लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए UPEIDA ने ऊंचे दामों पर खरीदी थी जमीन, CAG र‍िपोर्ट में बड़ा खुलासा

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए UPEIDA ने ऊंचे दामों पर खरीदी थी जमीन, CAG र‍िपोर्ट में बड़ा खुलासा

Lucknow Agra expressway: यूपी एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) ने 2014 में कन्नौज में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए ऊंची दरों पर जमीन खरीदी गई थी. इस बात खुलासा भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की एक रिपोर्ट में हुआ है.

आगरा लखनऊ एक्सप्रेस्वे पर कैग रिपोर्ट यूपी की सियासत में कंपन पैदा कर सकती है. फोटो- विकीपीडिया

आगरा लखनऊ एक्सप्रेस्वे पर कैग रिपोर्ट यूपी की सियासत में कंपन पैदा कर सकती है. फोटो- विकीपीडिया

लखनऊ. उत्तर प्रदेश सरकार के यूपी एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) ने 2014 में कन्नौज में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे के लिए ऊंची दरों पर जमीन खरीदी गई थी. इस बात खुलासा भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की एक रिपोर्ट में हुआ है. इससे सरकार को करोड़ों रूपए का नुकसान भी हुआ है.

बताते चलें क‍ि सीएजी ने 2015 में गौतम बुद्ध नगर में एक भूमि पार्सल खरीद में 2.71 करोड़ रुपये का नुकसान होने के मामले का भी खुलासा क‍िया है. सीएजी र‍िपोर्ट में बताया गया है क‍ि उत्तर प्रदेश सरकार के यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (वाईईआईडीए) ने 2015 में गौतम बुद्ध नगर में एक भूमि पार्सल खरीदा था. लेकिन भूमि रिकॉर्ड की पुष्टि नहीं करने से 2.71 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.

इसके अलावा, YEIDA ने रिकॉर्ड में उपलब्ध नहीं होने वाले क्षेत्र के खिलाफ भूमि की खरीद पर स्टांप शुल्क के रूप में दस लाख रुपये का खर्च भी किया. जैसा कि मार्च 2020 को समाप्त वर्ष के लिए भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG) की अनुपालन ऑडिट रिपोर्ट से पता चला है. सीएजी र‍िपोर्ट को हाल ही में यूपी विधानसभा में पेश क‍िया गया.

आपके शहर से (लखनऊ)

राम भरोसे चल रहा अयोध्या का जिला अस्पताल, जानिए क्यों मौन है आलाकमान?

Russia Ukraine War: रूस यूक्रेन के बीच युद्ध से बढ़ी फल और सब्जियों की मांग, उत्तर प्रदेश बनेगा मददगार

Lucknow Job Fair: बेरोजगारों के लिए अच्छी खबर, आईटीआई में 12 दिसंबर को आयोजित होगा बड़ा रोजगार मेला 

लखनऊः दुल्हे को वरमाला पहनाने के बाद दुल्हन को आया हार्ट अटैक, स्टेज पर ही मौत, गांव में छाया मातम

कैसी-कैसी शादियां: स्‍टेज पर दुल्‍हन को KISS...दूल्‍हे ने कहा 'दुल्‍हन का वर्जिनिटी टेस्ट कराओ'

Ayodhya News: राम मंदिर के आसपास नहीं बनेगी ऊंची बिल्डिंग, जानें- एडीए ने क्यों लागू किया निषेधाज्ञा?

मजहब के नाम पर आबादी बढ़ाकर देश तोड़ देंगे; यह बेहद खतरनाक साजिश-डॉ इंद्रेश कुमार

CUET न देने वाले यूपी के स्टूडेंट्स इन यूनिवर्सिटीज में ले सकते हैं दाखिला

UP Police Constable Bharti 2022: बड़ी खुशखबरी, यूपी में कांस्टेबल के 35,000 से अधिक पदों पर होगी भर्ती, जानें कब आएगा नोटिफिकेशन

सस्ते और लग्जरी होने के बाद भी जब नहीं बिके अहाना एंक्लेव के फ्लैट, अब लखनऊ नगर निगम लेगा टोटके का सहारा

सर्दियों में बढ़ जाता है हार्ट अटैक का खतरा ! डॉक्टर से समझें इसकी वजह और दिल को बचाने का तरीका


बता दें, अगस्त, 2019 में अभिलेखों की जांच के दौरान लेखा-परीक्षा यह भी पाया कि UPEIDA ने जुलाई 2014 से जुलाई 2015 के दौरान सात गांवों की जमीन खरीदी थी. इसे पूर्व में अनुमोदित दरों से अधिक दर पर खरीदा गया था. अब ऐसे में CAG की रिपोर्ट के सामने आने के बाद राजनीति भी तेज होने की बात कही जा रही है. दरअसल लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे यूपी सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक थी. इस एक्स्प्रेसवे के निर्माण में करोड़ों रुपये की राशि की गयी है. इसके बनने से कई यूपी के कई शहरों में पहुंचना पहले से अधिक आसान हो गया है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Agra Lucknow Expressway, CAG, CAG Report, UP Government, Yogi government

FIRST PUBLISHED : September 28, 2022, 14:38 IST
अधिक पढ़ें