मोदी का वह प्‍लान, सरहद पार हुए सेना के जवान, और इतिहास में दर्ज हो गई एक रात..!

मोदी का वह प्‍लान, सरहद पार हुए सेना के जवान, और इतिहास में दर्ज हो गई एक रात..!
29 सितंबर रात 12.30 बजे भारत के स्पेशल कमान्डो फोर्स के जवान जो कि विश्व की सबसे बेहतरीन फोर्स है,...

29 सितंबर रात 12.30 बजे भारत के स्पेशल कमान्डो फोर्स के जवान जो कि विश्व की सबसे बेहतरीन फोर्स है, Ml-17 हेलिकॉप्टरों से LOC के पार पाक सीमा के भीतर उतरते हैं। उसके बाद रेंगते हुए तकरीबन 3 किलोमीटर के दायरे में घुस कर भिंबर,  हांट स्प्रिंग, केल और लीपा सेक्टरों में सर्जीकल स्ट्राइक करके 8 आतंकवादी शिविरों को नष्ट करते हैं। इस हमले में न सिर्फ वहां स्थित सभी आतंकवादी शिविर और उसमें रहने वाले आतंकी नष्ट होते हैं, बल्कि उन्हें बचाने की कोशिश में पाकिस्तान सेना के दो जवानों की भी मौत हो जाती है और 9 जवान घायल हो जाते हैं।

इस ऑपरेशन के बाद सभी भारतीय जवान इस ऑपरेशन को कुशलतापूर्वक अंजाम देकर आसानी से भारतीय सीमा में लौट आते हैं। भारतीय सेना की ओर से पाक डीजीएनओ को इस बारे में सूचित किया जाता है

दरअसल, उसके बाद की कहानी चौंकती है, इस ऑपरेशन के बाद पाकिस्तानी सेना का बयान आता है-  "भारत की ओर से कोई सर्जीकल स्ट्राइक नहीं हुई है, यह सीमा पार से फाइरिंग थी जो पहले भी होती रही है।"

यकीनन, इससे बड़ी सफलता किसी देश के लिए क्या होगी कि वह छाती ठोंक कर हमला करके सामने वाले देश को अधिकारिक तौर पर सम्पूर्ण विश्व के सामने स्वीकार कर रहा है कि हां हमने तुम्हारी सीमा में 3 किलोमीटर तक घुस कर हमला किया है और अपने काम को अंजाम देने के बाद चुपचाप वापस आ गए हैं, लेकिन सामने वाला देश हमले से ही इंकार कर रहा हो! यह पाक के लिए कितनी बड़ी विडम्बना है कि बेचारा जब स्वयं आतंकवादियों द्वारा हमला करता है, तो भी इंकार करता है और जब हम बदला लेने के लिए उस पर हमला करते हैं, तो भी उसे इंकार करना पड़ता है।

soldiers_300916

जब पूरा देश चैन की नींद सो रहा था भारतीय फौज ने वो काम कर दिया जिसकी प्रतीक्षा पूरा भारत 18 सितंबर से कर रहा था। यह एक बहुत प्रतीक्षित कदम था जैसा कि हमारी सेना ने पहले ही कहा था कि हमारे सैनिकों के बलिदान का बदला अवश्य लिया जाएगा, लेकिन समय, स्थान और तरीका हम तय करेंगे, और वह उन्होंने किया। किसी भी देश के लिए इस प्रकार के हमलों का सबसे कठिन पहलू होता है अन्तराष्ट्रीय दबाव, लेकिन भारत ने यहां भी बाजी मार ली है।

प्रधानमंत्री बनने के बाद से ही मोदी ने पाकिस्तान की तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाने के लिए जो कदम उठाए थे और जिस प्रकार की सहशीलता का परिचय उन्होंने दिया था, आज उनकी यही कूटनीति अन्तराष्ट्रीय समुदाय को भारत का साथ देने के लिए विवश कर रही है। यह प्रधानमंत्री मोदी की विदेश नीति, राजनीति और कूटनीति की सफलता ही है कि आज विश्व भारत के साथ है और पाकिस्तान अलग-थलग पड़ चुका है।

modi_ccs_ani

अमेरिकी अखबार वॉल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा है- "मोदी संयम बरत रहे हैं, पाक इसे हल्के में न ले। पाक सहयोग नहीं करता है तो अलग-थलग पड़ जाएगा। अगर पाकिस्तानी सेना सीमा पार हथियार और आतंकी भेजना जारी रखता है, तो भारत के पास कारवाही करने के लिए मजबूत आधार होगा।"

