होम »

ब्लॉग

जीवन और समय की जुगलबंदी है- संवत्सर

April 15, 2021, 10:33 AM IST

बेशक इन दिनों जिंदगी बुझी, बेचैन और हताश है. विपदा कुछ ऐसी है कि संघर्ष भारी पड़ रहा है. लेकिन समय के साथ जीवन और प्रकृति की हमजोली में कायम रहने वाले हमारे सांस्कृतिक लोकाचारों की आहट बनी हुई है. विपरीत हालातों में ही सही इस बार चैत्र का महीना ... और भी पढ़ें

म्यूऑन g-2: फिजिक्स के नियमों को नए सिरे से लिखने की जरूरत?

April 14, 2021, 09:57 PM IST

  इन दिनों फिजिक्स की दुनिया में तहलका मचा हुआ है. हाल ही में वैज्ञानिकों ने अमेरिका की फर्मी नेशनल ऐक्सिलरेटर लैबोरेटरी (फर्मीलैब) में हुए प्रयोगों के नतीजों की घोषणा करते हुए बताया कि हमें इस बात के ठोस सबूत मिले हैं कि एक बेहद छोटा सबएटोमिक पार्टिकल (Subatomic particle) फिजिक्स ... और भी पढ़ें

डॉ. अंबेडकर जयंती- ''एक देश एक कागज'' के नियम से पर्यावरण संरक्षण हो

April 14, 2021, 08:09 PM IST

डॉ. राजेंद्र प्रसाद और डॉ. अंबेडकर के मार्गदर्शन में 75 साल पहले जब भारत के संविधान को लिखने की तैयारी शुरू हुई, उस समय कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट का नामोनिशान भी नहीं था। लेकिन अब कोरोना के प्रकोप और लॉकडाउन की बंदिशों की वजह से देश की अदालतों में तेज ... और भी पढ़ें

Opinion: विवादित सियासी बोलों से गरमा रही 'महाराणा प्र​ताप की धरती' राजस्थान

April 14, 2021, 05:28 PM IST

राजस्थान में उपचुनाव से पहले नेताओं के विवादित बोलों से सियासत और गरमा गई है. 'नाथी का बाड़ा' से शुरू होकर 'खालाजी का बाड़ा' होते हुए विवादित बोल वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप तक जा पहुंचे है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा अपने आवास पर स्कूल टाइम में ज्ञापन देने ... और भी पढ़ें

अगर राज्य शिक्षा बोर्ड भी CBSE की तर्ज पर कुछ फैसला करें तो मिलेगी सभी को राहत

April 14, 2021, 04:55 PM IST

जान है, तो जहान है. कोरोना काल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी सूत्र वाक्य को ध्यान में रखते हुए कई महत्वपूर्ण फैसले किए हैं. अब जबकि कोरोना की दूसरी लहर का कहर देश झेल रहा है, तो केंद्र सरकार पूरी संवेदनशीलता से निर्णय ले रही है. इसकी एक बानगी ... और भी पढ़ें

Oponion: इन क्रूर मौतों और चीखों के लिए हम और आप ही तो जिम्मेदार हैं

April 14, 2021, 03:47 PM IST

साल 2020 में हम उस शत्रु की ताकत से अंजान थे फिर भी हम असंभव सी दिखने वाली लड़ाई जीत गए. इतना ही नहीं, हमने उस अदृश्य शत्रु को खत्म करने के लिए वैक्सीन तक बना डाला, वो भी रिकॉर्ड समय में. लेकिन, उस अच्छे वक्त को हमने बहुत ही ... और भी पढ़ें

संवैधानिक नैतिकता और डॉ. बी. आर. अम्बेडकर

April 14, 2021, 12:22 PM IST

आज़ाद भारत के लिए एक सभ्यता मूलक और लोकतांत्रिक व्यवस्था की कल्पना करना कितना कठिन रहा होगा, यह डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के उस वक्तव्य से स्पष्ट हो जाता है, जो उन्होंने 4 नवम्बर 1948 को संविधान सभा में संविधान के प्रारूप पर बहस शुरू करते हुए दिया था. उन्होंने ... और भी पढ़ें

डॉ. अंबेडकर के सामाजिक-आर्थिक विचारों की प्रासंगिकता

April 14, 2021, 11:12 AM IST

जब भी भारत के सामाजिक एवं आर्थिक मुद्दों की बात हो और डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर का जिक्र न हो, इसका अर्थ है कि हम विषय के साथ न्याय नही कर रहे हैं. बिना बाबासाहेब को पढ़े हम भारत के सामाजिक एवं आर्थिक मुद्दों को नही समझ सकते. उनका जन्म ... और भी पढ़ें

