Home / News / uttarakhand /

pine trees continuously increasing can replace oak cause disturbance in ecosystem localuk

Nainital: पहाड़ों में बांज की जगह ले रहे चीड़ के पेड़, इकोसिस्टम पर पड़ेगा बुरा असर?

पिछले कुछ वर्षों में चीड़ के पेड़ों की संख्या में काफी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है. यह बांज के जंगलों में भी जगह घेर रहे हैं. इससे बांज के कम होने और भविष्य में पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) के असंतुलित होने की आशंकाएं बढ़ सकती हैं.

(रिपोर्ट- हिमांशु जोशी)

नैनीताल. उत्तराखंड राज्य के जंगलों (Uttarakhand Forest Condition) में बांज और चीड़ के पेड़ काफी ज्यादा पाए जाते हैं. हालांकि पिछले कुछ वर्षों में चीड़ के पेड़ों की संख्या में काफी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है. यह बांज के जंगलों में भी जगह घेर रहे हैं. इससे बांज के कम होने और भविष्य में पारिस्थितिकी तंत्र (Ecosystem) के असंतुलित होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं.

चीड़ का पेड़ वैसे तो पहाड़ के लोगों के लिए रोजगार का जरिया भी है. इसके फल से अलग-अलग तरह की आकृतियां बनाकर लोग बेचते और पैसे कमाते हैं. हालांकि यह पेड़ जंगलों में लगने वाली आग के लिए भी कुछ हद तक जिम्मेदार है. इस पेड़ की घास पिरूल ज्वलनशील होती है.

आपके शहर से (नैनीताल)

नैनीताल की खूबसूरत जगहों में से एक है टिफिन टॉप, अंग्रेज महिला के नाम पर पड़ा इसका 'डोरोथी सीट' नाम

Nainital: 'सुपर वीकेंड' पर आ रहे हैं नैनीताल? अगर होटल नहीं मिल रहा तो ये जगह बन सकती है ठिकाना

Nainital: क्‍या आपने देखा है नैनीताल का ये रहस्यमयी ताल? पूर्णिमा की रात यहां आती हैं 'परियां'

नैनीताल: इस सरकारी स्कूल को मिलता है हर रोज चंद बाल्टी पानी, फर्नीचर-टॉयलेट, क्लासरूम सब खस्ताहाल

नैनीताल जिले में इस जगह है छोटा कैलाश, यहां बैठकर भगवान शंकर ने देखा था राम और रावण का युद्ध!

Nainital News: सरोवर नगरी नैनीताल में पर्यटक मनाएंगे 'सुपर वीकेंड', 15 अगस्त तक पैक हुए कई होटल

नैनीताल के DM की अनोखी पहल: रामगढ़ बना हॉर्टी टूरिज्म सेंटर, 8 एकड़ जमीन पर लहलहा रही सेब की फसल

नैनीताल के इस सितारे ने 'बैंडिट क्वीन' से जीता था सबका दिल, जयंती पर लोगों ने ऐसे किया याद

Nainital: देश-विदेश में पहचान बनाने वाला 'चोपड़ा गांव' की सड़क बनी जी का जंजाल, जानें वजह

नैनीताल में हुए ब्लाइंड मर्डर का खुलासा, पत्नी के कहने पर भाई ने पत्थरों से कूचकर की थी पति की हत्या

Nainital: अमेरिकन मुर्गों ने बदली ग्रामीणों की किस्मत, बने आत्मनिर्भर; हो रही अच्‍छी कमाई


चीड़ के पेड़ों से एक नुकसान यह भी है कि यह अपने आसपास किसी अन्य प्रजाति के पेड़-पौधों को पनपने नहीं देते हैं. बांज के पेड़ की प्रजाति पूरे इकोसिस्टम में कीस्टोन का काम करती है. इस पेड़ की जड़ें पानी को रिटेन करती हैं. साथ ही ग्राउंड वॉटर की मात्रा को भी सुनिश्चित करती हैं.

वनस्पति विज्ञान विभाग के प्रोफेसर डॉ. ललित तिवारी बताते हैं कि चीड़ एक फास्ट ग्रोइंग स्पीसीज है और बांज इसके मुकाबले बेहद ही स्लो है. बांज 1800 मीटर से ऊपर की ऊंचाई में मिलता है तो वहीं चीड़ इससे नीचे मिलता है, लेकिन कुछ शोधों से यह पता चला है कि चीड़ का माइकोराइजा एसोसिएशन (सहजीवी संबंध) उसको बांज के जंगलों में जाने के लिए ताकत दे रहा है और अगर बांज के पेड़ों की जगह चीड़ ले लेता है, तो इससे पूरे इकोसिस्टम पर बुरा असर पड़ सकता है.


Tags:Nainital news, Uttarakhand Forest Department