अपना शहर चुनें

States

बुरी और तकलीफ़देह यादों को मिटाने की कोशिश में वैज्ञानिक

2004 में आई हॉलीवुड मूवी ‘इटरनल सनशाइन ऑफ़ द स्पॉटलेस माइंड’ में यह फिल्माया गया था कि किस तरह से एक प्रेमी जोड़ा अपने रिश्ते की तकलीफदेह और कड़वी यादों को मिटाता है ताकि वे दोनों एक नई ज़िंदगी की शुरुआत कर सकें. 1997 में शुरू हुई हॉलीवुड सीरीज ‘मेन इन ब्लैक’, 2012 में आई ‘टोटल रीकॉल’,

Source: News18Hindi Last updated on: February 23, 2021, 2:01 PM IST
शेयर करें: Facebook Twitter Linked IN
बुरी और तकलीफ़देह यादों को मिटाने की कोशिश में वैज्ञानिक
प्रतीकात्मक तस्वीर
हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी में होने वाली ज़्यादातर घटनाएं हमारे दिमाग में यादों के रूप में इकट्ठी होती रहती हैं. जहां अच्छी और यादगार यादें हमारे मन-मस्तिष्क में अक्सर कौंधती रहती हैं वहीं पुरानी दुखद व कड़वी यादें वक्त बेवक्त तकलीफ पहुंचाती हैं. अक्सर हमारे दिमाग में यह ख्याल आता है कि काश हम जीवन को मुश्किल और तकलीफदेह बनाने वाली यादों को मन के कागज से मिटा पाते और जीवन को खुशनुमा और आसान बनाने वाली अच्छी यादों को और मजबूत कर पाते. वर्तमान वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के मद्देनज़र ऐसा करना निकट भविष्य में मुमकिन हो सकता है.

कई साइंस फिक्शन नॉवेल्स और हॉलीवुड फिल्मों में दिमाग से गैर जरूरी और तकलीफदेह यादों को मिटाने की तकनीक का विस्तृत वर्णन मिलता है. 2004 में आई हॉलीवुड मूवी ‘इटरनल सनशाइन ऑफ़ द स्पॉटलेस माइंड’ में यह फिल्माया गया था कि किस तरह से एक प्रेमी जोड़ा अपने रिश्ते की तकलीफदेह और कड़वी यादों को मिटाता है ताकि वे दोनों एक नई ज़िंदगी की शुरुआत कर सकें. 1997 में शुरू हुई हॉलीवुड सीरीज ‘मेन इन ब्लैक’, 2012 में आई ‘टोटल रीकॉल’,

‘द इनक्रेडिबल्स-2’ (2018) और ‘फ़्रोजन’ (2013) भी ऐसी ही फिल्में हैं जिनमें अलग-अलग वजहों से यादों को मिटाया गया है. अक्सर ऐसा माना जाता रहा है कि साइंस फिक्शन में की गईं कल्पनाएं भविष्य में नए आविष्कार का रूप अख़्तियार कर सकती हैं. इंसानी यादों को एडिट करने की तकनीक यानी मेमोरी एडिटिंग (Memory editing) का विचार भी अब सच होने को है. अब दिमाग से न केवल बुरी यादों को मिटाना मुमकिन होगा, बल्कि उनकी जगह मन के कोरे कागज पर अच्छी और खुशनुमा यादें भी लिखी जा सकेगी. अब न्यूरोसाइंटिस्ट्स के लिए मस्तिष्क में यादों को निर्मित करने वाले सिनैप्टिक परिवर्तनों (synaptic changes) को पहचानना संभव हो गया है.


वैज्ञानिकों द्वारा अब तक यह तकनीक अकशेरुकी प्राणियों (Invertebrates) पर कामयाबीपूर्वक अपनाई जा चुकी है. इन प्राणियों में कुछ खास यादों (Specific memories) को पहचान कर एडिट करना मुमकिन हो गया है. हालांकि हम इन्सानों और दूसरे कशेरुकी प्राणियों (Vertebrates) में यादों का फॉर्मूलेशन इतना ज्यादा पेचीदा होता है कि फिलहाल उन्हें इस तकनीक से एडिट करना संभव नहीं है. बहरहाल, जीव विज्ञानी अपनी प्रयोगशालाओं में मेमोरी एडिटिंग की नई तकनीक खोजने में जुटे हुए हैं जिसका मकसद दुखद और कड़वी यादों से पैदा हुए भावनात्मक ज्वार (Emotional fear), डिप्रेशन, अल्जाइमर, डिमेन्शिया आदि से ग्रस्त रोगियों के उपचार और नशे के आदी लोगों में नशे की लत को कम करना है.
तकलीफ़देह और कड़वी यादों को मिटाने के लिए न्यूरोसाइंटिस्ट्स ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक को आज़मा रहे हैं. मस्तिष्क के अध्ययन में ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है, इस तकनीक के जरिए वैज्ञानिक प्रकाश की किरणों का इस्तेमाल कर मानव शरीर की जटिल क्रियाओं की जांच-पड़ताल करते हैं. फिलहाल नर्व सेल्स के अध्ययन के लिए ऑप्टोजेनेटिक्स एक स्टैंडर्ड मेथड के रूप में स्थापित हो चुका है. वैज्ञानिकों ने मेमोरी एडिटिंग के लिए जेनेटिकली मॉडिफाइड चूहों पर विभिन्न प्रयोग किए क्योंकि चूहों का मस्तिष्क तुलनात्मक रूप से सरल होता है.

