Home / News / uttar-pradesh /

इराक से वसीम रिजवी के लिए फतवा, कहा-राम मंदिर के लिए वक्फ की जमीन नहीं दे सकते

इराक से वसीम रिजवी के लिए फतवा, कहा-राम मंदिर के लिए वक्फ की जमीन नहीं दे सकते

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी की फाइल फोटो

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी की फाइल फोटो

बता दें कि वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में वक्फ संपत्ति के रूप में दर्ज भूमि को देने का प्रस्ताव दिया है.

शियाओं के सर्वोच्च धर्मगुरु अयातुल्ला अल सैयद अली अल हुसैनी अल सिस्तानी ने शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी के खिलाफ फतवा जारी करते हुए कहा है कि वे राम मंदिर के लिए वक्फ की जमीन नहीं दे सकते. दरअसल, कानपुर के शिक्षाविद् डॉ मजहर अब्बास ने ईमेल के जरिए सिस्तानी से फतवा मांगा था. इसके जवाब में सिस्तानी ने कहा कि कोई भी मुसलमान वक्फ की संपत्ति को मंदिर या अन्य किसी भी प्रकार के धार्मिक स्थल के निर्माण के लिए नहीं दे सकता.

बता दें, वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या में वक्फ संपत्ति के रूप में दर्ज भूमि देने का प्रस्ताव दिया है. रिजवी का दावा है कि बाबरी मस्जिद शिया शासक द्वारा बनवाई गई थी और यह वक्फ की संपत्ति है, जिसे वह राम मंदिर के लिए दान देना चाहते हैं.

आपके शहर से (लखनऊ)

यूपी में 11 IPS अफसरों के तबादले, बदले गए आगरा- मेरठ के पुलिस कप्तान, देखें लिस्ट

UP: लंगूरी बंदरों का सौदा करने वाले दो तस्कर गिरफ्तार, खोपड़ी का तंत्र- मंत्र में होता है इस्तेमाल

UP Loksabha Byelection Results LIVE: आजमगढ़ और रामपुर में बीजेपी ने बनाई बढ़त, सपा पिछड़ी

यूपी में 11 आईएएस अधिकारियों के तबादले, लखनऊ कमिश्नर हटाए गए, देखें पूरी लिस्ट

गोमती रिवरफ्रंट घोटाला: दो पूर्व मुख्य सचिव अलोक रंजन और दीपक सिंघल पर कसा शिकंजा, सीबीआई ने मांगी जांच की इजाजत

PGI में भर्ती योगी सरकार के मंत्री 'नंदी' ने शेयर की पत्नी के साथ तस्वीर, पढ़ें उनका भावुक पोस्ट

UP Weather: यूपी में भीषण गर्मी और उमस से नहीं मिलेगी राहत! पढ़ें कैसा रहेगा आज का मौसम

CM योगी आदित्यनाथ के हेलिकॉप्टर से टकराया पक्षी, वाराणसी में हुई इमरजेंसी लैंडिंग

एनडीए की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में आईं मायावती, बताई ये खास वजह

UP में कल बंद रहेंगी शराब व बीयर की दुकानें, 'ड्राई डे' को लेकर सरकार ने जारी किया आदेश

UP JEE B.ED admit card: UP बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा का एडमिट कार्ड करें डाउनलोड

फतवे पर शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, "शिया वक्फ बोर्ड पर बाबरी केस के मुद्दई का समर्थन करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर से दबाव डाला जा रहा है. सिस्तानी का फतवा इसी कड़ी का एक हिस्सा है. शिया वक्फ बोर्ड भारतीय संविदान में दर्ज कानून के तहत ही काम करेगा, न कि किसी आतंकी या फतवा के दबाव में. हम सिस्तानी द्वारा जारी फतवा को नहीं स्वीकार कर सकते, क्योंकि यह उन्हें गुमराह करके लिया गया है.”

उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हिन्दुओं की आस्था से जुड़ा है और शिया वक्फ बोर्ड देश और समाज के विकास को लेकर संजीदा है. हिन्दुओं को उनका हक मिलना चाहिए और मुस्लिमों को दूसरों के हक छिनने से दूर रहना चाहिए. शिया वक्फ बोर्ड अपने फैसले से पीछे नहीं हटेगा, चाहे फिर दुनिया के सभी मुसलमान हमारे विरोध में क्यों न खड़े हो जाएं.

ये भी पढ़ें:

यूपी में 'बाउंड्री पॉलिटिक्स': रामलीला मैदान की चारदीवारी पर विपक्ष ने योगी सरकार को घेरा

कुछ इस तरह सपा से दूर हो रहे शिवपाल सिंह यादव, ले सकते हैं बड़ा फैसला!

Tags:Ayodhya Mandir, Lucknow news