Home / News / uttar-pradesh /

garden glory society buyer strike for flat registry nodark

Noida : बिल्डर और अथॉरिटी के बीच लटकी घर की रजिस्ट्री, 14 साल से किराएदार की तरह रहने को मजबूर

Garden Glory Society Noida authority:नोएडा के सेक्टर-44 स्थित गार्डन ग्लोरी सोसाइटी में रहने वाले लोगों को कहना है कि हमने पूरा पैसा बिल्डर को दे दिया, लेकिन रजिस्‍ट्री नहीं हो पा रही है. हम 14 साल से अपने ही घरों किराएदार की तरह रह रहे हैं.

रिपोर्ट: आदित्य कुमार

नोएडा. देश की राजधानी दिल्‍ली से सटे नोएडा के सेक्टर-44 स्थित गार्डन ग्लोरी सोसाइटी में रहने वालों को घर लिए 14 साल हो गए, लेकिन आज भी अपने ही घर में किराएदार की ही तरह रहना पड़ रहा है. ऐसा इसलिए है क्योंकि यहां रहने वालों की अभी तक रजिस्ट्री ही नहीं हुई है. तो चलिए आपको बताते हैं कि रजिस्ट्री आखिर क्यों रुकी हुई है? और क्यों देना पड़ता है धरना?

दरअसल गार्डन ग्लोरी सोसाइटी में रहने वाले लोगों के नाम सालों तक जब घर की रजिस्ट्री नहीं हुई तो निवासियों ने प्राधिकरण में एक आरटीआई लगाई. आरटीआई के जरिए लोगों ने प्राधिकरण से पूछा कि आखिर क्यों हम लोगों की रजिस्ट्री रोकी गई है, तो प्राधिकरण ने जवाब दिया कि सोसाइटी के बिल्डर ने लोगों का पूरा पैसा प्राधिकरण को दिया ही नहीं. जबकि बिल्डर पर नोएडा प्राधिकरण का 591 करोड़ रुपए बकाया है.


आपके शहर से (नोएडा)

NOIDA: शहर में घूम रही हैं लंपी वायरस से पीड़ित गोवंश, नहीं मिल रहा कोई आसरा और सहारा

खुशखबरी: सर्दियों में कम हो सकते हैं अंडे के रेट, जानें वजह

Jewar Airport के पास 477 प्लाट के लिए डाउनलोड हुए 30 हजार फार्म

पश्चिमी यूपी के छह जिलों में पासपोर्ट बनवाना होगा अनिवार्य, यह सुविधा होने जा रही है शुरू

काम की खबरः जितनी जरूरत उतने ही अंडे खरीदें, रखें ध्यान, वरना सेहत को हो सकता है नुकसान

UP: नोएडा में पहली बार खेला गया 'फुटसाल' गेम, क्या आपने कभी देखा है?

नोएडा: महिला असिस्टेंट कमिश्नर को धमकी और गाली देने के आरोप में SGST इंस्पेक्टर गिरफ्तार

Noida: अभी जारी रहेगा डायवर्जन, जानिए कब तक बनकर तैयार होगा परथला गोलचक्कर पर ब्रिज?

नोएडा टाइम्स स्कवायर के लिए चौथी बार जारी हुआ टेंडर, जानें प्लान 

Noida Rains : ये आपकी सोसायटी तो नहीं! बारिश ने खोल दी जिसकी पोल, कहीं सुनवाई न होने से नाराज लोग

GIP Mall Noida: जीआईपी मॉल के ये 5 बेहद खास स्पॉट, क्‍या आप जानते हैं?


कहां गए सोसाइटी के 591 करोड़ ?
गार्डन ग्लोरी सोसाइटी के निवासी दुर्गेश सिंह बताते हैं कि साल 2009 में हमने यहां घर बुक किया था, लेकिन इतने साल में भी ना तो ऑक्यूपेंसी सर्टिफिकेट बना है और ना ही कंप्लीशन सर्टिफिकेट. ऐसी स्थिति में घर की रजिस्ट्री नहीं हो पा रही है. वह बताते हैं कि हम कामकाज वाले लोग हैं. दिन भर की थकान के बाद जब घर पहुंचते हैं तो हमें मूलभूत सुविधाओं के लिए भी या तो धरना देना पड़ता है या फिर बिल्डर और प्राधिकारण के यहां चक्कर काटने पड़ते हैं. हम कहते हैं कि जब हमने पूरा पैसा बिल्डर को दे दिया तो बिल्डर ने पैसा कहां रखा? कहीं ऐसा न हो कि बकाया पैसा हम बायर्स को ही देना पड़े.

छोटा सा भी हादसा हत्या करने वाला होगा
सोसाइटी में रहने वाले विशाल बताते हैं कि हमने पैसा दिया ताकि हम लोग सुरक्षित रहें, हमें हमारी जरूरी सुविधा मिले, लेकिन यहां पानी से लेकर बिजली तक के लिए लड़ना पड़ता है. कभी अगर धोखे से कहीं आग लग जाए तो हजारों लोग इस सोसाइटी में रह रहे हैं सबकी जान खतरे में आ जाएगी है, क्योंकि यहां लगा फायर सिस्टम काम ही नहीं करता.

बिल्डर को कोई अता-पता नहीं
सेक्टर-44 स्थित गार्डन ग्लोरी सोसाइटी में रहने वालों के सवालों का जवाब ढूंढने के लिए NEWS 18 LOCAL की टीम ने बिल्डर मनोज राय से संपर्क करना चाहा, लेकिन उन्‍होंने फोन और मैसेज का कोई जवाब नहंी दिया.

Tags:Noida Authority, Noida news

अधिक पढ़ें