लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

Kanpur: मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद 6 लोगों के आंखों की गई रोशनी, अस्पताल पर FIR दर्ज

Kanpur: मोतियाबिंद ऑपरेशन के बाद 6 लोगों के आंखों की गई रोशनी, अस्पताल पर FIR दर्ज

कानपुर स्थित आराध्या अस्पताल में बीते दो नवंबर को छह बुजुर्ग व्यक्तियों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. ऑपरेशन के बाद मरीजों ने बताया कि उनके सिर और आंखों में दर्द हो रहा है. साथ ही उन्हें दिखाई देना भी बंद हो गया है. उन्होंने डॉक्टरों से अपनी समस्या के बारे में बताया तो उन्होंने टैबलेट देकर वापस भेज दिया गया, लेकिन उन्हें इससे आराम नहीं मिला तो वो कई बार अस्पताल आए. अस्पताल प्रशासन ने यहां इनकी एक बात न सुनी

  • News18Hindi 
  • Last Updated :

अखंड प्रताप सिंह

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर में स्वास्थ्य विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. इसके कारण पिछले दिनों छह लोगों के आंखों की रोशनी चली गई थी. इस मामले में सीएमओ ने एक जांच कमेटी बनाई थी. समिति ने अपनी जांच पूरी कर ली है और रिपोर्ट सौंप दी है. जांच रिपोर्ट के बाद कानपुर के बर्रा थाने में अस्पताल प्रशासन और ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

दरअसल, कानपुर के शिवराजपुर में निःशुल्क नेत्र जांच शिविर लगाया गया था. इसमें लोगों की आंखों की जांच की गई थी जिनमें से छह बुजुर्गों को मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराने की सलाह दी गई थी. इसके बाद यह सभी लोग बर्रा इलाके में स्थित आराध्या अस्पताल पहुंचे थे. यहां उनकी आंखों का ऑपरेशन किया गया था, लेकिन इसके बाद से उनको दिखाई देना पूरी तरीके से बंद हो गया था. इन सभी लोगों ने अस्पताल प्रशासन को अपनी समस्या बताई, लेकिन किसी ने उनकी सुध नहीं ली तब उन्होंने सीएमओ से इस मामले की शिकायत की थी.

आपके शहर से (कानपुर)

Parag Milk Price Increase: महंगाई का एक और झटका, पराग ने दूध के दाम बढ़ाए; जानिए नई कीमत

मुंह खोला तो तुम्हें भी पापा की तरह कर दूंगी दफन... बेटी के खुलासे से पुलिस के भी उड़े होश

GATE 2023: आज 9:30 am से होगी गेट परीक्षा, सेंटर पर जाने से पहले देखें गाइडलाइंस

अब नहीं लगाने पड़ेंगे दफ्तरों के चक्कर, जानिए कैसे काम करेगी कानपुर पुलिस की हेल्प डेस्क

हैवान पति! लाइटर से पत्नी के नाजुक अंगों को जलाता था, ऐसा करने पर हंसता और...

IIT कानपुर ने तैयार की नेत्रहीनों के लिए हैप्टिक स्मार्ट वॉच, जानिए क्या हैं फीचर्स

रामचरितमानस की चौपाइयों से पढ़ाते हैं केमिस्ट्री, खेल-खेल में बच्चे सीख जाते हैं फार्मूले; टीचर का वीडियो वायरल

कानपुर में चर्चा का विषय बनी होर्डिंग, जेल में बंद विधायक के समर्थन में उतरी सपा!

Kanpur News: कानपुर में कार-बाइक स्‍टंटबाजों की खैर नहीं! पुलिस ने जारी किया नंबर, धड़ल्ले से करें शिकायत

Archana Devi: कानपुर में सीखा क्रिकेट का ककहरा, इन लोगों ने बढ़ाया हौसला, जानें अर्चना के अनसंग हीरो

सावधान! कानपुर में अब कार और बाइक से स्टंट करने वालों की खैर नहीं, जानें पुलिस का एक्शन प्लान


बीते 2 नवंबर को हुआ था ऑपरेशन
आराध्या अस्पताल में बीते दो नवंबर को छह बुजुर्ग व्यक्तियों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. ऑपरेशन के बाद मरीजों ने बताया कि उनके सिर और आंखों में दर्द हो रहा है. साथ ही उन्हें दिखाई देना भी बंद हो गया है. उन्होंने डॉक्टरों से अपनी समस्या के बारे में बताया तो उन्होंने टैबलेट देकर वापस भेज दिया गया, लेकिन उन्हें इससे आराम नहीं मिला तो वो कई बार अस्पताल आए. अस्पताल प्रशासन ने यहां इनकी एक बात न सुनी.

सीएमओ की अनुमति से लगा था कैंप
इस मामले में स्वास्थ विभाग पर भी सवाल उठना लाजमी है क्योंकि यह कैंप खुद कानपुर के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी की अनुमति से लगा था. डीबीसीएस योजना के तहत यह कैंप लगाया गया था. वहीं, मामले को तूल पकड़ता देख कानपुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी आलोक रंजन ने जांच के आदेश दिए थे जिसमें अब जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट सीएमओ को सौंपी है जिसमें अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का मामला सामने आया है. इसको संबंध में अब अस्पताल प्रशासन और आंखों का ऑपरेशन करने वाले डॉक्टरों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Cataract Operation Negligence, Kanpur news, Up news in hindi, Uttar Pradesh Health Department

FIRST PUBLISHED : November 25, 2022, 14:51 IST
अधिक पढ़ें