होम »

ब्लॉग

निजी से मोह भंग, सरकारी स्कूल चले बच्चे

October 27, 2020, 01:56 PM IST

कोरोना महामारी (Corona epidemic) की चक्की में पिसने से जब कोई नहीं बच पाया, तो शिक्षा जगत भी कैसे अछूता रहता? कोरोना काल में शिक्षा जगत (Education Sector) में बदलाव और टकराव का जो ट्रेंड देखने को मिल रहा है, वह पहले कभी नहीं देखा गया. यह ट्रेंड केवल मध्यप्रदेश ... और भी पढ़ें

विलोम: अभाव का रूपक- बिहार

October 27, 2020, 11:58 AM IST

दिल्ली या पंजाब जाने के लिए बिहार के अनेक छोटे शहरों मसलन कटिहार, पूर्णिया, बेतिया और छपरा से सीधी रेलगाड़ियां हैं लेकिन इन शहरों से सूबे की राजधानी पटना के लिए एक भी क़ायदे की रेल नहीं है. बिहार शायद देश का अकेला राज्य होगा जिसके शहरों का संबंध अपनी ... और भी पढ़ें

OPINION: बिहार में जातिगत चुनावी व्यूह रचना पर विकास और रोजगार की चाशनी

October 26, 2020, 07:55 PM IST

सामाजिक न्याय और जाति तोड़ो आंदोलन की जीवंत प्रयोगशाला माने जाने वाले बिहार की जमीनी हकीकत आज भी जाति, धर्म और ऊंच-नीच ही है. तभी तो राज्य में 21वीं सदी के पांचवें विधानसभा चुनाव में जातीय और जीतने की क्षमता के आधार पर उम्मीदवार खड़े करने के बाद सभी दल ... और भी पढ़ें

PM मोदी के न्यू इंडिया में आत्मनिर्भर कृषि और गांधीजी!

October 26, 2020, 01:57 PM IST

कोरोना वायरस से आई वैश्विक महामारी के कारण उपजे घोर आर्थिक संकट के इस दौर में सबसे अधिक चर्चा आत्मनिर्भरता को लेकर हो रही है. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारी-भरकम आत्मनिर्भरता पैकेज की घोषणा भी की. अब तो निम्न आय वाले और सड़कों पर छोटे व्यवसाय करने वालों ... और भी पढ़ें

100 से अधिक NGO 'फर्जीवाड़ा' करते पकड़े गए, हो सकते हैं ब्लैक लिस्ट

October 26, 2020, 12:56 PM IST

केंद्र सरकार प्रति वर्ष 25 लाख रुपए या उससे अधिक का सरकारी अनुदान लेकर हिसाब नहीं देने, सरकारी अनुदान की राशि का दुरुपयोग करने और कर्मचारियों के शोषण से जुड़ी जैसी गतिविधियों में शामिल देश के 130 एनजीओ (गैर-सरकारी संस्थाओं) को काली-सूची में डालने का मन बना रही है. इस ... और भी पढ़ें

सत्ता में भागीदारी का पहला कदम मतदान क्यों है?

October 26, 2020, 12:39 PM IST

17 अक्टूबर 1949 को संविधान सभा में भारत के संविधान की उद्देशिका को अंतिम रूप दिए जाने के लिए बहस चल रही थी. यह कहा जा रहा था कि भारत की राज्य व्यवस्था को कोई भी शक्ति और अधिकार जनता से ही मिलेंगे. इसका मतलब है कि भारत के लोग ... और भी पढ़ें

रामराज्य: क्योंकि रावण राम का शत्रु नहीं, वैरी था...

October 25, 2020, 04:29 PM IST

राम ने एक मनोहारी मुस्कान से विभीषण की ओर देखते हुए कहा, "मित्र विभीषण, रावण मेरा शत्रु नहीं मेरा वैरी है." विभीषण पुनः अचम्भित से राम को देखते हुए बोल पड़े, "ये दोनों तो एक ही होते हैं राम." "नहीं महराज विभीषण, जो अंतर अर्पण और समर्पण में होता है वही ... और भी पढ़ें

बावरा मन: साहिर...प्यास और प्यार!

