लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

NOIDA अथॉरिटी ने बिल्डर सोसाइटी में किया अहम बदलाव, अगर की अनदेखी तो भरना होगा 20 लाख जुर्माना

NOIDA अथॉरिटी ने बिल्डर सोसाइटी में किया अहम बदलाव, अगर की अनदेखी तो भरना होगा 20 लाख जुर्माना

Noida Authority Board Meeting: नोएडा में 20 हजार वर्गमीटर या उससे बड़ी करीब 95 ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी है. इसमें से करीब 77 में एनसीटू सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट क्रियाशील है. 11 ग्रुप हाउसिंग में एनसीटू एसटीपी का प्रवाधान ओसी और सीसी में नहीं है. ये सभी नोएडा की सेंट्रल एसटीपी से जुड़े हुए है. इसके अलावा छह ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी में जिसमें आम्रपाली फ्यूटेक शेल्टर्स सेक्टर-75, स्काईटेक सेक्टर-76 में एसटीपी नहीं होने पर नोटिस जारी किए जा चुके है. वर्तमान में ये नियम बनने से अब जिन सोसाइटी में एनसीटू ट्रीटमेंट प्लांट नहीं लगे हैं उन पर जुर्माना लगाया जाएगा.

Noida: अथॉरिटी ने बिल्डर सोसाइटी के लिए NC2 ट्रीटमेंट प्लांट किया अनिवार्य

Noida: अथॉरिटी ने बिल्डर सोसाइटी के लिए NC2 ट्रीटमेंट प्लांट किया अनिवार्य

हाइलाइट्स

NC2 ट्रीटमेंट प्लांट नहीं लगा तो लगेगा 20 लाख जुर्माना
20 हजार वर्गमीटर से बड़े ग्रुप हाउसिंग सोसायटी में लागू नियम

नोएडा. 20 हजार वर्गमीटर से अधिक क्षेत्रफल वाली ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी में एन-सीटू सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट बनाना अनिवार्य कर दिया गया है. यदि किसी सोसाइटी में ये प्लांट नहीं बना है तो इसे एनजीटी के नियमों का उल्लंघन माना जाएगा और सोसाइटी के ऊपर 20 लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जाएगा. नोएडा की 207वीं बोर्ड बैठक में इस नियम को लागू कर दिया गया है.

नोएडा में 20 हजार वर्गमीटर या उससे बड़ी करीब 95 ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी है. इसमें से करीब 77 में एनसीटू सिवरेज ट्रीटमेंट प्लांट क्रियाशील है. 11 ग्रुप हाउसिंग में एनसीटू एसटीपी का प्रवाधान ओसी और सीसी में नहीं है. ये सभी नोएडा की सेंट्रल एसटीपी से जुड़े हुए है. इसके अलावा छह ग्रुप हाउसिंग सोसाइटी में जिसमें आम्रपाली फ्यूटेक शेल्टर्स सेक्टर-75, स्काईटेक सेक्टर-76 में एसटीपी नहीं होने पर नोटिस जारी किए जा चुके है. वर्तमान में ये नियम बनने से अब जिन सोसाइटी में एनसीटू ट्रीटमेंट प्लांट नहीं लगे हैं उन पर जुर्माना लगाया जाएगा.

नोटिस देने की तैयारी
प्राधिकरण अधिकारियों ने बताया कि निरीक्षण के दौराना पाया गया कि कई सोसाइटी में एसटीपी कार्यशील नहीं है. उनको नोटिस सर्व करने की तैयारी की जा रही है. इन सभी को एक माह में एनसीटू ट्रीटमेंट प्लांट लगाना होगा और उसे क्रियाशील करना होगा।  ऐसा नहीं करने पर 20 लाख जुर्माना और प्रतिमाह 5 लाख रुपए के हिसाब से जुर्माना लगाया जाएगा। बताया गया कि जिन स्थानों पर ट्रीटमेंट प्लांट क्रियाशील है, उनकी हर माह सैंपलिंग की जाएगी। सैंपल फेल होने पर उन पर 10 लाख रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इन नियमों को बोर्ड ने पास किया गया है.

आपके शहर से (नोएडा)

गोली लगने के बाद 23.7 किमी ड्राइव कर शख्स पहुंचा घर, नहाकर अस्पताल में हुआ भर्ती, पुलिस भी चकराई

Noida News: मजबूत नेशनल प्लेयर देने वाले इस स्कूल की बिल्डिंग बिल्कुल जर्जर, पढ़ें नोएडा की यह कहानी

Noida News: यहां हजारों लोग रोज नाव से पार करते हैं हिंडन नदी, तरीका देख दंग रह जाएंगे

Noida News: नोएडा के इस एरिया में घर के सामने महिलाओं से छेड़छाड़ करते हैं लफंगे, लोग बेबस

'यहां हिंदी गाने प्रतिबंधित हैं', पश्चिम बंगाल में गायिका का Live Show में अपमान

डेढ़ महीने में 4 अरब का ट्रांजेक्शन, दुबई से ऑपरेट हो रहे इंटरनेशनल गेमिंग साइट का भंडाफोड़, 16 गिरफ्तार

NOIDA में पॉड टैक्सी चलाने की तैयारी, लोगों ने पूछा सिटी बस कब चलेगी सरकार?

EXCLUSIVE: गेमिंग साइट से सट्टेबाजी, 400 करोड़ रुपये का लेनदेन, दुबई और D कंपनी से जुड़े तार, 16 गिरफ्तार

Noida News: ये नहीं होते तो नोएडा में बन जाता दूसरा ट्विन टावर, लोगों को इस तरह किया जागरुक

Noida News: टेलीकॉम कंपनियों को अथॉरिटी का नोटिस, सोसाइटी के गड्ढों को भरने का आदेश

जंगली, भूतिया जैसे नाम न हास हैं न परिहास, जानें नोएडा के 'यादव कुनबे' के नामों का इतिहास


इस आधार पर बनाया गया नियम 
दरअसल, पर्यावरण वन और जलवायु मंत्रालय ने 2006 में पर्यावरणीय प्रभाव आंकलन के लिए अधिसूचना जारी की थी. जिसके तहत पर्यावरण वन और जलवायु मंत्रालय द्वारा 2018 में जारी अधिसूचना में निर्माण परियोजनाओं के लिए पर्यावरणीय परिस्थतियों के अनुसार ये निर्धारित किया गया है कि 20 हजार वर्ग मीटर अधिक निर्मित वाले ग्रुप हाउसिंग के लिए 100 प्रतिशत सिवरेज जल के शोधन के लिए प्लांट लगाना अनिवार्य है.

क्या होता है एनसीटू ट्रीटमेंट प्लांट
इसमें सीवरेज पानी को बाहर लाकर साफ करने की आवश्यकता नहीं है. एनसीटू ट्रीटमेंट प्लांट के अंदर ही पानी को शोधित करता है. ये शोधित पानी पाइप लाइन के जरिए यमुना में डाला जाएगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Noida Authority, Noida news

FIRST PUBLISHED : November 20, 2022, 08:21 IST
अधिक पढ़ें