Home / News / uttar-pradesh /

cm yogi adityanath attacks akhilesh yadav in up assembly upat

अखिलेश यादव के वार पर CM योगी आदित्यनाथ का पलटवार, चुन-चुन कर किए तीखे कटाक्ष

CM Yogi Adityanath Replies to Akhilesh Yadav: मुख्यमंत्री ने आगे बोलते हुए कहा, 'प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में हम पूरे देश में चुनाव लड़ते हैं. उन्हीं कार्यों का उल्लेख राज्यपाल ने यहां सदन में किया था. जनता द्वारा प्राप्त जनादेश सरकार के प्रति जनता का सम्मान है. हमने कभी ढिंढोरा पीटकर नहीं कहा कि हमने मेट्रो चलवा दी. जनता जानती थी कि कौन निवेश ला रहा है. राशन कौन दे रहा है. इसी कारण 37 वर्षों बाद कोई सरकार अपना पूरा कार्यकाल करके दोबारा वापस आयी है.

लखनऊ. विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नेता प्रतिपक्ष अखिलेश यादव के हमले का चुन-चुनकर जवाब दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सदन में अखिलेश यादव का पूरा भाषण जनादेश का अनादर करने वाला था. मुख्यमंत्री ने तंज कसते हुए कहा कि एक मनीषी ने कहा है ‘अभिमान तब आता है, जब हमें लगता है हमने कुछ किया है.सम्मान तब मिलता है जब लोग कहें कि हमने कुछ किया है. भारतीय जनता पार्टी को जनादेश मिला यह उसी बात का प्रमाण है.

मुख्यमंत्री ने आगे बोलते हुए कहा, ‘प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में हम पूरे देश में चुनाव लड़ते हैं. उन्हीं कार्यों का उल्लेख राज्यपाल ने यहां सदन में किया था. जनता द्वारा प्राप्त जनादेश सरकार के प्रति जनता का सम्मान है. हमने कभी ढिंढोरा पीटकर नहीं कहा कि हमने मेट्रो चलवा दी. जनता जानती थी कि कौन निवेश ला रहा है. राशन कौन दे रहा है. इसी कारण 37 वर्षों बाद कोई सरकार अपना पूरा कार्यकाल करके दोबारा वापस आयी है. उत्तर प्रदेश देश की सबसे बड़ी आबादी है. पिछली सरकारें जनआकांक्षा को क्यों पूरी नही कर पा रही थी? जब आप जीते तो अच्छा है, बीजेपी जीते तो ईवीएम में गड़बड़ी है…!!!


Koo App

आपके शहर से (लखनऊ)

UP Weather: यूपी में भीषण गर्मी और उमस से नहीं मिलेगी राहत! पढ़ें कैसा रहेगा आज का मौसम

UP Loksabha Byelection Results LIVE: बीजेपी ने सपा से छीनी रामपुर सीट, आजमगढ़ में निरहुआ आगे

यूपी में 11 आईएएस अधिकारियों के तबादले, लखनऊ कमिश्नर हटाए गए, देखें पूरी लिस्ट

PGI में भर्ती योगी सरकार के मंत्री 'नंदी' ने शेयर की पत्नी के साथ तस्वीर, पढ़ें उनका भावुक पोस्ट

UP: लंगूरी बंदरों का सौदा करने वाले दो तस्कर गिरफ्तार, खोपड़ी का तंत्र- मंत्र में होता है इस्तेमाल

एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में आईं मायावती, बताई ये खास वजह

CM योगी आदित्यनाथ के हेलिकॉप्टर से टकराया पक्षी, वाराणसी में हुई इमरजेंसी लैंडिंग

UP JEE B.ED admit card: UP बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा का एडमिट कार्ड करें डाउनलोड

UP में कल बंद रहेंगी शराब व बीयर की दुकानें, 'ड्राई डे' को लेकर सरकार ने जारी किया आदेश

यूपी में 11 IPS अफसरों के तबादले, बदले गए आगरा- मेरठ के पुलिस कप्तान, देखें लिस्ट

गोमती रिवरफ्रंट घोटाला: दो पूर्व मुख्य सचिव अलोक रंजन और दीपक सिंघल पर कसा शिकंजा, सीबीआई ने मांगी जांच की इजाजत


शायराना अंदाज में कटाक्ष

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने अपने भाषण में अपनी उपलब्धियों को बहुत ज्यादा कहा. नेता चुनावी सदन में अपनी बातों को कहते हैं, लेकिन उनके भाषण पर मैं कहूंगा कि …’नजर नहीं है, नजारों की बात करते हैं, जमीं पर चांद सितारों की बात करते हैं, वो हाथ जोड़कर बस्ती को लूटने वाले, भरी सभा में सुधारों की बात करते हैं…’

