Home / News / uttar-pradesh /

supreme court comment on nupur sharma mahant raju das objected to judge remark nodelsp

नूपुर शर्मा के बचाव में आए अयोध्या के संत, कहा- सुप्रीम कोर्ट को फैसले पर करना चाहिए पुनर्विचार

नूपुर शर्मा द्वारा की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद सुप्रीम कोर्ट की फटकार पर अयोध्या के संतों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

नूपुर शर्मा द्वारा की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद सुप्रीम कोर्ट की फटकार पर अयोध्या के संतों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है.

Ayodhya News: महंत राजू दास ने तर्क देते हुए कहा- 'ग्रंथों में लिखा है कि रामलला की जन्मस्थली अयोध्या है माता सीता जनकपुर में धरती से पैदा हुई भगवान बनवासी और ग्रह वासी के साथ भोजन करते थे तो इसमें सनातन धर्म संस्कृति की हानि नहीं हो गई. जो कुछ नूपुर शर्मा ने कहा वह तो किताबों में ही लिखा है.

अयोध्या. नूपुर शर्मा द्वारा की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद सुप्रीम कोर्ट की फटकार पर अयोध्या के संतो ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. देवी देवताओं के ऊपर अपमानजनक टिप्पणी करने वाले लोग उनके साथ यह न्याय नहीं है.’ महंत राजू दास ने कहा- ‘नूपुर शर्मा ने वही कहा है जो कुरान में लिखा है और वह भी तब जब देवी-देवताओं के ऊपर अभद्र टिप्पणी की गई. संत धर्माचार्य ने अपील करते हुए मांग की है कि न्यायाधीश को इस पर एक बार विचार विमर्श करना चाहिए. लोग सुप्रीम कोर्ट की तरफ न्याय भरी निगाह से देखते हैं.’

जगद्गुरु परमहंसा आचार्य ने इसे न्यायाधीश का व्यक्तिगत बयान बताते हुए कहा- ‘यह सुप्रीम कोर्ट का बयान नहीं है. यह सीजेआई का निजी बयान है. हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास ने कहा- ‘मैं देश के संविधान और कानून का सम्मान करता हूं. न्यायालय सर्वोपरि है. नूपुर शर्मा के साथ ज्यादती हो रही है. नूपुर शर्मा के साथ अन्याय हो रहा है. बहुसंख्यक समाज के साथ अन्याय हो रहा है. हिंदू देवी देवताओं के ऊपर भद्दा कमेंट करने वाले के साथ आप अन्याय कर रहे हैं. राजू दास से अपील करते हुए कहा कि पूरे देश में दो मामले ऐसे हुए जिसमें नूपुर शर्मा के समर्थन में दो लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी. कोर्ट को अपने फैसले पर एक बार पुनर्विचार करना चाहिए.


बाहुबली अतीक अहमद के बड़े बेटे मोहम्मद उमर की अब बढ़ेंगी मुश्किलें, पुलिस तैयार कर रही हिस्ट्री शीट

आपके शहर से (अयोध्या)

मिसाल: 10वीं की छात्रा ईशानी ने अपनी पॉकेट मनी से वंचित बच्चों के लिए खोली लाइब्रेरी, देखें किताबघर की तस्वीरें

बर्थडे पार्टी में पिलाया नशीला सॉफ्ट ड्रिंक, 3 दोस्तों ने किया युवती के साथ गैंगरेप

शाहजहांपुर: शराब कारोबारी के 1 करोड़ से ज्यादा की चोरी कर 2 कर्मचारी रफूचक्कर, जानें पूरा मामला

चाइल्ड पोर्नोग्राफी मामले में सीबीआई ने कोर्ट में दाखिल की 2 हजार पन्ने की चार्जशीट, लगे हैं गंभीर आरोप

पति से तंग होकर पत्नी ने उठाया खौफनाक कदम, दो बच्चों समेत खुद फांसी लगाकर खत्म कर ली जिंदगी

मुजफ्फरनगर: देशभक्ति के रंग में सराबोर होकर सैकड़ों मुस्लिम छात्राओं ने निकाली तिरंगा यात्रा

प्रयागराज से गोरखपुर की इंडिगो फ्लाइट तकनीकी खराबी की वजह से कैंसिल, यात्रियों की हुई फजीहत

हाईकोर्ट में सरकार की दलील- यूपीपीएससी भर्ती में नियमानुसार दिया गया पूर्व सैनिकों को आरक्षण

संदिग्ध आतंकी सैफुल्लाह और मोहम्मद नदीम के तार गुजरात, महाराष्ट्र और कश्मीर से जुड़े, एटीएस ने ली कस्टडी रिमांड

पुलिस महकमे में सत्यनिष्ठा पर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, कहा- इसके लिए सजा का कोई प्रावधान नहीं

महाराजगंज: नाबालिग से रेप के आरोपी को आजीवन कारावास, कोर्ट ने 50 हजार हर्जाना भी लगाया


महंत राजू दास ने तर्क देते हुए कहा- ‘ग्रंथों में लिखा है कि रामलला की जन्मस्थली अयोध्या है माता सीता जनकपुर में धरती से पैदा हुई भगवान बनवासी और ग्रह वासी के साथ भोजन करते थे तो इसमें सनातन धर्म संस्कृति की हानि नहीं हो गई. जो कुछ नूपुर शर्मा ने कहा वह तो किताबों में ही लिखा है. नूपुर शर्मा ने कह दिया तो कहां गलत है.’ वहीं तपस्वी छावनी के पीठाधीश्वर जगतगुरु परमहंस आचार्य ने कहा- ‘न्यायपालिका सर्वोपरि है और न्यायपालिका का सम्मान सबको करना चाहिए. नूपुर शर्मा मामले पर जो बयान हुआ वह सुप्रीम कोर्ट का नहीं व्यक्ति विशेष का बयान है. कोर्ट को निजी टिप्पणी नहीं करना चाहिए.’

Tags:Ayodhya News, Nupur Sharma, Supreme Court, UP news