साथ ही चूहों के जीन में इस तरह के बदलाव किए गए कि जब उनके नर्व सेल्स को एक्टिव किया जाए तो वे हरे रंग के हो जाए. साथ ही साथ इन नर्व सेल्स के सेंसिटिव प्रोटीन प्रकाश की किरणों के इस्तेमाल से ऑन और ऑफ भी हो जाएँ. फिलहाल इस तकनीक के इस्तेमाल से जंतुओं में भावनात्मक यादों को मिटाने में कामयाबी मिली है. लेकिन विशेषज्ञ इस तकनीक को इंसानों के लिए सुरक्षित नहीं मानते क्योंकि इसमें ज्यादा चीर-फाड़ की जरूरत पड़ती है.

वैसे भी एक्सपेरिमेंटल लेवल पर कामयाबी मिलने के बाद भी किसी भी टेक्नोलॉजी को मेडिकल उपयोग में लेने से पहले कई क्लिनिकल ट्रायल्स से गुजरना पड़ता है. फिर भी इस दिशा में लगातार हो रहे शोध यह उम्मीद जगाते हैं कि निकट भविष्य में दुखद यादों को मिटाना आसान हो जाएगा.वैज्ञानिक कहते हैं कि मानव मस्तिष्क कम्प्यूटर की तरह काम करता है. मस्तिष्क में स्थित हिप्पोकैम्पस और कार्टेक्स अनुभवों, घटनाओं को हमारे दिमाग में लंबे वक्त तक याद रखते हैं. यूं कहें हिप्पोकैम्पस एक कम्प्यूटर हार्डडिस्क की तरह काम करता है, जिसका काम ही है हमारी यादों को सहेजना या इकट्ठा करना. अच्छी और बुरी यादों को एमिग्डाला डिकोड करता है. हिप्पोकैम्पस और एमिग्डाला के आपसी तालमेल से ही हमें अच्छे-बुरे का अनुभव होता है. दरअसल जब हमें कोई भी बात दुबारा याद करनी होती है तो कार्टेक्स से यह मेमोरी हिप्पोकैम्पस में जाती है और उसके बाद हमें पुरानी बातें याद आ जाती हैं.

वैज्ञानिकों ने पाया है कि मस्तिष्क के इन भागों (कार्टेक्स, हिप्पोकैम्पस और एमिग्डाला) के बीच का संपर्क बेहद लचीला होता है. इस संपर्क में ही छेड़छाड़ कर यादों के साथ फेरबदल की जा सकती है. यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के न्यूरोसाइंटिस्टों ने जेनेटिकली मॉडिफाइड चूहों के दिमाग के इन्हीं तीन हिस्सों के बीच के संपर्क में फेरबदल कर चूहों के पुराने यादों को मिटाने और नई यादों को गढ़ने में कामयाबी पाई है. वैज्ञानिक के मुताबिक फिलहाल मनुष्य के लिए इस तकनीक को काम में लेना सुरक्षित नहीं है.

वैसे यह रिसर्च वैज्ञानिकों को इंसानी दिमाग के भी उन हिस्सों की पड़ताल करने में मदद करेगी जो अच्छी और बुरी यादों से जुड़े होते हैं. यदि रिसर्चों द्वारा यह साबित हो गया कि इंसान में भी हिप्पोकैम्पस के निचले भाग की एक्टिविटी रेट, डिप्रेशन और अन्य नकारात्मक भावनाओं के लिए जिम्मेदार है तो ऐसे मरीजों के इलाज में खासा मदद मिलेगी.