यह मोदी की ही विशेषता है कि उन्होंने पाक को घेरने के लिए केवल सैन्य कार्यवाही का सहारा नहीं लिया बल्कि उसे चारों ओर से घेर लिया है। अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर एक तरफ इसी महीने पाक में होने वाला सार्क सम्मेलन निरस्त होने की कगार पर है, चूंकि प्रधानमंत्री मोदी द्वारा इस सम्मेलन में भाग लेने से इनकार करने के बाद बांग्लादेश अफगानिस्तान और भूटान ने भी इंकार कर दिया है, वहीं दूसरी ओर हमारी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने यूएन में पाक को दो टूक सुनाते हुए उसे सबसे बड़े अन्तराष्ट्रीय मंच पर बेनकाब किया और सम्पूर्ण विश्व को आतंकवाद पर एक साथ होने का आहवान करते हुए पाक को अलग-थलग करने का महत्वपूर्ण कार्य किया।

इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि अमेरिका और ब्रिटेन को भारत के इस कदम की पूर्व जानकारी थी। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल की 28 तारीख को अमेरिकी सुरक्षा सलाहकार सुसेन राइस से फोन पर लम्बी बातचीत हुई थी और उन्होंने उरी हमले का विरोध किया था। इससे पहले यूएस सेकरेटरी ऑफ स्टेट जॉन कैरी की भी भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से दो दिन में दो बार बात हुई थी।

दरअसल, यह सभी बातें इशारा कर रही हैं कि जो अमेरिका कभी पाकिस्तान का साथ खड़ा था, आज वह आतंकवाद के खिलाफ भारत की लड़ाई में कम से कम पाक के साथ तो नहीं है और यूएन के ताजा घटनाक्रम ने पाकिस्तान और आतंकवाद के बीच की धुंधली लकीर भी मिटा दी है। सम्पूर्ण विश्व आज जब आतंकवाद के दंश की जड़ों को तलाशता है, तो चाहे 9/11 हो, चाहे ब्रसेलस हो या फिर अफगानिस्तान सीरिया या इराक ही क्यों न हों, हमलावर लश्कर, जैश हिजबुल या तालीबान या कोई भी हों उसके तार कहीं न कहीं पाकिस्तान से जुड़ ही जाते हैं।

Modi-and-Nawaz

आखिर विश्व इस बात को भूला नहीं है कि ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान की धरती पर ही मारा गया था। भारत का मोस्ट वॉन्टेड अपराधी दाउद को भी पाक में ही पनाह मिली हुई है। आज यह भारत की उपलब्धि है कि वह विश्व को यह भरोसा दिलाने में कामयाब हुआ है कि इस प्रकार की सैन्य कार्यवाही किसी देश के खिलाफ न होकर केवल आतंकवाद के खिलाफ है, जो बात आज़ादी के 57 सालों में हम दुनिया को नहीं समझा पाए वह इन 2.5 साल में हमने न सिर्फ समझा दी बल्कि कर के भी दिखा दी। इतना ही नहीं द्विपक्षीय स्तर पर भी भारत ने सिंधु जल संधि पर आक्रमक रख दिखाया है और साथ ही उससे एमएफ स्टेट अर्थात् व्यापार करने के लिए मोस्ट फेवरेबल स्टेट का दर्जे पर भी पुनर्विचार करने का मन बना लिया है।

इस प्रकार चारों ओर से घिरे और अन्तराष्ट्रीय स्तर पर भी अकेले पड़ चुके पाक को इससे बेहतरीन जवाब दिया भी नहीं जा सकता था। हम सभी भारत वासियों की ओर से भारतीय सेना को बहुत-बहुत बधाई आज एक बार फिर हमारी सेना ने सम्पूर्ण विश्व के सामने भारत का मान बढ़ा दिया है।

(फोटो : Getty Images, IBN7 & ANI)

(लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं , एवं आईबीएन खबर डॉट कॉम इसमें उल्‍लेखित बातों का न तो समर्थन करता है और न ही इसके पक्ष या विपक्ष में अपनी सहमति जाहिर करता है। इस लेख को लेकर अथवा इससे असहमति के विचारों का भी आईबीएन खबर डॉट कॉम स्‍वागत करता है । इस लेख से जुड़े सभी दावे या आपत्ति के लिए सिर्फ लेखक ही जिम्मेदार है। आप लेख पर अपनी प्रतिक्रिया  blogibnkhabar@gmail.com पर भेज सकते हैं। ब्‍लॉग पोस्‍ट के साथ अपना संक्षिप्‍त परिचय और फोटो भी भेजें।)

facebook Twitter skype whatsapp

LIVE Now

    Loading...