लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

Kanpur: ड्रोन तकनीक की मदद से खेती करना सीखेंगे CSJMU यूनिवर्सिटी के छात्र, ऐसे मिलेगा एडमिशन

Kanpur: ड्रोन तकनीक की मदद से खेती करना सीखेंगे CSJMU यूनिवर्सिटी के छात्र, ऐसे मिलेगा एडमिशन

कानपुर के छत्रपति शाहूजी विश्वविद्यालय में एग्रीकल्चर ऑनर्स का कोर्स शुरू किया गया है. इसमें एडमिशन लेकर छात्र-छात्राओं को ड्रोन टेक्नोलॉजी की कृषि में उपयोगिता के बारे में शिक्षा हासिल कर सकेंगे. यह न सिर्फ कृषि को बढ़ावा देने के काम आएगा, बल्कि इससे रोजगार में भी काफी मदद मिलेगी

  • News18Hindi 
  • Last Updated :

अखंड प्रताप सिंह

कानपुर. आज के बदलते दौर में ड्रोन का इस्तेमाल कई क्षेत्रों में हो रहा है. लेकिन अब कृषि क्षेत्र में ड्रोन टेक्नोलॉजी का उपयोग खेती को आधुनिकीकरण की ओर ले कर जा रहा है. इसको देखते हुए उत्तर प्रदेश के कानपुर के छत्रपति शाहूजी विश्वविद्यालय में एग्रीकल्चर ऑनर्स का कोर्स शुरू किया गया है. इसमें एडमिशन लेकर छात्र-छात्राओं को ड्रोन टेक्नोलॉजी की कृषि में उपयोगिता के बारे में शिक्षा हासिल कर सकेंगे. यह न सिर्फ कृषि को बढ़ावा देने के काम आएगा, बल्कि इससे रोजगार में भी काफी मदद मिलेगी.

छत्रपति शाहूजी विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर अंकुश शर्मा ने बताया कि ड्रोन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कृषि क्षेत्र में विभिन्न तरीकों से किया जा रहा है. इसके बारे में छात्र-छात्राओं को पढ़ाया और सिखाया जाएगा. ड्रोन टेक्नोलॉजी खेत में बीजों की बुवाई से लेकर कीटनाशक के छिड़काव में इस्तेमाल की जा रही है. इसके साथ ही मृदा परीक्षण के काम भी ड्रोन टेक्नोलॉजी के जरिए किए जा रहे हैं. इस टेक्नोलॉजी से श्रमिकों (कामगारों) का काम बेहद आसान कर दिया गया है. अब किसान को श्रमिकों के ऊपर खेती करने के लिए आश्रित नहीं रहना पड़ेगा. क्योंकि ड्रोन कई श्रमिकों का काम अकेले करने में सक्षम है.

आपके शहर से (लखनऊ)

UP Board Exam 2023: कॉपी के हर पेज पर लिखना होगा रोल नंबर, परीक्षा से पहले जानें जरूरी निर्देश

राजनीति के दिग्गज स्वामी हैं, तुलसीदास पर टिप्पणी करने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य

Lucknow Weather Update: लखनऊ के कुछ हिस्सों में आज भी हो सकती है हल्की बारिश, जानिए मौसम का ताजा हाल

Lucknow News: न नगद-न उधार, लखनऊ के इस 'मॉल' में सजा है फ्री कपड़ों का बाजार

रामचरितमानस विवाद में घिरे स्वामी प्रसाद मौर्य का सपा में बढ़ा कद, अखिलेश यादव ने बनाया राष्ट्रीय महासचिव

स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में उतरी OBC महासभा, लखनऊ में जलाईं रामचरित मानस की प्रतियां

IRCTC लाया है नवाबों की नगरी से थाईलैंड के लिए किफायती टूर पैकेज, मात्र इतने रुपये में घूम सकेंगे बैंकॉक और पटाया

U19 Women T20 WC: कैंसर से पिता की मौत, सांप ने ली भाई की जान; अब बेटी अर्चना ने भारत को बनाया वर्ल्ड चैंपियन

Education News: राजस्थान में सबसे अधिक विश्वविद्यालय, UP में सबसे अधिक कॉलेज, देखें पूरी रिपोर्ट

Weather Update: लखनऊ में सुहानी सुबह तो अयोध्या में कड़ाके की ठंड, जानें अगले दो दिन कैसा रहेगा मौसम

शिवपाल यादव को समाजवादी पार्टी में मिली जिम्मेदारी, अखिलेश यादव ने बनाया राष्ट्रीय महासचिव


छात्रों को मिलेंगे रोजगार के अवसर
ड्रोन टेक्नोलॉजी के कृषि क्षेत्र में आने से जो छात्र-छात्राएं कृषि वैज्ञानिक बन कर फील्ड में जाएंगे वो अत्याधुनिक तकनीक से किसानों को खेती में रूबरू कराएंगे. उनके मददगार साबित होंगे. इसके साथ ही वो रोजगार के भी कई अवसर खुद बनाएंगे. वो अपनी खुद की एंटरप्रेन्योर कंपनियां भी खोल सकेंगे. साथ ही ड्रोन टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी उनको रोजगार के कई अवसर मिलेंगे. इसके साथ ही आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस यानी एआई का भी प्रयोग करना सीखेंगे.

कोर्स के बारे में जानें
कानपुर विश्वविद्यालय के द्वारा बीएससी ऑनर्स इन एग्रीकल्चर के नाम से इस कोर्स की शुरुआत की गई है. इसका सेशन 2022-23 से शुरू किया गया है. यह चार साल का कोर्स है जिसमें कुल आठ सेमेस्टर हैं. इसके लिए आपको यूनिवर्सिटी की वेबसाइट www.csjmu.ac.in पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा. इंटरमीडिएट के बाद स्टूडेंट्स इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं. इसकी फीस 40,000 रुपये सालाना रखी गई है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Agriculture, Drone, Farming, Kanpur news, Up news in hindi

FIRST PUBLISHED : November 24, 2022, 15:14 IST
अधिक पढ़ें