ममता बनर्जी पर निशाना

मुख्यमंत्री यहीं नहीं रुके, उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के यूपी में प्रचार करने पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा, “इसी सरकार में स्थानीय निकाय, पंचायत चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हुए, लेकिन यहां चुनाव में समर्थन करने के लिए एक दीदी भी आई थीं बंगाल से.. क्या हालात थे बंगाल में? 294 सीट पर हुए चुनाव के बाद जमकर हिंसा हुई. 57 बीजेपी कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्या हुई. महिलाओं के साथ अमानवीय व्यवहार हुए. बंगाल की आबादी यूपी से आधी आबादी है. चुनाव से पहले और चुनाव बाद यहां हिंसा नहीं हुई. यह कानून व्यवस्था का परिणाम है.”

हमारा मिशन देश के लिए कार्य करने का होना चाहिए

मुख्यमंत्री ने कहा, ” हमारा मिशन देश के लिए कार्य करने का होना चाहिए. लोकतंत्र में संसदीय भावनाओं का सम्मान भी करना चाहिए. मार्च 2017 में हमारी सरकार बनने के बाद कार्य शुरू हुए. डबल इंजन की सरकार ने ट्रिपल स्पीड से कार्य किये. हमने हर फील्ड में कार्य किये, लेकिन यहां सवाल उठाए गए, खासकर पुलिस के बारे में. हमने पुलिस की भर्ती प्रक्रिया को बेहतर करने के कार्य किये. अब तक 1 लाख 54 हजार पुलिस भर्ती प्रक्रिया पूरी की. इसके बाद ट्रेनिंग प्रक्रिया को तीन गुनी स्पीड से पूरी की. रिफॉर्म हुये, पहली बार 4 कमिश्नरेट का गठन हुआ. साइबर थानों के गठन हुआ. 17 नगर निगमो में ITMS से जोड़ा गया. उत्तरप्रदेश के अंदर कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए पीएसी की जरूरत होती है, जबकि एक साजिश के तहत 54 पीएसी कम्पनियां खत्म कर दी गई, भर्तियों में धांधलियां हुई. 54 पीएसी कम्पनियों को फिर से बहाल किया गया. हमने दंगामुक्त प्रदेश की स्थापना की. महिला पीएसी बटालियन की स्थापना की गई. बेटियों को स्थान दिया गया.

आज का युवा बाहर जाता है तो उसे सम्मान के साथ देखा जाता है

सीएम योगी ने कहा, “आज़ादी के बाद जो कार्य होने चाहिए वो 2017 बाद शुरू किए गए. लोगों के मन में पहले यूपी के लिए क्या धारणा थी, हमने उसे बदला है. हर फील्ड में उसके परिणाम दिखे. 2017 से पहले वादे किए गए थे. टैबलेट-स्मार्टफोन बाटेंगे, क्या हुआ? हमने बांटने शुरू किए. अबतक 1 करोड़ युवाओं को वितरित करने की प्रक्रिया चालू है. अब तक साढ़े 12 लाख बाटें जा चुके हैं. 5 लाख सरकारी नौकरी भी दी गई. भाई-भतीजावाद के आरोप कोई नहीं लगा सकता. एक करोड़ 61 लाख रोजगार उपलब्ध करवाए गए. आज का युवा बाहर जाता है तो उस युवा को सम्मान के साथ देखा जाता है.”

मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू करते चले गए

मुख्यमंत्री ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने अच्छा भाषण दिया, लेकिन कुछ घोटालों की भी बात कर लेते तो अच्छा होता. खनन घोटाला, सहकारिता घोटाला, खाद्यान्न घोटाला.. इन पर चर्चा कर लेते तो अच्छा होता. मीठा-मीठा गप्प, कड़वा-कड़वा थू करते चले गए. हमारी सरकार ने कल बजट पेश किया। हर घर के सदस्य को रोजगार के कार्य शुरू हो रहे है. अन्नदाता किसान के बारे में बहुत सी गुमराह करने वाली बातें हुईं, लेकिन किसान के आत्महत्या की घटनाएं 2004 से 2017 तक हुई. 2012 से 17 तक धान का कुल क्रय आढ़तियों के माध्यम से किया गया. पहले एमएसपी का लाभ नहीं मिल पाता था. पिछली सरकारों में चीनी मिल बंद होती थी, बेंच दी जाती थी, चौधरी चरण सिंह की जन्मभूमि रमाला में हमने चीनी मिल स्थापित की. मुंडेरवा, पिपराइच में नई चीनी मिलें स्थापित की गई. कोरोना काल में 119 चीनी मिल चलाई. अबतक एक करोड़ 73 लाख हजार से ज्यादा का गन्ना मूल्य का भुगतान किया गया.

