मार्च की गर्मी ने बनाया रिकॉर्ड, 121 साल के इतिहास में तीसरा सबसे गर्म महीना

मौसम विभाग (India Meteorological Department) के मुताबिक बीते 121 वर्षों में ये मार्च का तीसरा सबसे गर्म महीना (third warmest March) है. विभाग की रिव्यू बैठक के दौरान सामने आया कि मार्च महीने में पूरे देश का अधिकतम औसत तापमान 32.65 डिग्री सेल्सियस रहा है.

Source: News18Hindi Last updated on: April 5, 2021, 8:27 PM IST
शेयर करें: Facebook Twitter Linked IN
मार्च की गर्मी ने बनाया रिकॉर्ड, 121 साल के इतिहास में तीसरा सबसे गर्म महीना
बीते मार्च महीने ने गर्मी का रिकॉर्ड कायम किया है. (सांकेतिक तस्वीर)
नई दिल्ली. मौसम विभाग (India Meteorological Department) ने बताया है कि बीता मार्च महीना ऐतिहासिक तौर पर गर्म रहा है. विभाग के मुताबिक बीते 121 वर्षों में ये मार्च काी तीसरा सबसे गर्म महीना (third warmest March) है. विभाग की रिव्यू बैठक के दौरान सामने आया कि मार्च महीने में पूरे देश का अधिकतम औसत तापमान 32.65 डिग्री सेल्सियस रहा है.

विभाग ने बताया है कि मार्च महीने के दौरान देश के कई हिस्सों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस को भी पार कर गया. विभाग ने कहा कि इस बार का मार्च महीना बीते 11 वर्षों में सबसे ज्यादा गर्म रहा है. इससे पहले 2010 में देश का औसत अधिकतम तापमान 33.09 और 2004 में 32.82 रहा था. इस बार होली पर भी गर्मी ने रिकॉर्ड तोड़ दिया. मार्च के महीने में ही मई जैसी गर्मी का अहसास हुआ. होली के दिन दिल्ली के सफदरजंग में 40.1 डिग्री अधिकतम तापमान दर्ज किया गया. यह 1945 के बाद मार्च महीने में सबसे ज्यादा तापमान रहा है. बढ़ते तापमान ने लोगों का चिंता बढ़ा दी है.

76 सालों में पहली बार हुआ है, जब मार्च में दिल्ली का तापमान 40 के पार गया
ऐसा 76 सालों में पहली बार हुआ है, जब मार्च में दिल्ली का तापमान 40 के पार गया है. देश की राजधानी में तापमान सामान्य से 8 डिग्री अधिक रिकॉर्ड किया गया है. लोग गर्मी से विचलित देखे गए.
29 मार्च को दिल्ली का पारा 40.1 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया
मौसम विज्ञानियों की मानें तो दिल्ली में साल 1945 के बाद पहली बार गर्मी में इतनी तेजी देखी गई है. 29 मार्च को दिल्ली का पारा 40.1 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया. ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था. मार्च के महीने में पहली बार दिल्ली में लू चलने जैसी गर्म हवा महसूस की गई. इसके पहले इसकाा आभास आम तौर पर अप्रैल में ही होता रहा है.
(डिस्क्लेमर: ये लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता/सटीकता के प्रति लेखक स्वयं जवाबदेह है. इसके लिए News18Hindi किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है)
facebook Twitter whatsapp
First published: April 5, 2021, 8:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर