लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

न्यायपालिका में भ्रष्टाचार पर हाईकोर्ट सख्त, महिला सेक्शन ऑफिसर बर्खास्त, एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज सस्पेंड

न्यायपालिका में भ्रष्टाचार पर हाईकोर्ट सख्त, महिला सेक्शन ऑफिसर बर्खास्त, एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज सस्पेंड

Prayagraj News: 24 घंटे के अंदर हुई इन दो बड़ी कार्रवाइयों से न्यायपालिका में हड़कंप मचा हुआ है. इन कार्रवाइयों के पीछे हाईकोर्ट को यह सख्त संदेश देना था कि न्यायपालिका में भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. न्यायपालिका पर लोगों का जबरदस्त भरोसा बना हुआ है और भ्रष्टाचार के आरोप लगने से यह भरोसा टूटता है. ऐसे में इस तरह की कार्रवाई बेहद जरूरी होती है. इस तरह की सख्त कार्रवाई से न्यायपालिका पर लोगों का भरोसा पहले की तरह ही कायम रहेगा.

भ्रष्टाचार के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट का सख्त एक्शन

भ्रष्टाचार के खिलाफ इलाहाबाद हाई कोर्ट का सख्त एक्शन

हाइलाइट्स

इलाहाबाद हाईकोर्ट में तैनात महिला सेक्शन ऑफिसर कुसुम मिश्रा बर्खास्त
कुसुम मिश्रा पर नौकरी दिलाने के नाम पर 10 लाख रुपये घूस लेने का आरोप
एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज फर्स्ट के पद पर तैनात राम किशोर शुक्ला हुए सस्पेंड

प्रयागराज. अदालतों में भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बेहद कड़ा रुख अपनाया है. हाईकोर्ट की प्रशासनिक कमेटी ने पिछले 24 घंटे में दो बड़े कदम उठाए हैं. कमेटी ने जहां हाईकोर्ट में ही तैनात महिला सेक्शन ऑफिसर को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है, वहीं प्रयागराज जिला कोर्ट के एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज को सस्पेंड कर आधी रात को उनका चेंबर सील करा दिया. हाईकोर्ट की इन दो कार्रवाइयों से न्यायिक अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट में तैनात महिला सेक्शन ऑफिसर कुसुम मिश्रा पर आरोप था कि उन्होंने चित्रकूट के एक शख्स से नौकरी दिलाने के नाम पर दस लाख रुपए की घूस ली. चित्रकूट के डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में नौकरी दिलाने के नाम पर लिए गए दस लाख रुपए न तो वापस किए गए और न ही नौकरी दिलाई गई. इस मामले की शिकायत हाईकोर्ट की प्रशासनिक कमेटी से की गई. प्रशासनिक कमेटी की जांच में महिला सेक्शन ऑफिसर कुसुम मिश्रा पर लगे आरोप सही पाए गए और उन्हें दोषी करार दिया गया. प्रशासनिक कमेटी ने इस आधार पर कुसुम मिश्रा को नौकरी से बर्खास्त कर दिया.

एडीजे राम किशोर शुक्ला पर भी भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप
दूसरा मामला प्रयागराज की जिला अदालत से जुड़ा हुआ है. हाईकोर्ट की प्रशासनिक कमेटी ने यहां तैनात एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज फर्स्ट के पद पर तैनात राम किशोर शुक्ला को न सिर्फ सस्पेंड कर दिया है, बल्कि आधी रात को उनका चेंबर और दफ्तर सील भी करा दिया. हाईकोर्ट की प्रशासनिक कमेटी के आदेश पर डिस्ट्रिक्ट जज ने रात करीब एक बजे कोर्ट परिसर में पहुंचकर एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज के चैंबर व दफ्तर को सील कराया. एडीजे राम किशोर शुक्ला पर भी भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप थे.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

रु 4500 का हर्जाना देने की जगह 7 सालों तक मुकदमा लड़ता रहा डाक विभाग, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई कड़ी फटकार

UP: शिवपाल यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला भी कराया जाएगा खाली

सपा विधायक नाहिद हसन को इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत, गैंगस्टर केस में मिली बेल

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव: पल्लवी पटेल ने आखिर क्यों कहा कि मैं तो प्रतीक्षा सूची में हूं?

Sarkari Naukri 2022 : इलाहाबाद विवि के कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने का मौका, इसी महीने जारी होगा विज्ञापन

CM योगी सर, 7 दिसंबर को मेरी शादी है, आप भी आएं, लेकिन इससे पहले सड़क बनवा दें... प्रयागराज की मुस्लिम बिटिया ने किया ट्वीट

... जब हार का डर होता है तो डेरा भी डाला जाता है और चाचा के पैर भी छुए जाते हैं... बीजेपी का अखिलेश यादव पर तंज

UP Board Exam 2023: बोर्ड परीक्षा की तैयारी के दौरान क्या करें और क्या न करें? इन बातों का रखें ख्याल

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

Allahabad High Court: अनुदेशकों को बड़ा झटका, हाइकोर्ट ने सुनाया सिर्फ 1 साल का मानदेय देने का फैसला

UP Board Exam 2023: इन 4 स्टेप्स से डाउनलोड करें यूपी बोर्ड 12वीं सैंपल पेपर 2023, जानें फायदे


कार्रवाई से गया सख्त संदेश
24 घंटे के अंदर हुई इन दो बड़ी कार्रवाइयों से न्यायपालिका में हड़कंप मचा हुआ है. इन कार्रवाइयों के पीछे हाईकोर्ट को यह सख्त संदेश देना था कि न्यायपालिका में भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. न्यायपालिका पर लोगों का जबरदस्त भरोसा बना हुआ है और भ्रष्टाचार के आरोप लगने से यह भरोसा टूटता है. ऐसे में इस तरह की कार्रवाई बेहद जरूरी होती है. इस तरह की सख्त कार्रवाई से न्यायपालिका पर लोगों का भरोसा पहले की तरह ही कायम रहेगा. इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील विजय चंद्र श्रीवास्तव और महिला वकील सुनीता शर्मा का कहना है कि हाईकोर्ट का यह कदम स्वागत के लायक है. वीसी श्रीवास्तव और सुनीता शर्मा के मुताबिक ऐसे कदमों से न्यायपालिका के प्रति लोगों का सम्मान और विश्वास दोनों बढ़ता है. आगे भी इस तरह के ही सख्त कदम उठाए जाने जरूरी हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Allahabad high court, UP latest news

FIRST PUBLISHED : September 29, 2022, 09:54 IST
अधिक पढ़ें