लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

Allahabad High Court: अनुदेशकों को बड़ा झटका, हाइकोर्ट ने सुनाया सिर्फ 1 साल का मानदेय देने का फैसला

Allahabad High Court: अनुदेशकों को बड़ा झटका, हाइकोर्ट ने सुनाया सिर्फ 1 साल का मानदेय देने का फैसला

Allahabad High Court, Prayagraj News: इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश के उच्च प्राथमिक विद्यालय में कार्यरत अनुदेशकों को 17000 मानदेय दिए जाने को लेकर राज्य सरकार की स्पेशल अपील पर फैसला सुनाते हुए अनुदेशकों को केवल एक साल सत्र 2017-2018 के लिए 17000 रुपये मानदेय दिए जाने का आदेश दिया है.

Allahabad High Court: कोर्ट ने याचियों को मानदेय घटाने के खिलाफ अलग से याचिका दाखिल करने की छूट दी है.

Allahabad High Court: कोर्ट ने याचियों को मानदेय घटाने के खिलाफ अलग से याचिका दाखिल करने की छूट दी है.

Allahabad High Court, Prayagraj News: प्रदेश के उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत अनुदेशकों को इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले से बड़ा झटका लगा है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश के उच्च प्राथमिक विद्यालय में कार्यरत अनुदेशकों को 17000 मानदेय दिए जाने को लेकर राज्य सरकार की स्पेशल अपील पर फैसला सुनाते हुए अनुदेशकों को केवल एक साल सत्र 2017-2018 के लिए 17000 रुपये मानदेय दिए जाने का आदेश दिया है. राज्य सरकार की ओर से दाखिल स्पेशल अपील पर चीफ जस्टिस राजेश बिंदल और जस्टिस जे जे मुनीर की डिवीजन बेंच ने ये फैसला सुनाया है.

जस्टिस राजेश चौहान की सिंगल बेंच ने 3 जुलाई 2019 को अनुदेशकों को 17000 रुपए मानदेय देने का आदेश दिया था. सिंगल बेंच के इस फैसले को राज्य सरकार ने स्पेशल अपील दाखिल कर चुनौती दी थी. राज्य सरकार की स्पेशल अपील पर सुनवाई पूरी होने के बाद कोर्ट ने 8 सितंबर 2022 को फैसला रिजर्व कर लिया था.

हाई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुएकहा है कि प्रोजेक्ट अप्रूवल बोर्ड से अनुदेशकों की नियुक्ति एक साल की होती है. इसलिए इन्हें एक साल का ही 17000 मानदेय मिलना चाहिए. हांलाकि कोर्ट ने याचियों को मानदेय घटाने के खिलाफ अलग से याचिका दाखिल करने की छूट दी है. हाईकोर्ट ने अनुदेशकों के मानदेय को लेकर राज्य सरकार को भी आगे निर्णय लेने का निर्देश दिया है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

25 साल की कथावाचक...विज्ञान की पढ़ाई के बाद राधिका ने अपनाया धर्म का रास्ता

Prayagraj news: यहां मशहूर है कल्लू की कचौड़ी, खाते-खाते कई छात्र बन गए अधिकारी

पुण्यतिथि : कितनी थी नेहरू के पिता की कमाई, मशहूर हैं जिनके ठाट-बाट के किस्से

Magh Mela: माघी पूर्णिमा का स्नान पर्व आज, संगम में डुबकी लगाकर घर लौटेंगे कल्पवासी

Ramcharitmanas Row: सपा के इस मुस्लिम नेता ने कहा- स्वामी प्रसाद मौर्य को ऐसा बयान नहीं देना चाहिए

UP Board Exam 2023: यूपी बोर्ड परीक्षा कहां होगी? यहां देखें एडमिट कार्ड से जुड़ा जरूरी अपडेट

Prayagraj: प्रेगनेंट महिलाओं को बिना डोनर मुफ्त में मिलेगा खून, तीमारदारों को मिली बड़ी राहत

प्रयागराज आकर जानें अपने पूर्वजों का इतिहास, पंडा जी के पास है तमाम जानकारियां

Azab-Ghazab: इस मंदिर में जूते-चप्पल चोरी होने से मिलती है सुख-शांति, जानिए इससे जुड़ी मान्यता

प्रयागराज: अनूठी है 18 सालों तक सिर पर अग्नि रखकर तप करने की परंपरा, नियम टूटा तो...

कौन सा एकमात्र वस्त्र धारण करती हैं महिला नागा साधु, कितना कठिन जीवन जीती हैं


गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत लगभग 27 हजार अनुदेशकों का मानदेय 2017 में केंद्र सरकार ने बढ़ाकर 17000 रुपये कर दिया था. जिसको यूपी सरकार ने लागू नहीं किया था. इसी मानदेय को बढ़ाने की मांग को लेकर अनुदेशकों ने हाईकोर्ट में रिट दाखिल की थी. हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने अनुदेशकों को 17 हजार मानदेय देने का आदेश दिया था. कोर्ट ने अनुदेशकों को 2017 से 17000 मानदेय 9% व्याज के साथ देने का आदेश दिया था. याची विवेक सिंह,आशुतोष शुक्ला और भोला नाथ पांडेय की ओर से याचिका दाखिल की गई थी. सिंगल बेंच के इसी फैसले को राज्य सरकार ने स्पेशल अपील दाखिल कर चुनौती दी थी.

ये भी पढ़ें-रु 4500 का हर्जाना देने की जगह 7 सालों तक मुकदमा लड़ता रहा डाक विभाग, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लगाई कड़ी फटकारशैक्षणिक योग्यता से जुड़े मामले में डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को इलाहाबाद हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Allahabad high court, Allahabad High Court Order

FIRST PUBLISHED : December 02, 2022, 16:12 IST
अधिक पढ़ें