Home / News / uttarakhand /

khupi village no water pipeline till now localuk

Nainital: उत्तराखंड के गठन के 21 साल बाद भी इस गांव में नहीं पहुंची पानी की लाइन, जानें क्‍या है दिक्‍कत?

नैनीताल से महज 15 किलोमीटर दूर खूपी गांव में नया राज्‍य बनने के 21 वर्षों से पानी की पाइपलाइन नहीं पहुंच पायी है. यही नहीं, जिन ग्रामीणों के घर गधेरों-स्रोतों से दूर है, वो 3 से 4 किलोमीटर पैदल चलकर पानी भरकर लाना पड़ता है.

(रिपोर्ट- हिमांशु जोशी)

नैनीताल. उत्तराखंड का गठन हुए 21 साल पूरे हो गए हैं, लेकिन राज्य के खूबसूरत नैनीताल जिले का एक गांव ऐसा भी है, जहां के घरों में आज तक जल संस्थान की कोई पाइपलाइन पहुंची ही नहीं है. जिले के मुख्‍यालय से महज 15 किलोमीटर दूर खूपी गांव में इतने वर्षों से पानी की पाइपलाइन नहीं पहुंच पायी है. यही वजह है कि यहां रहने वाले लोग आज तक अपने घरों के पास स्थित गधेरों और स्रोतों से ही पानी लाकर इस्तेमाल करते आए हैं.

जिन ग्रामीणों के घर गधेरों-स्रोतों से नजदीक हैं, उन्होंने निजी स्तर पर अपने घर पर ही गधेरों से पाइप जोड़े हुए हैं. वहीं, जिनके घर प्राकृतिक स्रोतों से दूर हैं, उन्हें लगभग 3 से 4 किलोमीटर पैदल चलकर पानी भरकर लाना पड़ता है.

आपके शहर से (नैनीताल)

नैनीताल के इस सितारे ने 'बैंडिट क्वीन' से जीता था सबका दिल, जयंती पर लोगों ने ऐसे किया याद

Nainital: क्‍या आपने देखा है नैनीताल का ये रहस्यमयी ताल? पूर्णिमा की रात यहां आती हैं 'परियां'

नैनीताल की खूबसूरत जगहों में से एक है टिफिन टॉप, अंग्रेज महिला के नाम पर पड़ा इसका 'डोरोथी सीट' नाम

Nainital: 'सुपर वीकेंड' पर आ रहे हैं नैनीताल? अगर होटल नहीं मिल रहा तो ये जगह बन सकती है ठिकाना

नैनीताल: इस सरकारी स्कूल को मिलता है हर रोज चंद बाल्टी पानी, फर्नीचर-टॉयलेट, क्लासरूम सब खस्ताहाल

नैनीताल के DM की अनोखी पहल: रामगढ़ बना हॉर्टी टूरिज्म सेंटर, 8 एकड़ जमीन पर लहलहा रही सेब की फसल

Nainital: देश-विदेश में पहचान बनाने वाला 'चोपड़ा गांव' की सड़क बनी जी का जंजाल, जानें वजह

Nainital News: सरोवर नगरी नैनीताल में पर्यटक मनाएंगे 'सुपर वीकेंड', 15 अगस्त तक पैक हुए कई होटल

नैनीताल जिले में इस जगह है छोटा कैलाश, यहां बैठकर भगवान शंकर ने देखा था राम और रावण का युद्ध!

Nainital: अमेरिकन मुर्गों ने बदली ग्रामीणों की किस्मत, बने आत्मनिर्भर; हो रही अच्‍छी कमाई

नैनीताल में हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, पत्नी के कहने पर भाई ने पत्थरों से कूचकर की थी पति की हत्या


ग्रामीणों ने कही बात

खूपी गांव के ग्रामीणों ने बताया कि उन्होंने नेताओं और अधिकारियों से मुलाकात कर कई बार पानी की पाइपलाइन बिछाने की मांग की है, लेकिन हर बार उनकी मांग को अनसुना कर दिया गया. चुनाव के समय यहां वोट मांगने के लिए नेता जरूर आते हैं, पानी देने का वादा भी किया जाता है. वहीं, चुनाव बीतते ही वह वादा भी बीत जाता है. खूपी की प्रधान अनिता ने कहा कि गांव में जल संस्थान की पानी की लाइन है या नहीं, इस बात की उन्हें जानकारी नहीं है. बीते साल आपदा के दौरान ग्राम सभा स्तर से इस गांव में पानी की आपूर्ति कराई गई थी. गांव को ‘हर घर नल, हर घर जल’ योजना का लाभ भी अभी तक नहीं मिल सका है, इसके लिए वह प्रयासरत हैं.


बता चलें कि नैनीताल विधानसभा में आने वाले इस गांव में लगभग 80 से 90 परिवार रहते हैं. नैनीताल के सांसद और विधायक बदलते रहे, लेकिन आज तक इस गांव को पानी की एक अदद पाइपलाइन नसीब नहीं हो सकी है.

Tags:Nainital news, Nainital tourist places, Water Crisis