IPL 2021: क्रिकेट के इस अर्जुन पर अनोखे चक्रव्यूह से निकलने की चुनौती

April 13, 2021, 06:42 PM IST

‘सिर्फ इसलिए कि वो सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) का बेटा है, आप अपना कीमती समय सिर्फ एक बच्चे की प्रैक्टिस को शूट करने में बिता रहे हो. आप बच्चे को कृपया छोड़ दीजिए और कोशिश कीजिए कि सचिन आपके साथ इंटरव्यू के लिए तैयार हों. साउथ अफ्रीका के पूर्व कप्तान ... और भी पढ़ें

लखनऊ को लखनऊ में जीने वाले योगेश प्रवीन की बिना इलाज मौत, मंत्री ने उठाए सवाल

April 13, 2021, 06:03 PM IST

हर सांस लखनऊ को जीते रहे पद्मश्री योगेश प्रवीन सोमवार को अपने महबूब शहर के साथ ही इस दुनिया को भी छोड़ गए. लखनऊ को लखनऊ में लखनऊ बन कर जीते रहे योगेश प्रवीन को आखिरी वक्त पर न इलाज मिला और न एंबुलेंस. जब इलाज के लिए उन्हें अस्पताल ... और भी पढ़ें

पुष्प की अभिलाषा; आजादी के अमृत पर्व पर एक कविता का पुनर्पाठ

April 13, 2021, 11:31 AM IST

पुष्प की अभिलाषा.... छः पंक्तियों के छंद में बंधी यह कविता एक बार फिर सुर्खियों में हैं. आज़ादी की पचहत्तरवीं वर्षगांठ पर अमृत पर्व के निमित्त सौ बरस पुरानी इस रचना को याद करना प्रासंगिक बन पड़ा है. स्वाधीनता के संग्रामी अतीत की स्मृतियों के कपाट खुलते हैं तो वतन ... और भी पढ़ें

क्या बस्तर के नक्सली अपने पूर्वज चारू मजूमदार की सलाह मानेंगे?

April 12, 2021, 01:17 PM IST

कोबरा कमांडो फोर्स के जवान राकेश्वर सिंह मन्हास की नक्सलवादियों के चंगुल से सही सलामत मुक्ति में बस्तर के बुजुर्ग गांधीवादी कार्यकर्ता धर्मपाल सैनी और मुरूतुंडा गांव की सरपंच सुखमति हक्का के विशिष्ट योगदान का जिक्र आ रहा है. क्या इसे हिंसा पर अहिंसा की जीत माना जाए? क्या इसमें ... और भी पढ़ें

दलितों के ‘रहनुमा सत्ता के लिए नई थ्योरी बनाने में व्यस्त!

April 12, 2021, 12:40 PM IST

देश में आए दिन अत्याचार की घटनाएं सोशल मीडिया के द्वारा और फिर अखबारों में कहीं गुम सी दिखने वाली छोटी सी ख़बर हमें मिल जाती है. कभी-कभी मंदिर में पानी पीने को लेकर मुस्लिम बच्चे को पीटना सभी समाचार पत्रों की सुर्ख़ियो में भी आ जाता है. किसी को ... और भी पढ़ें

कृषि-संकट: भारत में महिला किसानों की समस्याएं और तीन स्तरों पर अनदेखी

April 12, 2021, 11:39 AM IST

क्या केंद्र सरकार महिला किसानों को लेकर कोई योजना चला रही है? यह प्रश्न जब पिछले वर्ष दिसंबर में संसद में पूछा गया तो उन्होंने लिखित उत्तर में बताया कि ग्रामीण विकास मंत्रालय कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारिता और उत्पादकता बढ़ाने के लिए महिला किसान सशक्तिकरण योजना चला रही ... और भी पढ़ें

राजनीति के हवन में हिन्दू-मुसलमान और गांधी

April 11, 2021, 08:55 PM IST

उपनिवेशवाद ने भारत को आर्थिक विपन्नता और साम्प्रदायिक वैमनस्यता में धकेल दिया था. वास्तव में भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के भीतर एक और आन्दोलन चल रहा था, वह आन्दोलन था भारत को एक व्यापक राष्ट्र बनाए रखने का. हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि भारतीय उपमहाद्वीप कई भू-राज्य सीमाओं में बंटा ... और भी पढ़ें

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज