लेटेस्ट खबरेंमनीअजब-गजबबजट 2023क्रिकेटफूडमनोरंजनवेब स्टोरीजफोटोकरियर/ जॉब्सलाइफस्टाइलहेल्थ & फिटनेसशॉर्ट वीडियोनॉलेजलेटेस्ट मोबाइलप्रदेशपॉडकास्ट दुनियाराशिNews18 Minisसाहित्य देशक्राइमLive TVकार्टून कॉर्नर#MakeADent #RestartRight #HydrationforHealth#CryptoKiSamajhCryptocurrency
होम / न्यूज / उत्तर प्रदेश /

काशी-तमिलियन का DNA एक, BHU और हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने किया चौंकाने वाला खुलासा, जानें सब कुछ

काशी-तमिलियन का DNA एक, BHU और हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने किया चौंकाने वाला खुलासा, जानें सब कुछ

DNA of Kashi-Tamilians: बीएचयू के जीव विज्ञानी प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि काशी और तमिलियन लोगों के पूर्वज एक ही थे और वो चार अलग-अलग मानव जातियों से जुड़े थे. इसमें सबसे बड़ा हिस्सा सिंधु घाटी की सभ्यता से जुड़ा था. इसके बाद गंगा घाटी, अंडमान जाति, ईरान से जुड़ा था.

रिपोर्ट: अभिषेक जायसवाल

वाराणसी. बाबा विश्वनाथ के शहर बनारस (Banaras) में हो रहे ‘काशी तमिल संगमम’ में दो राज्यों की सभ्यता और संस्कृति का समागम देखने को मिल रहा है. इस संगमम के बीच बीएचयू (BHU) और हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने चौंकाने वाला दावा किया है. रिसर्च के बाद वैज्ञानिकों ने काशी और तमिलनाडु के पूर्वजों के डीएनए को भी सेम बताया है. काशी के 100 और तमिलनाडु के 200 लोगों के जीनोम पर रिसर्च के बाद ये चौंकाने वाले परिणाम सामने आए हैं. ये रिसर्च उतर और दक्षिण भारत के मजबूत सम्बंध पर वैज्ञानिक मुहर भी लगाता है.

बीएचयू के जीव विज्ञानी प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि काशी और तमिलियन लोगों के पूर्वज एक ही थे और वो चार अलग-अलग मानव जातियों से जुड़े थे. इसमें सबसे बड़ा हिस्सा सिंधु घाटी की सभ्यता से जुड़ा था. इसके बाद गंगा घाटी, अंडमान जाति, ईरान से जुड़ा था. जो कहीं न कहीं इस बात पर मुहर लगाता है कि दोनों ही राज्यों के पूर्वज एक ही थे.इस कारण दिखाई देती है भिन्नताउन्होंने बताया कि जीनोम के चार हिस्से होते है. वर्तमान समय में जो काशी और तमिलियन लोगों के बीच एकरूपता नहीं है. उसकी वजह है जीनोम के वो कम्पोरनेंट्स जो काशी और तमिलियन दोनों में तो पाए जाते हैं, लेकिन उसकी मात्रा कहीं कम तो कहीं ज्यादा जिसके कारण वर्तमान समय में इनके रंग रूप में भिन्नता दिखाई देती है.

आपके शहर से (वाराणसी)

Varanasi News: BHU में मनचलों को लड़कियां पढ़ाएंगी शराफत का पाठ, कहा- विवि और पुलिस के बूते की बात नहीं

Good news: संत रविदास की जन्मस्थली पर बनेगा 24 करोड़ का म्यूजियम, 15वीं शताब्दी का होगा एहसास

Varanasi Crime News: यूपी में पिटाई का खौफनाक बदला, साढ़े चार साल के बच्चे की ले ली जान, जानें मामला

Varanasi News: ब्लाइंड स्टूडेंट्स से BHU के सुरक्षाकर्मियों ने की बदसलूकी, देखिए वीडियो

Gold-Silver Price in Varanasi: सोना धड़ाम, चांदी भी टूटी, फटाफट चेक करें लैटेस्ट कीमत

BHU में ब्लाइंड स्टूडेंट्स से छेड़खानी के आरोपी को मिली जमानत, धरने पर बैठी छात्राएं, जानें मामला

Gold Price in Varanasi Today: वेडिंग सीजन के बीच फिर ठहरा सोना-चांदी, जानिए लेटेस्ट कीमत

Varanasi News: 5 साल के मासूम का पहले हुआ अपहरण फिर गला दबाकर की हत्या, आरोपी गिरफ्तार

इस माह वंदेभारत ट्रेनों की संख्‍या हो जाएगी 10, जानें इस सभी ट्रेनों के रूट

Varanasi: पुलिस के खिलाफ BHU में छात्रों का धरना जारी, बंद किया 'सिंह' द्वार, जानें पूरा मामला

Varansi News: धोती कुर्ता में खिलाड़ी, संस्कृत में कमेंट्री; काशी में हुआ अनोखा क्रिकेट मैच


बीएचयू और सीसीएमबी हैदराबाद के वैज्ञानिक रहे शामिलबात यदि इस रिचर्स की करें तो 2006 से देश के अलग-अलग जगहों के 75 वैज्ञानिक इस काम मे जुटे थे. इसके अलावा कई सारे रिसर्च स्कॉलर भी इसमें शामिल हुए. इन टीम ने अलग-अलग संस्थाओं से सैम्पल कलेक्ट किया और फिर उस पर लम्बे समय तक रिसर्च के बाद इन फैक्ट्स को पाया. इस रिसर्च में मुख्य रूप से बीएचयू के साथ सीसीएमबी हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने अहम भूमिका निभाई है. इसके अलावा कई छोटे-छोटे रिसर्च सेंटर भी इसमें शामिल हैं. प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि फिलहाल ये रिसर्च अभी जारी है. इसमें देश के अलग-अलग के लोगों में कितनी समानता है इसके बारे में वैज्ञानिक पता लगा रहे हैं.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

Tags: Kashi Vishwanath, Tamil nadu, UP news, Varanasi news

FIRST PUBLISHED : November 30, 2022, 20:02 IST
अधिक पढ़ें