मस्तिष्क में जब कोई स्मृति (Memory) बनती है तो उसमें दृश्य, श्रव्य, और स्पर्श आदि सभी संवेदनाएं शामिल होती हैं. किसी घटना विशेष की यादें किसी एक जगह तक सीमित नहीं होती इसलिए उसे यांत्रिक दृष्टि से हटाना मुश्किल है. इस कठिनाई से छुटकारा पाने के लिए न्यूरोसाइंटिस्ट किसी विशिष्ट समय में जब किसी स्मृति विशेष से जुड़े न्यूरॉन एक्टिव होते है, उन्हें पहचानते हैं. यह वह वक्त होता है जब सिलसिलेवार रूप से किसी स्मृति में बदलाव और स्थायीकरण (Memory stabilization) होता है.

ऐसी दशा में बार- बार उस स्मृति से जुड़े न्यूरोंस एक्टिव होते हैं, चाहे व्यक्ति सो रहा हो या जाग रहा हो. यह प्रक्रिया स्मृति का स्थायीकरण (Memory hardening) कहलाती है. ऐसे सेंसिटिव प्रोटीन जो सिनैप्टिक परिवर्तनों के लिए जिम्मेदार होते हैं, उनके संपर्क में रुकावट पैदा कर यादों को सख्त होने से रोका जा सकता है. कई अकशेरुकी प्राणियों में इस तकनीक से तुरंत बनी यादों को मिटाया जा सका है. मगर ये प्रोटीन कुछ समय पहले की सभी यादों को मिटा देते हैं, इसलिए चिकित्सीय दृष्टि से इन्हें इंसानों के मेमोरी की एडिटिंग के लिए काम में लेना सुरक्षित नहीं है.

इंसानों पर व्यापक चीर-फाड़ वाली ऑप्टोजेनेटिक्स तकनीक की बजाय वर्तमान में न्यूरोसाइंटिस्ट मनोवैज्ञानिक तकनीकों को आज़माने की वकालत करते हैं. दरअसल हम इंसानों की यह खूबी है कि किसी दुखद घटना का संपर्क (companionship) अगर खुशनुमा यादों से करा दिया जाए तो नकारात्मक भावनाओं और डर का एहसास कम हो जाता है. इस पर रिसर्च करने वाले जापानी वैज्ञानिक सुसुमु टोनेगावा के मुताबिक फर्क इस बात से पड़ता है कि अच्छी या बुरी यादें आप पर कितनी हावी हैं. दोनों ही एहसास दिमाग में अपने सर्किट बनाते हैं और आपस में लड़ते हैं. ऐसे प्रयोग चूहों पर भी किए गए हैं. चूहों को पिंजरे में रखने पर उनमें डर और नकारात्मक भावनाएं पैदा होती हैं.

अगर नर चूहे को पहले एक घंटे तक मादा चूहे के साथ पिंजरे में रखा जाए और फिर अकेले पिंजरे में रखा जाए तो उसमें नकारात्मक भावनाओं और डर में कमी आती है. मनोवैज्ञानिक दृष्टि से यह जरूरी नहीं है कि दुर्घटना से जुड़ीं सभी बातें किसी को ठीक से याद हैं या नहीं, जरूरी है घटनाओं से पैदा हुई भावनाएं. उदास व्यक्ति को वह घटना दुबारा याद दिलाई जाती है (घटना से जुड़ीं चीजें दिखाकर या उस जगह पर ले जाकर). घटना से जुड़ी भावनाओं को पहले उत्तेजित (Excited) किया जाता है. उसके बाद घटना की गैरहाजिरी में यह प्रक्रिया बारंबार दुहराने से धीरे- धीरे घटना से जुड़ी नकारात्मक भावनाएं कम होने लगती हैं. मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक इसे विलोपन पद्धति (Deletion method) कहते हैं.

कुछ अंडरडेवलप्ड न्यूरोहार्मोन्स जो नकारात्मक भावनाओं को कम करते हैं और मूड में बदलाव लाने में समर्थ हैं, मनुष्य के लिए उपयोगी साबित हो सकते हैं. अनेक अनुसंधानों से यह साबित हो चुका है कि स्ट्रेस हॉर्मोन जो किसी दुर्घटना के कारण रिलीज होते हैं, उस स्मृति को मजबूत करने के लिए जिम्मेदार होते हैं. कुछ एंटीडिप्रेशंट्स दवाइयाँ इन स्ट्रेस हॉर्मोन्स को रिलीज होने से रोकने में सक्षम हैं.

ये दवाइयां जीवन की किसी तकलीफ़देह घटना की यादों को भावनात्मक रूप से मजबूत होने से रोकती हैं. किसी नई स्मृति को तो इन दवाइयों के जरिए मिटाना मुमकिन है ही, पुरानी यादों को भी इसके द्वारा मिटाई जा सकती है अगर उस स्मृति को दुबारा एक्टिव किया जाए और उसके बाद ये दवाइयाँ दी जाए. दिलचस्प बात यह है कि इन दवाइयों के इस्तेमाल से यादों का नकारात्मक हिस्सा ही मिटता है नाकि पूरी स्मृति! ये दवाइयाँ फिलहाल मनोरोगियों के इलाज में वरदान साबित हो रहीं हैं.


