13वीं पीढ़ी में राणा लक्ष्मण सिंह गुजरात के सिद्धपुर पाटन में सोलंकियों के यहां गए. उसी दौरान बाणेश्वरी (बायण) माता ने राणा के सपने में आकर मेवाड़ चलने की बात कही थी.

Rajsamand News: बायण माता की जोत शिशोदा गांव से देशभर में गई

Rajsamand News: बायण माता की जोत शिशोदा गांव से देशभर में गई

हाइलाइट्स

राजसमंद जिले की ग्राम शिशोदा का मेवाड़ और मराठाओं से भी नाता
ऐसी मान्यता है कि सच्चे मन से आने वाले भक्तों की कामना पूरी करती है मां

राजसमंद. जिले की ग्राम पंचायत शिशोदा (Shishoda) का नाम मेवाड़, मराठा और नेपाल राजवंश (Dynasty) से जुड़ा है. यह आजादी के पुरोधा महाराणा प्रताप (Maharana pratap), छत्रपति वीर शिवाजी (Veer Shivaji) और नेपाल के राजवंश को आपस में जोड़ता है. यहां स्थित देश के प्रमुख शक्तिपीठों में से एक बायण माता (Baan Mata) का मंदिर है, जो अपने आप में समृद्ध इतिहास (History) को समेटे है. नवरात्रि के समय देश के साथ विदेशों से भी श्रद्धालु मां बायण माता के प्रति अपनी आस्था प्रकट करने के लिए यहां पहुंच रहे हैं. ऐसी मान्यता है कि सच्चे मन से आने वाले भक्तों की हर कामना मां पूरी करती है.

ऐसा माना जाता है कि मेवाड़ राजवंश के राणा लक्ष्मण सिंह के गुजरात जाने के दौरान बाणेश्वरी (बायण) माता ने राणा के सपने में आकर मेवाड़ चलने की बात कही थी. इस पर राणा गुजरात की रानी को लेकर शिशोदा पहुंचे. यहां पर राणा का पीछा करते हुए गुजरात की सेना भी पहुंच गई. वर्तमान में चिकलवास नामक गांव में बायण माता ने बाण छोड़कर गुजरात की सेना का खात्मा कर दिया, जिससे उनका नाम बायण माता पड़ा. राणा ने बायण माता को महल में कुलदेवी मानकर स्थापना कर मंदिर बनवाया.

राजस्थान: अशोक गहलोत ने इशारों-इशारों में किया दावा- नहीं छोड़ेंगे CM की कुर्सी, सचिन पायलट पर भी किया पलटवार

बायण माता की जोत शिशोदा गांव से देशभर में गई
बायण माता मंदिर के पुजारी वरदी सिंह दसाणा बताते हैं कि देशभर में बायण माता की जोत सिसोदा गांव के मंदिर से ही ले जाई गई है. देश-विदेश से भक्तगण अपनी आस्था प्रकट करने के लिए बायण माता के मंदिर में पहुंचते हैं और माता का आशीर्वाद लेकर अपनी मनोकामनाएं पूरी करते हैं. यदि सच्चे मन से जो भी यहां पर कामना लेकर आता है बायण माता उसकी झोली हमेशा भरती है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

FIRST PUBLISHED : October 02, 2022, 16:19 IST
अधिक पढ़ें