89 कृषि विज्ञान केंद्र की स्थापना के साथ प्रदेश देश मे पहले स्थान पर 

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोरखपुर का खाद कारखाना 1990 में ही बंद हो गया था. हमारे विपक्ष के लोग कभी न कभी केंद्र के सहयोगी रहे, लेकिन किसी का ध्यान उधर नहीं गया. हमने वहां की चिमनियों को चलाने का कार्य किया. आज 89 कृषि विज्ञान केंद्र की स्थापना के साथ प्रदेश देश मे पहले स्थान पर है. चीनी मिलों को बंद करने की साज़िशें होती थी. हम आज उन चीनी मिलों से शूगर के साथ एथेनॉल भी उत्पादन कर रहे हैं. उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा एथेनॉल उत्पादक और निर्यातक प्रदेश बना है. यूपी प्राकृतिक संसाधनों से भरापूरा प्रदेश है. पहले की सरकारें डार्क जोन में बदलने की होड़ लगी रहती रही. हमने बाण सागर, सरयू नहर सहित 20 परियोजनाओं को पूरा कर लिया है. बुंदेलखंड में भी कई सारे प्रोजेक्ट शुरू किए गए.

श्रमिकों को पिछली सरकारें समस्या मानती थी

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि श्रमिकों को पिछली सरकारें समस्या मानती थी. हमने समस्या को चिंतन करते हुए समाधान का रास्ता निकाला. श्रमिक भी हमारे साथ खड़ा हुआ. आज श्रमिकों को 2 लाख सामाजिक सुरक्षा की गारंटी दी. 5 लाख स्वास्थ्य बीमा दी. हर श्रमिक को कोविड के दौर में भरण पोषण भत्ता भी दिया। संकट की साथी सरकार उनके द्वार थी. उन्हें नेशनल पोर्टिबिल्टी के माध्यम से सुविधा से जोड़ा गया. उसे देश मे कहीं भी राशन मिल सकता है. अटल आवासीय विद्यालय में श्रमिकों के बच्चों के भविष्य के निर्माण के कार्य हो रहे हैं. हमारी भारतीय संस्कृति में मातृशक्ति को महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है. हम उस परिकल्पना को क्रियान्वित करने का कार्य कर रहे है. हमने 2017 में एंटी रोमियो स्क्वायड का गठन किया गया. शोहदों पर शिकंजा कसा गया. बेटी के जन्म से उसके विवाह तक के लिए 6 चरणों में आर्थिक मदद हो सके उसके लिए कार्य कर रहे हैं. पुलिस भर्ती में 20% बेटियां कार्य कर रही हैं. आंगनबाड़ी, आशा वर्कर्स सबके मानदेय बढाने का कार्य किया. कोविड में इन्होंने संकट में जान बचाने का कार्य किया. सरकार ने भी इनका सम्मान किया.

नेता प्रतिपक्ष को डबल इंजन से परहेज

मुख्यमंत्री ने कहा, “हमारे नेता प्रतिपक्ष को डबल इंजन से शायद परहेज है, लेकिन हमने इसे करके दिखाया. समस्या है तो उसका समाधान भी है. आपको अगर कुछ करने की इच्छा है तो रास्ता भी निकल जाता है. आपके अंदर इच्छाशक्ति थी ही नहीं. हमने बहन-बेटियों के गौरव को बढ़ाने का कार्य किया. स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत शौचालयों के निर्माण करके दिखाया। हमने डेढ़ वर्ष के अंदर कार्य पूरा करके मॉडल बनाकर दिया. इंसेफ्लाइटिस से 40 वर्ष में 50 हजार बच्चो की मौत हुई. ये मलिन दलित वर्ग के बच्चे थे. 2017 में हमने इसपर अंतर्विभागीय समन्वय बनाकर कार्य शुरू किए. हमने शौचालय और पेयजल पहुंचाने का कार्य किये. आज 95% मौतों को कम कर दिया. वो बच्चे आपके वोट बैंक नहीं थे, इसलिए आपने उधर कोई रुचि नहीं दिखाई. आप खिल्ली उड़ाते हैं, हमने उनके दर्द को महसूस किया.

Tags:Akhilesh yadav, CM Yogi Adityanath, UP latest news