लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

सेंट्रल जेल में बंद आनंद गिरि ने डिप्टी जेलर पर लगाया जान से मारने की धमकी देने का आरोप

सेंट्रल जेल में बंद आनंद गिरि ने डिप्टी जेलर पर लगाया जान से मारने की धमकी देने का आरोप

Prayagraj News: आनंद गिरि के दो वकील विजय कुमार द्विवेदी और बृज बिहारी मंगलवार शाम को उनसे मिलने के लिए प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल पहुंचे थे. आरोप है कि आनंद गिरि जब वकीलों से बातचीत कर रहे थे तो उस समय वहां डिप्टी सुपरिटेंडेंट आरके सिंह भी पहुंचे. आरोपों के मुताबिक आरके सिंह ने वकीलों व दूसरे लोगों की मौजूदगी में आनंद गिरि को जान से मारने की धमकी दी.

Prayagraj: आनंद गिरी ने जेल प्रशासन पर लगाए गंभीर आरोप

Prayagraj: आनंद गिरी ने जेल प्रशासन पर लगाए गंभीर आरोप

हाइलाइट्स

आनंद गिरी ने नैनी संतीराल जेल प्रशासन की शिकायत प्रमुख सचिव गृह से की है
नैनी जेल प्रशासन ने आनंद गिरी के आरोपों को अनर्गल बताया

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की खुदकुशी मामले में मुख्य आरोपी आनंद गिरि ने नैनी सेंट्रल जेल प्रशासन पर गंभीर आरोप लगाया है. उन्होंने जेल केडिप्टी सुपरिटेंडेंट पर जान से मारने की धमकी देने, गाली गलौज करने और वकीलों के सामने मारपीट की कोशिश करने का आरोप लगाया है. पूरी घटना प्रयागराज स्थित नैनी सेंट्रल जेल में मंगलवार 16 अगस्त शाम करीब 5:15 बजे की बताई जा रही है.

दरअसल, आनंद गिरि के दो वकील विजय कुमार द्विवेदी और बृज बिहारी  मंगलवार शाम को उनसे मिलने के लिए प्रयागराज की नैनी सेंट्रल जेल पहुंचे थे. आरोप है कि आनंद गिरि जब वकीलों से बातचीत कर रहे थे तो उस समय वहां डिप्टी सुपरिटेंडेंट आरके सिंह भी पहुंचे. आरोपों के मुताबिक आरके सिंह ने वकीलों व दूसरे लोगों की मौजूदगी में आनंद गिरि को जान से मारने की धमकी दी. इस दौरान उन्हें मारने के लिए झपटे और जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए गालियां दीं. यह भी आरोप है कि वकीलों ने बीच बचाव करने की कोशिश की तो उनके साथ भी बदसलूकी की गई.

प्रमुख सचिव गृह से की शिकायत
आनंद गिरि के वकीलों ने जेल से बाहर निकलकर यूपी के प्रमुख सचिव गृह को शिकायती पत्र भेजा है. आनंद गिरि के कहने पर ही वकीलों ने यूपी सरकार से पूरे मामले की शिकायत की है. शिकायत की कॉपी प्रयागराज के डीएम, एसएसपी और डिस्ट्रिक्ट जज को भी भेजी गई है. आनन्द गिरि की ओर से भेजे गए शिकायती पत्र में डिप्टी सुपरिटेंडेंट पर जेल में अवैध रूप से कैंटीन के संचालन का भी आरोप लगाया गया है. इस पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच करा कर उचित कार्रवाई किए जाने की मांग की गई है. शिकायती पत्र में यह भी कहा गया कि आनंद गिरी को हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है. उन्हें सुबह-शाम सिर्फ एक एक घंटे ही बाहर निकाला जाता है. इसके साथ ही जेल में उनका उत्पीड़न किया जा रहा है. आनंद गिरि के निर्देश पर ही उनके वकीलों ने यह शिकायती पत्र भेजा है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

शैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

Sarkari Naukri 2022 : इलाहाबाद विवि के कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर बनने का मौका, इसी महीने जारी होगा विज्ञापन

जवाहर बाग हिंसा कांड: इलाहाबाद हाईकोर्ट में आज होगी सुनवाई, 70 महीने बाद भी नहीं हुई CBI जांच पूरी

मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव: पल्लवी पटेल ने आखिर क्यों कहा कि मैं तो प्रतीक्षा सूची में हूं?

CM योगी सर, 7 दिसंबर को मेरी शादी है, आप भी आएं, लेकिन इससे पहले सड़क बनवा दें... प्रयागराज की मुस्लिम बिटिया ने किया ट्वीट

UP Board Exam 2023: बोर्ड परीक्षा की तैयारी के दौरान क्या करें और क्या न करें? इन बातों का रखें ख्याल

UP Board Exam 2023: इन 4 स्टेप्स से डाउनलोड करें यूपी बोर्ड 12वीं सैंपल पेपर 2023, जानें फायदे

रु 4500 का हर्जाना देने की जगह 7 सालों तक मुकदमा लड़ता रहा डाक विभाग, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई कड़ी फटकार

... जब हार का डर होता है तो डेरा भी डाला जाता है और चाचा के पैर भी छुए जाते हैं... बीजेपी का अखिलेश यादव पर तंज

UPSC Free Coaching: यूपी में ये लोग मुफ्त में कर सकते हैं UPSC की तैयारी, जानें कब होगा एंट्रेंस टेस्ट

सपा विधायक नाहिद हसन को इलाहाबाद हाई कोर्ट से बड़ी राहत, गैंगस्टर केस में मिली बेल


जेल प्रशासन ने आरोपों को नकारा
वहीं इस पूरे मामले में जेल प्रशासन ने ऐसी किसी भी घटना से ही इनकार किया है. नैनी सेंट्रल जेल के सीनियर सुपरीटेंडेंट पीएन पांडेय ने कहा कि दोनों वकील आनंद गिरि के साथ ही इस केस से जुड़े दूसरे आरोपियों से भी मिलना चाहते थे. इसके लिए उन्हें इजाजत नहीं दी गई. जेल मैनुअल का पालन करते हुए इजाजत नहीं दिए जाने की वजह से ही आनन्द गिरि के वकील जेल प्रशासन पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं. जेल प्रशासन का दावा है कि आनंद गिरि या किसी भी बंदी के साथ कोई बदसलूकी नहीं हुई है. सिर्फ नियमों के हिसाब से मुलाकात कराई गई है. जिसको लेकर आनंद गिरि ने झूठी शिकायत की है. जेल प्रशासन का दावा है कि आनंद गिरि ने 5 दिन पहले अस्पताल में भर्ती होने की कोशिश की थी. लेकिन उनकी मेडिकल कंडीशन के आधार पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत नहीं थी. लिहाजा बाहर से जांच करा कर उनका इलाज जेल में ही कराया जा रहा है.

महंत नरेंद्र गिरी सुसाइड केस में मुख्य आरोपी हैं आनंद गिरी
गौरतलब है कि आनंद गिरि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के दिवंगत  अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के शिष्य हैं. आनंद गिरि अपने ही गुरु महंत नरेंद्र गिरि खुदकुशी केस में मुख्य आरोपी हैं और 22 सितंबर 2021 से नैनी सेंट्रल जेल में बंद हैं. महंत नरेंद्र गिरि 20 सितंबर 2021 को श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के गेस्ट हाउस में पंखे से नायलॉन की रस्सी से लटके पाए गए थे. शिष्यों द्वारा नीचे उतारने पर उनकी सांसें थम चुकी थी और उनकी मौत हो गई थी. महंत नरेन्द्र गिरी कि जिस कमरे में मौत हुई थी उसी कमरे से सुसाइड नोट बरामद हुआ था. जिसमें आनंद गिरि के अलावा आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को भी आत्महत्या के लिए उकसाने का जिम्मेदार बताया गया था. आनंद गिरि के साथ ही आद्या प्रसाद तिवारी और उसका बेटा संदीप तिवारी भी नैनी सेंट्रल जेल में ही बंद है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Mahant Anand Giri, Prayagraj News, UP latest news

FIRST PUBLISHED : August 17, 2022, 06:38 IST
अधिक पढ़ें