October 25, 2020, 05:45 AM IST

साहिर ने कहा था "दुनिया ने तजुर्बातो हवादिस की शक्ल में जो कुछ मुझे दिया है, लौटा रहा हूँ मैं."जितना उन्होंने दुनिया को लौटाया, उनके चाहने वालों ने उतना ही उन पर प्यार लुटाया. इधर वो तजुर्बे लौटाते, चाहने वाले उन पर बेशुमार प्यार लुटाते. ये दो तरफा प्रेम था. लेकिन साहिर को ... और भी पढ़ें

आखिर नौकरी देने के नाम पर सरकार को क्यों आती है खजाने की याद?

October 24, 2020, 02:23 PM IST

पटना. दस लाख नौकरी दने की डपोरशंखी घोषणाओं के लिए अतिरिक्त 58 हजार करोड़ कहां से लायेगा विपक्ष? यह सवाल गुरुवार 22 अक्तूबर को बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने ट्विटर पर पूछा था. उस सवाल के साथ उन्होंने वह हिसाब भी पेश किया था, ... और भी पढ़ें

यादों का मौसम

October 24, 2020, 10:44 AM IST

"मौसम आएंगे-जाएंगे, हम तुमको भूल न पाएंगे." अहमद हुसैन- मोहम्मद हुसैन के सुरों में पगी यह ग़ज़ल जितनी मन को भाती है उतनी ही ज़्यादा मन को रह-रह कर याद दिलाती है कि हर मौसम की यादों की महक भी जुड़ी होती है. उम्र के सफ़र में जि़न्दगी के बिखरते ... और भी पढ़ें

धुएं की धुंध में सौंदर्य तलाश रहे हैं हम

October 23, 2020, 11:16 PM IST

एक गांव में कोई कार्यक्रम चल रहा होता है, तभी अचानक वहां बिजली चली जाती है. पूरा गांव अंधेरे में डूब जाता है. गांव वाले थोड़ी देर तक चुप रहते हैं, फिर मिलकर भजन गाने लगते है. उस भजन का अर्थ ये है कि ऊपरवाले हमें अंधेरे से बचाओ, अंधेरे ... और भी पढ़ें

महामारी पर भारी वोटों की मारामारी, सख्त हाईकोर्ट का चुनाव आयोग से टकराव

October 23, 2020, 01:36 PM IST

वोटों के लिए मारामारी कोरोना की महामारी पर किस कदर भारी पड़ रही है, इसका अनुमान एमपी में 28 विधानसभा सीटों पर 3 नवंबर को होने वाले उपचुनावों (By-Elections) के लिए हो रही रैलियों, सभाओं में सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) की उड़ रही धज्जियों को देखकर लगा सकते हैं. चुनावी घमासान में व्यस्त नेताओं को न तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र ... और भी पढ़ें

अभी कोरोना की पहली लहर भी पूरी नहीं उतरी

October 23, 2020, 10:49 AM IST

अर्थव्यवस्था की चिंता ने कोरोना से ध्यान भटका दिया. यह स्थिति सिर्फ अपने ही देश की नहीं है बल्कि कुछ अपवादों को छोड़ लगभग पूरी दुनिया की है. दुनिया के तमाम देशों को अर्थव्यवस्था संभालने के चक्कर में कोरोना से बचाव के उपायों में ढील देनी पड़ रही है. शुरू ... और भी पढ़ें

ब्रह्मांड की अंधेरी गुफाएंं और भौतिकी का नोबेल

October 22, 2020, 10:53 PM IST

स्वीडन की रॉयल साइन्स एकेडमी ने इस साल के लिए भौतिकी के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कारों की घोषणा कर दी है. यह पुरस्कार रोजर पेनरोज, रेनहार्ड गेंजेल और एंड्रिया गेज को इस साल 10 दिसंबर (अल्फ्रेड नोबेल की पुण्यतिथि) को दिया जाएगा. पुरस्कार राशि में से आधा हिस्सा पेनरोज को ... और भी पढ़ें

जन्म दिन विशेष: अमित शाह में है जिद और जुनून के साथ लक्ष्य साधने की कला

October 22, 2020, 07:13 PM IST

बात लोकसभा चुनाव अभियान के समय की है. भाजपा ने 17 कमेटियां गठित की थी, जिसमें साहित्य निर्माण समिति का जिम्मा पार्टी की वरिष्ठतम नेता (दिवंगत) सुषमा स्वराज को दी गई थी. उन्होंने कई दौर की बैठक के बाद अलग-अलग विषयों पर चार-चार पन्ने का पंफलेट तैयार कराया. उसका कवर ... और भी पढ़ें

LIVE Now

    फोटो

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें

    टॉप स्टोरीज