लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबफूडविधानसभा चुनावमनोरंजनफोटोकरियर/ जॉब्सक्रिकेटलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नरMission Swachhta Aur Paani#RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrencyNetra Suraksha
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

82 साल की उम्र में दो बेटों ने घर से निकाला, बेटियों ने भी किया किनारा; पढ़ें बेबस पिता की कहानी

82 साल की उम्र में दो बेटों ने घर से निकाला, बेटियों ने भी किया किनारा; पढ़ें बेबस पिता की कहानी

Lucknow News: लखनऊ में एक 82 वर्षीय पिता हाथों में यूरिन बैग थामे दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है. उम्र के इस पड़ाव में बीमार पिता से दो जवान बेटों और चार बेटियों ने पल्‍ला झाड़ लिया है. जानें रामेश्वर प्रसाद की कहानी.

रिपोर्ट : अंजलि सिंह राजपूत

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में एक बेबस पिता 82 साल की उम्र में दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है. हालांकि लखनऊ के रकाबगंज के रहने वाले रामेश्वर प्रसाद के दो जवान बेटे और चार बेटियां हैं. इस सबके बावजूद वह परेशानियां झेल रहे हैं. दरअसल बीमार होते ही बेटों ने उनको घर से बाहर निकाल दिया और वह हाथों में यूरिन का बैग लेकर बेबस इधर उधर घूम रहे हैं. वहीं, बेटियों ने भी उनकी सेवा करने से मना कर दिया. ऐसे में वन स्टॉप सेंटर ने उनको सरोजनी नगर स्थित सार्वजनिक शिक्षोन्नयन संस्थान पहुंचाया है.

वहीं, बुजुर्ग रामेश्वर प्रसाद की आंखों में अपनों द्वारा ठुकराने का दर्द साफ झलक रहा है. इस बीच वन स्टॉप सेंटर की प्रभारी अर्चना सिंह ने अपनी टीम के साथ बुजुर्ग को न्याय दिलाने के लिए उनके बेटों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है.

आपके शहर से (लखनऊ)

Pilibhit News: बेसहारा पशुओं का पेट भर रहे पीलीभीत के युवा, जानें क्या है इनका अनोखा तरीका?

Lucknow: लखनऊ में है 400 साल पुराना चमत्कारी मंदिर, कुएं से निकली थी छाछ!

Bharat Jodo Yatra : महाकाल के दरबार में राहुल ने किया साष्टांग दण्डवत प्रणाम, दिन में नेताओं संग किया डांस, Video

Lucknow: एकेटीयू के दीक्षांत समारोह में रोहन खुराना को मिला चांसलर गोल्ड मेडल पुरस्कार

Jobs: 18 से 40 साल वालों के लिए 17 हजार से अधिक नौकरियां, फ्री में करें आवेदन

Bharat Jodo Yatra : बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन पहुंची राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा, 200 पंडितों ने किया स्वागत

UP Byelection: अफसरों की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंचे सपा नेता रामगोपाल यादव

Good News: आपके घरों से निकलने वाले कूड़े से लखनऊ नगर निगम बनाएगी सस्ती सीएनजी

पीलीभीत टाइगर रिजर्व जाने का बना रहे हैं प्लान, तो मनमोहने वाले इन स्पॉट्स पर जाना न भूलें, See Photos

Wedding Shopping: शादी की शॉपिंग के लिए बेस्ट हैं लखनऊ के ये बाजार, बजट में मिलेंगी मनचाही चीजें

विशाल सिंह: कभी खुद कई रात सोए थे भूखे, अब लखनऊ के 3 अस्‍पतालों में तीमारदारों को खिला रहे फ्री खाना


जब तक पैसा था, तब तक बच्चों के लिए पिता था
रामेश्वर प्रसाद बताते हैं कि उनका मसालों का छोटा सा धंधा था, लेकिन इसके बाद भी जहां पर भी दो पैसे ज्यादा मिलते थे, तो वहीं पर काम करने लग जाते थे. साथ ही बताया कि वह पहले रकाबगंज रहते थे, लेकिन बाद में टिकैतगंज आ गए. पिछले 25 साल से यहीं पर रह रहे हैं. रामेश्वर प्रसाद के मुताबिक, उनके दो बेटे हैं जो ड्राइवर हैं. जबकि चार बेटियां हैं और उन सभी की शादी हो चुकी है. उनको बेटे अक्सर प्रताड़ित करते रहते हैं. बड़े बेटे ने उनके ऊपर दो बार हाथ भी उठाया है. इसके साथ दोनों बेटे आपस में एक दूसरे को पिता को रखने के लिए कहते रहते हैं. दोनों भाइयों की आपस में नहीं बनती है.

बेटी ने अस्‍पताल में भर्ती कराया, लेकिन…
रामेश्वर प्रसाद ने बताया कि बीच में जब उनकी तबीयत खराब हुई तो उनकी बेटी ने बलरामपुर अस्पताल में भर्ती करा दिया, लेकिन वह वहां से चली गई. इस दौरान यूरिन और गैस पास न होने की वजह से डॉक्‍टरों ने यूरिन बैग लगा दिया था. अस्‍पताल से डिस्चार्ज होने के बाद वह यूरिन बैग लेकर अपने घर पहुंचे, तो बेटों ने उन्हें घर में घुसने नहीं दिया. उन्‍हें मजबूरी में एक पड़ोसी के घर में करीब 3 दिन तक रहना पड़ा. इसके बाद वह अपनी बेटियों के पास गए तो सभी ने उनकी मदद करने से मना कर दिया. इसके बाद वह यूरिन बैग लिए सड़क के किनारे बैठे हुए थे, तो यह सब देख वन स्टॉप सेंटर की टीम ने उनको आश्रम पहुंचाया. बता दें कि प्रसाद की पत्‍नी की कुछ साल पहले निधन हो चुका है.

आश्रम में मिला सहारा
रामेश्वर प्रसाद बताते हैं कि अपने घर से ज्यादा वह इस आश्रम में राहत महसूस कर रहे हैं. उन्हें सही समय पर खाना पीना और दवाई मिल रही है. वन स्टॉप सेंटर की प्रभारी अर्चना सिंह ने बताया कि यह मामला बेहद गंभीर है. समाज में बुजुर्गों के साथ इस तरह का व्यवहार बिल्कुल भी स्वीकार करने लायक नहीं है. इस मामले को लेकर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा. वृद्धा आश्रम का पता सार्वजनिक शिक्षोन्नयन संस्थान, सरोजनी नगर, लखनऊ है.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Lucknow news, UP news

FIRST PUBLISHED : September 28, 2022, 14:52 IST
अधिक पढ़ें