Home / News / uttar-pradesh /

allahabad high court order pratapgarh auto tractors limited land returned to upsida nodelsp

ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड कर्मचारियों को हाईकोर्ट से मिली राहत, सरकार चुकाएगी 67.92 करोड़

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रतापगढ़ स्थित ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड की 97.92 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण को लौटाने का निर्देश दिया है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रतापगढ़ स्थित ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड की 97.92 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण को लौटाने का निर्देश दिया है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रतापगढ़ स्थित ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड की 97.92 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण को लौटाने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने प्राधिकरण से भी कहा है कि जमीन के एवज में 67.92 करोड़ रुपये कंपनी समापक के पास दो सप्ताह में जमा कराएं.

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रतापगढ़ स्थित ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड की 97.92 एकड़ जमीन उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण को लौटाने का निर्देश दिया है. कोर्ट ने प्राधिकरण से भी कहा है कि जमीन के एवज में 67.92 करोड़ रुपये कंपनी समापक के पास दो सप्ताह में जमा कराएं. यह आदेश जस्टिस रोहित रंजन अग्रवाल की सिंगल बेंच ने मेसर्स आटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड को दिया है.

हाईकोर्ट ने कंपनी समापक को निर्देश दिया है कि धनराशि जमा होने की रिपोर्ट दो कार्य दिवस के भीतर कोर्ट को उपलब्ध कराएं. साथ ही इसके दो सप्ताह के भीतर यूपीएसआईडीए को कंपनी समापन सेल लेटर जारी करें. कोर्ट ने कंपनी का समापक को दो माह के भीतर कंपनी की सभी देनदारियों जिनमें सिक्योर्ड क्रेडिटर्स, कर्मचारियों व अन्य लोगों का पूरा बकाया भुगतान को करने का निर्देश दिया है.

पांच प्रतिशत अपने पास सुरक्षित रखेगी कंपनी
कोर्ट ने कंपनी समापक से प्राप्त धनराशि का पांच फीसदी हिस्सा अपने पास सुरक्षित रखने के लिए कहा है. सभी बकायेदारों को सात मई 2020 तक की अवधि का चार प्रतिशत ब्याज के साथ भुगतान किया जाएगा. कोर्ट ने कंपनी समापक से कहा है कि सभी भुगतान के बाद बची हुई धनराशि अलग खाते में जमा करें, जो भविष्य में उत्पन्न होने वाली किसी जिम्मेदारी के भुगतान में काम आएगी. यह भी कहा है कि यूपीआईडीए भविष्य में उत्पन्न होने वाली किसी जिम्मेदारी के प्रति जवाबदेह नहीं होगी.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

प्रयागराज जंक्शन में लगाई गई विभाजन की प्रदर्शनी, दृश्य देखकर लोगों की आंखों में आ जाते हैं आंसू

Sarkari Naukri 2022: बिजली विभाग में निकली है 1000 से अधिक वैकेंसी, ग्रेजुएशन पास के लिए मौका, सैलरी 86000 तक

प्रयागराज में लव जिहाद; मुस्लिम युवक ने धर्म छुपाकर हिंदू लड़की का बनाया आपत्तिजनक वीडियो, जानें मामला

पुलिस महकमे में सत्यनिष्ठा पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, कहा- इसके लिए सजा का कोई प्रावधान नहीं

महंत नरेंद्र गिरी मौत मामला: अमर गिरी और पवन महाराज बाघम्बरी मठ से निष्कासित, जानें वजह

Sarkari Naukri UP: यूपी में बंपर भर्ती, 900 से अधिक वैकेंसी, 62 साल तक के उम्मीदवारों के लिए मौका

प्रयागराज से गोरखपुर की इंडिगो फ्लाइट तकनीकी खराबी की वजह से कैंसिल, यात्रियों की हुई फजीहत

Azadi Ka Amrit Mahotsav: केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने चलाई स्कूटी, बोलीं- प्रयागराज की माटी बलिदान का प्रतीक

सेना में दी गई सेवाओं को जोड़कर कॉन्स्टेबल का वेतन निर्धारित करने का आदेश, जानें पूरा मामला

Sarkari Naukri UP: यूपी में इन पदों पर हो रही है बंपर भर्ती, 600 से अधिक वैकेंसी, सैलरी 1.77 लाख तक

हाईकोर्ट में सरकार की दलील- यूपीपीएससी भर्ती में नियमानुसार दिया गया पूर्व सैनिकों को आरक्षण


कंपनी के घाटे में जाने पर सरकार ने लिया था विघटन का फैसला
गौरतलब है कि प्रतापगढ़ स्थित ऑटो ट्रैक्टर्स लिमिटेड कंपनी घाटे में होने के कारण सरकार ने इसके विघटन का फैसला लिया था. इससे पूर्व सरकार ने भूमि अधिग्रहण कर 97.5 एकड़ जमीन यूपीएसआईडीसी को सौंप दी थी. यूपीएसआईडीसी यह जमीन कंपनी को स्थानांतरित की गई. विघटन प्रक्रिया के दौरान कंपनी बिग डक व यूपीएसआईडीसी के मध्य एक समझौता हुआ कि कंपनी यूपीएसआईडीसी द्वारा दी गई 97.92 एकड़ जमीन उसे वापस कर देगी और इसके एवज में यूपीएसआईडीसी कंपनी को 67.92 करोड़ रुपये का भुगतान करेगा. शर्त में यह शामिल था कि यूपीएसआईडीसी भविष्य में उत्पन्न होने वाली कंपनी की जिम्मेदारियों के प्रति भी जवाबदेह होगी. इस समझौते पर सभी सिक्योर्ड क्रेडिटर्स ने भी सहमति जताते हुए हस्ताक्षर किए थे. बाद में यूपीएसआईडीसी ने भविष्य में उत्पन्न होने वाली जवाबदेही के प्रति जिम्मेदार होने से इनकार कर दिया, जिससे मामला कोर्ट में पहुंच गया था.


Tags:Allahabad high court, Prayagraj News, UP news, UPSIDC, Yogi government