लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य से जुड़े गलत हलफनामा के मामले में लोअर कोर्ट से प्रार्थना पत्र निरस्त किए जाने को चुनौती देने वाली याचिका इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी सुनवाई के बाद खारिज कर दी है. लोअर कोर्ट प्रयागराज ने एफआईआर रद्द किए जाने की मांग वाली अर्जी कर खारिज कर दी थी.

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को बड़ी राहत मिली है.

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को बड़ी राहत मिली है.

प्रयागराज. यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लोअर कोर्ट के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका खारिज कर दी है. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने की मांग को लेकर लोअर कोर्ट में प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया था. जिसे लोअर कोर्ट ने निरस्त कर दिया था. लोअर कोर्टसे प्रार्थना पत्र निरस्त किए जाने को चुनौती देने वाली याचिका को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भी सुनवाई के बाद खारिज कर दी है. लोअर कोर्ट प्रयागराज ने एफआईआर रद्द किए जाने की मांग वाली अर्जी कर खारिज कर दी थी.

सामाजिक कार्यकर्ता व पूर्व बीजेपी नेता दिवाकर नाथ त्रिपाठी ने निचली अदालत में 19 जुलाई 2021 को धारा 156 (3) सीआरपीसी के तहत अर्जी दाखिल की थी. उन्होंने याचिका में आरोप लगाया था कि डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने 2012 में सिराथू विधानसभा सीट व 2007 में इलाहाबाद शहर पश्चिमी विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था. चुनाव लड़ने के दौरान उन्होंने निर्वाचन आयोग के समक्ष गलत हलफनामा दाखिल किया था. चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे में उन्होंने अपनी शैक्षिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी दी थी. इसके साथ ही यह भी आरोप लगाया गया था कि इंडियन आयल कार्पोरेशन से सदोष लाभ प्राप्त करने के लिए कूट रचित शैक्षणिक दस्तावेज पेश किया था.

निचली अदालत ने 4 सितंबर 2021 को याची दिवाकर नाथ त्रिपाठी के प्रार्थना पत्र को खारिज कर दिया था. निचली अदालत ने कहा था कि आरोपों के संबंध में कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किया गया है. निचली अदालत के इसी आदेश को दिवाकर नाथ त्रिपाठी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर चुनौती दी थी. कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद याचिका खारिज कर दी है. जस्टिस समित गोपाल की सिंगल बेंच ने याचिका खारिज की है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

CBSE Board Admit Card 2023: सीबीएसई 10वीं 12वीं परीक्षा के एडमिट कार्ड की तय हो गई है डेट, चेक करें अपडेट

'संविधान विरोधी बात करने वाला आतंकवादी...' धीरेंद्र शास्त्री पर बोले स्वामी मौर्या, प्रयागराज के संतों ने चेताया

Health Tips: नकली तुलसी की ऐसे करें असली पहचान, जानिए सेहत के लिए कितनी है फायदेमंद

Prayagraj: बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री 2 फरवरी को लगाएंगे दरबार, सुरक्षा व्यवस्था बनी चुनौती

Prayagraj News : इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हजारों छात्र-छात्राओं ने किया पैदल मार्च जानिए क्या है मामला

Prayagraj news: बागेश्वरधाम पीठाधीश्वर का यहां भी लगेगा दरबार, लोग भी स्वागत को तैयार

UPPSC Recruitment 2023: यूपी में एक साथ निकली 5 भर्तियां, जानें कहां-कहां है वैकेंसी

Rewa News: इश्क में डूबी 4 बच्चों की विधवा मां का कत्ल, प्रयागराज पुलिस तलाश रही फरार माशूक को

Prayagraj: Eat on Biryani में मिलती है लाजवाब बिरयानी, हर दिन बड़े चाव से खाते हैं 5000 लोग

UP Board Exam 2023: 16 फरवरी से शुरू होगी यूपी बोर्ड परीक्षा 2023, जानें कब जारी होंगे एडमिट कार्ड

Prayagraj: मोबाइल गेम्स नहीं, बल्कि 'वेदपाठ' करते हैं यहां के बच्चे, इस गुरुकुल की यह है पात्रता



ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Allahabad high court, Deputy CM Keshav Prasad Maurya, UP news

FIRST PUBLISHED : November 26, 2022, 23:29 IST
अधिक पढ़ें