वैज्ञानिकों को विभिन्न प्राणियों में मेमोरी को ट्रांसफर करने, बदलने और डिलीट करने में कामयाबी मिल चुकी है. इंसानी दिमाग में भी मेमोरिज के फोर्मूलेशन पहचान लिए गए हैं. किसी नकारात्मक घटना से जुड़ी यादों को उससे जुड़ी नर्व सेल्स को उत्तेजित कर दवाइयों से मिटाना मुमकिन है. अब ताजी यादों को बदला जा सकता है और ऐसी घटनाओं की यादें दिमाग में बनाना मुमकिन है जो कभी हुई ही नहीं! हालांकि इंसानों में मेमोरी एडिटिंग अभी शुरुवाती स्टेज में है लेकिन जो लोग डिप्रेशन, पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर, एंजायटी, अल्जाइमर, डीमेंशिया जैसे मानसिक बीमारियों से पीड़ित हैं उनके लिए एक वरदान से कम नहीं है.

युद्ध के दिल दहला देने वाले अनुभवों से आजीवन परेशान रहने वाले जवानों के लिए मेमोरी एडिटिंग बेहद कारगर साबित हुई है. आज नशे के आदी लोगों का भी इलाज करने के लिए मेमोरी एडिटिंग तकनीकों का सहारा लिया जा रहा है. हमारी ज़िंदगी कई यादें इतनी कष्टदायक होती हैं कि उनके साथ जीना बहुत मुश्किल होता है, सबसे बड़ी बात यह है कि उन दुखद स्मृतियों को मिटाना आज संभव है.

कहते हैं ज्ञान दुधारी तलवार की तरह होती है, इसका इस्तेमाल विकास के लिए भी किया जा सकता है और विनाश के लिए भी. ह्यूमन मेमोरी एडिटिंग से जुड़ी नैतिक दुविधाओं पर केंद्रित न्यूरोएथिक्स नामक एक नया कान्सैप्ट है. न्यूरोएथिक्स हमारी यादों (जो हमारे अस्तित्व की बुनियाद है) में छेड़छाड़ का विरोध करती है.

मिशिगन यूनिवर्सिटी के सेंटर फॉर मेमोरी एंड ब्रेन के डायरेक्टर हॉवर्ड इशेनबॉम का मानना है कि हमारी मेमोरी में बेहद सीमित ब्रेन सेल्स शामिल होते हैं. ऐसे में किसी एक सेल को नष्ट कर तकलीफदेह यादों को मिटाने से दूसरे सेल्स पर भी इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है. न्यूरोएथिक्स के हिमायती मानते हैं कि हालांकि दर्दनाक यादों को मिटाने की संभावना कुछ लोगों को राहत जरूर दे सकती है, लेकिन मेमोरी एडिटिंग से यह मौलिक रूप से बदल जाएगा कि हम कौन हैं या हम कैसे व्यवहार करते हैं.


एक आम डर है कि मेमोरी एडिटिंग तकनीकों का इस्तेमाल लोगों की सेल्फ-आइडेंटिटी को बदलने और उनकी यादों में हेरफेर करने के लिए किया जा सकता है. हालाँकि अक्सर इसे खारिज कर दिया जाता है, जबकि इस तरह की संभावनाएं वास्तविक होती हैं और इन पर निगरानी रखने की जरूरत है, क्योंकि हमारा इतिहास यह बताता है कि हम साइंस-टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल न्यूक्लियर रिएक्टर बनाने के लिए भी कर सकते हैं और न्यूक्लियर बम बनाने के लिए भी! बहरहाल, इस बात पर सभी राज़ी हैं अगर बुरी और कठोर यादें आपकी जिंदगी तबाह कर रही है तो मेमोरी एडिटिंग के साथ समझौता इतना बुरा भी नहीं है.

(ये लेखक के निजी विचार हैं.)
ब्लॉगर के बारे में
प्रदीप

प्रदीपतकनीक विशेषज्ञ

उत्तर प्रदेश के एक सुदूर गांव खलीलपट्टी, जिला-बस्ती में 19 फरवरी 1997 में जन्मे प्रदीप एक साइन्स ब्लॉगर और विज्ञान लेखक हैं. वे विगत लगभग 7 वर्षों से विज्ञान के विविध विषयों पर देश की प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में लिख रहे हैं. इनके लगभग 100 लेख प्रकाशित हो चुके हैं. दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक तक की शिक्षा प्राप्त की है.

और भी पढ़ें

facebook Twitter whatsapp
First published: February 23, 2021, 2:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर