Home / News / uttar-pradesh /

up government argument in ald high court reservation to ex servicemen given as per rules in uppsc recruitment ssp

हाईकोर्ट में सरकार की दलील- यूपीपीएससी भर्ती में नियमानुसार दिया गया पूर्व सैनिकों को आरक्षण

यूपी लोक सेवा आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को रद्द किए जाने के एकल पीठ के आदेश के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में विशेष अपील दाखिल की है.

यूपी लोक सेवा आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को रद्द किए जाने के एकल पीठ के आदेश के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में विशेष अपील दाखिल की है.

UPPCS EXAM 2021: यूपीपीसीएस 2021 प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट रद्द करने के फैसले के खिलाफ विशेष अपील पर सुनवाई हुई है. यूपी लोक सेवा आयोग की ओर से दलील दी गई कि कानून के मुताबिक ही पूर्व सैनिकों को पीसीएस भर्ती में आरक्षण दिया गया है. 23 अगस्त को मामले की अगली सुनवाई होगी.

हाइलाइट्स

यूपी लोकसेवा आयोग की ओर से दलील दी गई कि कानून के मुताबिक ही पूर्व सैनिकों को आरक्षण दिया गया.
इस मामले में आज बहस पूरी नहीं हो सकी. कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए 23 अगस्त की तारीख तय की है.
जस्टिस अंजनी कुमार मिश्रा की अगुवाई वाली डिवीजन बेंच में मामले की सुनवाई हुई.

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की पीसीएस 2021 प्रारंभिक परीक्षा का परिणाम निरस्त करने के सिंगल बेंच के फैसले के खिलाफ यूपी लोक सेवा आयोग की ओर दाखिल विशेष अपील पर मंगलवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट मे सुनवाई हुई. मामले में राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता अजय कुमार मिश्र ने पक्ष रखा. जबकि यूपी लोक सेवा आयोग की ओर से सीनियर एडवोकेट गोविंद कुमार सिंह, अधिवक्ता निपुण सिंह और अवनीश त्रिपाठी ने पक्ष रखा.

यूपी लोक सेवा आयोग की ओर से दलील दी गई कि कानून के मुताबिक ही पूर्व सैनिकों को पीसीएस भर्ती में आरक्षण दिया गया है. हालांकि इस मामले में आज बहस पूरी नहीं हो सकी. कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए 23 अगस्त की तारीख तय की है. मामले की सुनवाई कर रही जस्टिस प्रीतिंकर दिवाकर की अध्यक्षता वाली डिवीजन बेंच के ना बैठने के चलते जस्टिस अंजनी कुमार मिश्रा की अगुवाई वाली डिवीजन बेंच में मामले की सुनवाई हुई.


एकल फैसले के खिलाफ की गई विशेष अपीलबता दें कि यूपी लोक सेवा आयोग ने प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को रद्द किए जाने के एकल पीठ के आदेश के खिलाफ इलाहाबाद हाईकोर्ट में विशेष अपील दाखिल की है. हाईकोर्ट की एकल पीठ ने पीसीएस-2021 की प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को पूर्व सैनिकों को पांच फीसदी का लाभ न दिए जाने के आधार पर रद्द कर दिया था. जबकि आयोग मुख्य परीक्षा कराने के बाद साक्षात्कार भी पूरा कर चुका है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

OMG! 7 फीट के अजगर ने रोडवेज बस में किया 70 किलोमीटर का सफर... और फिर

वकील हत्या मामले में दारोगा को मिली आजीवन कारावास की सजा, 7 साल बाद आया फैसला

रेप पीड़‍िता से शादी करने वाले आरोपी को HC से बड़ी राहत, कोर्ट बोला-पति को सजा सुनाई तो समाज हित में नहीं होगा

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में फीस वृद्धि के खिलाफ जमकर हंगामा, छात्रों ने की तालाबंदी

इंसाफ की रोशनी के लिए अंधेरे से जंग, बिजली विभाग से अनोखी लड़ाई लड़ रहा प्रयागराज का यह परिवार

UP: जेल में बंद गालीबाज श्रीकांत त्यागी को हाईकोर्ट से झटका, नहीं मिली जमानत

‘पापा से बात कर लो, मेरी सगाई हो चुकी है’, मंगेतर के सामने युवती से दबंगई और छेड़छाड़, वीडियो वायरल

UPPSC APO Prelims Result 2022: यूपीपीएससी ने जारी किया एपीओ प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट, इतने उम्मीदवार हुए सफल

Allahabad University UG Admission 2022: इलाहाबाद विश्वविद्यालय में जल्द शुरू होंगे यूजी कोर्सेज में एडमिशन, पढ़ें जरूरी नोटिस

इलाहाबाद हाईकोर्ट की अहम टिप्पणी, बच्चों की खुशी के लिए मतभेदों को दूर करें माता-पिता

UP: छेड़खानी के आरोपी ने पुलिस पर की फायरिंग, स्पेशल टीम ने एनकाउंटर कर दबोचा


पूर्व सैनिकों को इस भर्ती में नहीं मिला आरक्षणबता दें कि जूनियर वारंट ऑफिसर सतीश चंद्र शुक्ला व तीन अन्य ने याचिका दाखिल कर पीसीएस-2021 के घोषित प्रारंभिक परीक्षा परिणाम को चुनौती दी थी. याचिका में कहा गया था कि यूपी सरकार की ओर से अधिसूचना जारी होने के बावजूद पूर्व सैनिकों को इस भर्ती परीक्षा में आरक्षण नहीं दिया गया. इलाहाबाद हाईकोर्ट की एकलपीठ ने सुनवाई कर अपने आदेश में प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम को रद्द कर दिया था. कोर्ट ने अपने फैसले में नए सिरे से परिणाम जारी करने का आदेश दिया था. यूपी लोक सेवा आयोग ने एकल पीठ के फैसले के खिलाफ विशेष अपील दाखिल कर उसे चुनौती दी है.

Tags:Allahabad high court, Allahabad High Court Order, Prayagraj News Today, UPPSC

अधिक पढ़ें