लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

इंसाफ की रोशनी के लिए अंधेरे से जंग, बिजली विभाग से अनोखी लड़ाई लड़ रहा प्रयागराज का यह परिवार

इंसाफ की रोशनी के लिए अंधेरे से जंग, बिजली विभाग से अनोखी लड़ाई लड़ रहा प्रयागराज का यह परिवार

Revised Electricity Bill: 8 साल पुराना यह मामला प्रयागराज के धूमनगंज थाना क्षेत्र का है. इस परिवार की नीलम जौहरी ने बताया कि वे लोग अपनी बीमार बेटी की देखभाल करने आगरा गए थे. कुछ महीने बाद जब वे लौटे तो बिजली विभाग ने उन्हें 28000 का बिल थमा दिया. बिल जमा न करने पर उनके घर का बिजली कनेक्शन काट दिया. तब से 8 साल तक इन्होंने बिना बिजली के अपने घर में वक्त गुजारा है.

हाइलाइट्स

इस गलत बिल के खिलाफ पीड़ित परिवार ने कई अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन किसी ने न सुनी.
तब इस परिवार को परिवाद दाखिल करना पड़ा, जहां जांच में अधिकारियों की लापरवाही सामने आई.
बिजली विभाग ने 28000 रुपए के बिल को संशोधित कर 4000 रुपए का बिल इस परिवार को दिया.
परिवार की मांग है कि गलत बिल के दोषी अधिकारियों को सजा दी जाए, तभी ये दोबारा कनेक्शन लेंगे.

रिपोर्टर : योगेश मिश्रा

प्रयाजराज. सरकार का दावा है कि दूरदराज गांवों में रहनेवाले गरीब परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है. लेकिन प्रयागराज शहर के बीचो-बीच रहनेवाला एक परिवार पिछले 8 साल से अंधेरे में रह रहा है. पीड़ित परिवार का आरोप है कि 2015 में बिजली विभाग ने गलत बिल दिया था. इतना ही नहीं, उसने बिल न भरने पर घर की बिजली का कनेक्शन भी काट दिया था. बाद में विभाग ने बिल की अपनी चूक सुधारते हुए सही बिल जारी कर दिया. लेकिन इस परिवार की मांग है कि गलत बिल देने और घर का बिजली कनेक्शन काटने का आदेश देने वालों को सजा होनी चाहिए. इसके लिए यह परिवार अधिकारियों से लगातार गुहार लगा रहा है पर कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही.

यह परिवार प्रयागराज के धूमनगंज थाना क्षेत्र में रहता है. इस परिवार की नीलम जौहरी ने न्यूज18 लोकल टीम को बताया कि उनकी बेटी आगरा स्थित आईसीएमआर के सेंटर में रिसर्च प्रोजेक्ट करती थी. आगरा में ही केमिकल रिएक्शन होने की वजह से उसकी तबीयत बिगड़ने लगी. उस वक्त यह परिवार अपनी बेटी की देखभाल करने के लिए आगरा चला गया. कुछ महीने बाद बीमारी ने उनकी बेटी की जान ले ली. फिर जब यह शोकाकुल परिवार अपने घर जनपद प्रयागराज लौटा तो कुछ ही समय बाद बिजली विभाग ने उन्हें 28000 का बिल थमा दिया.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

UP: शिवपाल यादव की सुरक्षा में कटौती के बाद अब मंत्री वाला बंगला भी कराया जाएगा खाली

सपा विधायक नाहिद हसन को इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत, गैंगस्टर केस में मिली बेल

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

UP Board Exam 2023: इन 4 स्टेप्स से डाउनलोड करें यूपी बोर्ड 12वीं सैंपल पेपर 2023, जानें फायदे

Allahabad High Court: अनुदेशकों को बड़ा झटका, हाइकोर्ट ने सुनाया सिर्फ 1 साल का मानदेय देने का फैसला

UP Board Exam 2023: बोर्ड परीक्षा की तैयारी के दौरान क्या करें और क्या न करें? इन बातों का रखें ख्याल

CM योगी सर, 7 दिसंबर को मेरी शादी है, आप भी आएं, लेकिन इससे पहले सड़क बनवा दें... प्रयागराज की मुस्लिम बिटिया ने किया ट्वीट

... जब हार का डर होता है तो डेरा भी डाला जाता है और चाचा के पैर भी छुए जाते हैं... बीजेपी का अखिलेश यादव पर तंज

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव: पल्लवी पटेल ने आखिर क्यों कहा कि मैं तो प्रतीक्षा सूची में हूं?

रु 4500 का हर्जाना देने की जगह 7 सालों तक मुकदमा लड़ता रहा डाक विभाग, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई कड़ी फटकार

Sarkari Naukri 2022 : इलाहाबाद विवि के कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने का मौका, इसी महीने जारी होगा विज्ञापन


पीड़ित परिवार ने कई बार इसकी शिकायत तत्कालीन अधिशासी अभियंता और एसडीओ से भी की. लेकिन अधिकारियों ने पीड़ित परिवार की एक न सुनी. मजबूरन पीड़ित परिवार को परिवाद दाखिल करना पड़ा, जहां जांच में अधिकारियों की लापरवाही सामने आई और पीड़ित परिवार को दिए गए 28000 रुपए का बिल संशोधित कर 4000 रुपए किया गया. पीड़ित परिवार की मांग है कि जब जांच में अधिकारी दोषी पाए गए तो उनके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई. परिवार का कहना है कि जब तक दोषी अधिकारियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई नहीं की जाती, तब तक वह बिजली कनेक्शन नहीं लेगा.

वर्तमान अधिशासी अभियंता मनोज गुप्ता ने बताया कि बीते दिनों ऊर्जा मंत्री प्रयागराज में दौरे पर आए थे. उन्होंने इस पीड़ित परिवार को बिजली कनेक्शन देने की बात कही थी. जानकारी में आने के तुरंत बाद ही बिजली विभाग के अधिकारी और कर्मचारी पीड़ित परिवार के घर गए, जहां उनसे बिजली कनेक्शन लगवाने की बात कही. लेकिन पीड़ित परिवार अपनी बात पर अड़ा हुआ है. साथ ही कुछ महीने पहले पीड़ित परिवार ने सोलर पैनल लगा लिया है, जिसके लिए भी अलग से मीटर लगाया जाता है. अगर वह परिवार बिजली विभाग का नेट कनेक्शन लेगा तो उससे परिवार को फायदा भी मिलेगा लेकिन लाख कोशिशों के बाद भी पीड़ित परिवार अपनी मांग पर अड़ा हुआ है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Electricity bill, Prayagraj News, UP news

FIRST PUBLISHED : September 26, 2022, 19:26 IST
अधिक पढ़ें