IPL 2021: विराट कोहली का बीच सफर में कप्तानी छोड़ने की घोषणा आत्मविश्वास में कमी का संकेत

आईपीएल का दूसरा दौर शुरू होते ही विराट कोहली ने अगले सीजन से आरसीबी की भी कप्तानी छोड़ने की घोषणा की. यह विराट का अपना फैसला हो सकता है, लेकिन उसकी घोषणा का समय क्या टीम हित मे माना जाएगा? शायद नहीं! लीग का आधा सफर बाकी रहते लिए गए इस फैसले को उनके आलोचक आत्मविश्वास की कमी मान रहे हैं.

Source: News18Hindi Last updated on: September 22, 2021, 11:32 AM IST
शेयर करें: Facebook Twitter Linked IN
IPL 2021: विराट कोहली का बीच सफर में कप्तानी छोड़ने की घोषणा आत्मविश्वास में कमी का संकेत
IPL 2021: विराट कोहली ने भारतीय टी20 टीम के बाद आरसीबी की भी कप्तानी छोड़ने की घोषणा की है. (PTI)

आधे सफर मे स्थगित हुआ आईपीएल अब यूएई मे शुरू हो चुका है. कोरोना काल मे आईपीएल आयोजित करने का यह दूसरा मौका है. पिछले साल लीग पूरी तरह यूएई मे आयोजित की गई, और दिलचस्प यह कि जिस समय कोरोना दुनिया मे चरम पर था, इसे कामयाबी के साथ अंजाम दिया गया. कठिन हालातों मे भी कोरोना प्रोटोकाल नहीं टूटा. लेकिन इस साल जब इसे भारत मे आयोजित किया गया, तब चार टीमों के कुछ प्लेयर्स और सपोर्ट स्टाफ के पॉजिटिव पाए जाने के बाद मजबूरन इसे आधे सफर मे रोक देना पड़ा. चार जगहों पर लीग के मैच आयोजित किए जाने की वजह से ट्रैवल और अलग अलग होटलों मे प्रवास से बचा नहीं जा सका और कोरोना ने सेंधमारी कर दी. यूएई मे कोरोना प्रोटोकाल की देखरेख के लिए जिस विदेशी कंपनी से काम लिया गया, उसमे और भारत मे कोरोना प्रोटोकाल को देख रही कंपनी के स्तर मे भी फ़र्क था. भारत मे “यहां सब कुछ चलता है” की तर्ज पर इसे संचालित किया गया और इसका कुप्रभाव भी देखने को मिला. कहते हैं दूध का जला छान्छ भी फूंक-फूंक कर पीता है, इंग्लैंड मे टेस्ट सीरीज के दौरान भी भारतीय कोच रवि शास्त्री और कुछ सपोर्ट स्टाफ के पॉजिटिव पाए जाने के बाद भारतीय खिलाड़ी या प्रबंधन फिर इस तरह की गलती करेंगे, लगता नहीं है. बताए जाता है कि टीम के अंदर कोरोना का आयात टीम के सबसे जिम्मेदार व्यक्ति के एक पुस्तक विमोचन मे खुद और टीम के कुछ खिलाड़ियों के साथ शामिल होने के बाद हुआ.


कठिन दौर मे है, आईपीएल और इंटरनेशनल क्रिकेट

यूएई मे आईपीएल कराने का फैसला इसलिए भी लिया गया की वहाँ ज्यादातर लोग कोरोना की वैक्सीन ले चुके हैं. सच कहा जाए तो आईपीएल की कामयाबी वर्ल्ड कप के लिए भी बेहद अहम होगी, क्योंकि जरा सी चूक सब कुछ गड़बड़ कर सकती है. लीग के बाकी बचे मैच एक तरह से तमाम उपायों का पूर्वाभ्यास होंगे. इस लीग और वर्ल्ड कप का कामयाब आयोजन इसलिए भी जरूरी है क्योंकि वर्ल्ड क्रिकेट मुश्किल दौर से गुजर रहा है. पिछले सीजन मे ऑस्ट्रेलिया ने कोरोना के चलते एहतियातन दक्षिण अफ्रीका का दौरा रद्द किया. इसका खमियाजा उसे चुकाना पड़ा और वह वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल मे नहीं पहुंच सका. हाल ही मे न्यूज़ीलैंड की टीम ने ऐन वक्त पर सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान का दौरा रद्द किया. उसके बाद इंग्लैंड ने भी टी-20 वर्ल्ड कप से पहले पाकिस्तान मे दो टी-20 मैच की सीरीज से हाथ खींच लिए. लंबे समय से पुनरुत्थान पर टकटकी लगाए पाकिस्तान के लिए यह बड़ा सदमा था, लेकिन यह संकेत परेशान करने वाले हैं. भारत का इंग्लैंड मे पाँचवा टेस्ट खेलने से इनकार भी आईसीसी को परेशान कर रहा है, सवाल यही है कि इन द्विपक्षीय मामलों मे आईसीसी कितनी प्रभावी भूमिका निभा सकेगा और दूसरी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पीयन्शिप का क्या हश्र होगा.


