Home / News / uttar-pradesh /

electricity demand of noida has reached 2000 mw power cut start day and night dlnh

नोएडा में बिजली की डिमांड ने उड़ाए होश, जानें कितनी चाहिए हर रोज

एक तो आग बरसाती गर्मी, ऊपर से बिजली की बढ़ती डिमांड ने पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम (पीवीवीएनएल) के बिजली कर्मचारियों और अफसरों के होश उड़ा दिए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

एक तो आग बरसाती गर्मी, ऊपर से बिजली की बढ़ती डिमांड ने पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम (पीवीवीएनएल) के बिजली कर्मचारियों और अफसरों के होश उड़ा दिए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

वजह लॉकडाउन (Lockdown) रहा हो या फिर कुछ और लेकिन साल 2020 में नोएडा (Noida) की बिजली (Elecricity) डिमांड 950 मेगावाट दर्ज की गई थी. इसी तरह से साल 2021 में यह डिमांड 950 से थोड़ी ज्यादा 1200 से 1500 के करीब पहुंच गई थी. लेकिन राहत की बात यह है कि इस डिमांड को पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम (PVVNL) ने बढ़े ही आराम से पूरा कर दिया था. लेकिन इस साल सिर्फ जून में ही डिमांड बढ़ने के चलते सब पीवीवीएनएल का इंफास्ट्राक्चर लड़खड़ा गया है. ओवर लोडिंग की वजह से मशीनरी भी काम नहीं कर रही है.

नोएडा. एक तो आग बरसाती गर्मी, ऊपर से बिजली की बढ़ती डिमांड ने पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम (PVVNL) के बिजली कर्मचारियों और अफसरों के होश उड़ा दिए हैं. दम तोड़ते बिजली (Electricity) के उपकरण भी गर्मी और डिमांड को नहीं झेल पा रहे हैं. नतीजा नोएडावासियों को दिन और रात में कई-कई बार बिजली कटौती झेलनी पड़ रही है. बीते दो साल के मुकाबले नोएडा (Noida) में बिजली की डिमांड भी डबल हो गई है. 4 लाख से ज्यादा बिजली उपभोक्ताओं (Electricity Consumers) को लगातार बिजली देना मुश्किल होता जा रहा है. लोड बढ़ने और गर्मी के चलते हर तीन-चार घंटे बाद कटौती शुरू हो जाती है.

40 साल पुराना है नोएडा का बिजली सिस्टम

जानकारों की मानें तो 40 साल पहले नोएडा का बिजली सिस्टम खड़ा किया गया था. यह सिस्टम उस वक्त की नोएडा की आबादी को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया था. बावजूद इसके सिस्टम को इस तरह से तैयार किया गया था कि बिजली की लाइनें 1500 मेगावाट  लोड पर अच्छे से काम कर सकें. लेकिन वक्त बढ़ने के साथ नोएडा भी चारों दिशाओं में बढ़ता चला गया.


आपके शहर से (नोएडा)

तीन साल पहले नाबालिग लड़की का हुआ था अपहरण, अब पुलिस ने इस हालत में किया बरामद

नोएडा पुलिस की बड़ी कार्रवाई, दो गैंगस्टर की 5.5 करोड़ रुपए की अवैध संपत्ति कुर्क

1200 से ज्यादा बिल्डर्स पर यूपी रेरा ने लगाई करोड़ों रुपये की पेनल्टी, जानें मामला

जेवर एयरपोर्ट के आस-पास के इलाकों में अब नहीं कटेगी बिजली, विद्युत निगम ने किया खास उपाय

Delhi-NCR में पैर पसारती बीमारी, 30 दिन और हर 10 घर में से 8 में वायरल के मरीज

Noida: देवर्षि दासगुप्ता को उबर ने लौटाए पैसे, IGI एयरपोर्ट से नोएडा के लिए थे 2935 रुपए

महिला इंटीरियर डिजाइनर ने किया 30 लाख का गबन, फिर केस में फंसाने की दी धमकी और अब...

Twin Tower Blast के दौरान आने-जाने को इन रास्तों का कर सकते हैं इस्तेमाल

Noida में आज यहां रहेगा ट्रैफिक रूट डायवर्जन, जानें पूरा प्लान

सुपरटेक ट्विन टावर्सः 28 अगस्त की सुबह खाली कराए जाएंगे फ्लैट्स, ये है खास प्लान

Janmashtami 2022: नोएडा के निठारी गांव में लड़के नहीं लड़कियां फोड़ती हैं दही-हांडी, जानें क्‍यों?


आबादी, कंपनी और फैक्ट्रियां बढ़ने के चलते बिजली की डिमांड भी बढ़ती चली गई. दो साल में ही बिजली की डिमांड 950 से 2000 मेगावाट पर आ गई है. जिसका असर यह हुआ कि नोएडा के पुराने हो चुके बिजली सिस्टम की सांस फूलने लगी है.

यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे ट्रामा सेंटर बनने का रास्ता हुआ साफ, जानें कहां बनेगा

फैक्ट्रियों में चार तो घरों में 6 घंटे हो रही है कटौती

गर्मी और बिजली की लाइन पर लोड बढ़ने से जगह-जगह फॉल्ट हो रहे हैं. कहीं-कहीं लोड बढ़ते ही लाइन और ट्रांसफार्मर को बचाने के लिए शटडाउन भी लिया जा रहा है. वजह जो भी रहे लेकिन कटौती का सामना नोएडा वालों को करना पड़ रहा है. पीवीवीएनएल के सामने भी दोहरी परेशानी है. उसे बिजली के उपकरण भी बचाने हैं तो बिजली की ज्यादा से ज्यादा सप्लाई भी देनी है. इसी के चलते फैक्ट्री वाले इलाकों में चार घंटे तो रिहाइशी इलाकों में 6 घंटे तक बिजली कटौती की जा रही है. रविवार को भी रिहाइशी सेक्टर-2,3,4,5,6,7,8,9,10,11, 64,65,57 में और फैक्ट्रियों वाले सेक्टर- 22, 23, 24, 32 में भी दिनभर कटौती का खेल जारी रहा.

पीवीवीएनएल के कर्मचारियों पर इन्हें बचाने की जिम्मेदारी भी है

पीवीवीएनएल से जुड़े जानकारों की मानें तो नोएडा में बिजली सब स्टेशन का भी एक बड़ा जाल है. 670 से ज्यादा बने सब स्टेशन से नोएडा को बिजली सप्लाई की जाती है. इसमे 400 केवी के दो और 132 केवी के 4 स्टेशन तो ऐसे हैं जो 33 और 11 केवी के सैकड़ों सब स्टेशन को बिजली सप्लाई करते हैं. 33 केवी के 100 और 11 केवी के 566 सब स्टेशन हैं. इतना ही नहीं इन सभी सब स्टेशन से 24 हजार से ज्यादा छोटे-बड़े ट्रांसफार्मर भी जुड़े हुए हैं.

ऐसे में सब स्टेशन और ट्रांसफार्मर के जाल को पीवीवीएनएल कर्मचारियों और अफसरों के लिए जरूरी हो जाता है. क्योंकि इसमे से अगर कोई एक भी खराब हुआ तो उस इलाकों को घंटों के लिए लगातार बिजली सप्लाई से वंचित रहना पड़ेगा. ऐसे में कर्मचारी सिर्फ बारिश होने की दुआ कर रहे हैं. क्योंकि बारिश होने के बाद बिजली की डिमांड में कमी आ जाएगी.

Tags:Electricity, Noida news, UP Electricity Crisis