आईपीएल मे अब दो स्थान के लिए 5 टीमों में घमासान

दुबई मे कल रात पंजाब किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच हुए मुकाबले के साथ ही सभी आठ टीमों ने 8-8 मैच खेल लिए हैं. दो विकेटकीपर कप्तानों की टीमें पहले चार की सबसे प्रबल दावेदार हैं. महेंद्र सिंह धोनी की चेन्नई सुपर किंग्स और ऋषभ पंत की दिल्ली कैपिटल्स के अब 12-12 पॉइंट्स हो चुके हैं, हमने देखा है कि इससे पहले 14 पॉइंट्स के साथ टीमों ने प्लेऑफ मे जगह बनाई है. यानि बाकी बचे 6 मे से दो जीत, इन दोनों टीमों के लिए अगला दौर सुनिश्चित करेगी, जबकि 1 जीत की स्थिति मे भी इनकी संभावनाएं कायम रहेंगी. अगर यह दोनों टीमे अगले दौर के नजदीक हैं तो सनराइजर्स हैदराबाद को लीग से बाहर माना जा सकता है, यानि तीन टीमों की किस्मत तकरीबन तय हो चुकी है. रॉयल चैलेंजर बेंगलोर 10 पॉइंट्स के साथ तीसरे स्थान पर है, लेकिन जिस तरह से केकेआर के खिलाफ उन्होंने मुकाबला गंवाया, वो बहुत उम्मीदें नहीं जगाता. मुंबई इंडियंस, केकेआर, राजस्थान रॉयल्स और पंजाब किंग्स की टीमें रेस मे हैं, और निसन्देह लीग मे आने वाले दिनों को यह दिलचस्प बनाएंगी.


पहले तीन मैच-वर्ल्ड कप के भारतीय सितारों का प्रदर्शन

इसे संयोग ही माना जाना चाहिए की आईपीएल का दूसरा हिस्सा, ठीक टी-20 वर्ल्ड कप से पहले हो रहा है. यह मुकाबले खिलाड़ियों को टेस्ट के लंबे फॉर्मेट से निकलकर क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट मे ढलने का अवसर दे रहे है. हालाकि पहले तीन मुकाबले देखें तो विश्व कप के लिए चुने गए भारतीय सितारों का प्रदर्शन मिला जुला रहा है. कप्तान विराट कोहली का निराश करने का दौर जारी है, केकेआर के खिलाफ सिर्फ 5 रन बना सके. उस मैच मे वरुण चक्रवर्ती ने प्रभावित किया, न सिर्फ उन्होंने गेंदबाजी की शुरुआत की बल्कि अपने कोटे के सिर्फ 4 ओवर मे 13 रन देकर तीन विकेट निकाले. वहीं दूसरे दौर के पहले मैच मे आधा दर्जन टीम इंडिया के सितारों की मौजूदगी के बावजूद मुंबाई पर चेन्नई ने जीत दर्ज की, वह भी तब जबकि उनके 3 विकेट 7 रन पर आउट हो चुके थे, और रायडू को रिटायर्ड हर्ट होना पड़ा. सितारों से सजी मुंबई की टीम को सिर्फ ऋतुराज गायकवाड के 88 रनों ने हरा दिया. राहुल चहर कोई विकेट नहीं ले सके, सूर्यकुमार यादव ने 3 और ईशान किशन ने सिर्फ 11 रन बनाए. बुमराह को दो विकेट मिले जरूर लेकिन वह खर्चीले साबित हुए. चेन्नई के लिए रवींद्र जडेजा ने 26 रन बनाए हालाकि गेंदबाजी मे उनका इस्तेमाल सिर्फ 1 ओवर के लिए हुआ, जिसमे उन्होंने विकेट बिना 13 रन दिए. पंजाब के लिए के एल राहुल का मिडास टच जारी है, हालाकि 49 रन की पारी भी उनकी टीम को राजस्थान के हाथों कल सिर्फ 2 रन की हार से बचा नहीं सकी.


आरसीबी की कप्तानी और विराट कोहली





भारतीय टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद आईपीएल का दूसरा दौर शुरू होते ही विराट कोहली ने अगले सीजन से आरसीबी की भी कप्तानी छोड़ने की घोषणा की. कप्तानी छोड़ने का फैसला विराट का अपना फैसला हो सकता है, लेकिन उसकी घोषणा का समय क्या टीम हित मे माना जाएगा? शायद नहीं! लीग का आधा सफर बाकी रहते लिए गए इस फैसले को उनके आलोचक आत्मविश्वास की कमी मान रहे हैं. एक कप्तान के तौर पर भारतीय टीम मे विराट के आंकड़े भले ही बेहतर रहे हों, लेकिन आईपीएल मे उन्होंने निराश किया है. लगातार टीम के साथ 200वां मैच खेलने के शानदार रिकॉर्ड के बावजूद विराट कोहली अपनी टीम को आज तक एक भी आईपीएल का खिताब नहीं दिला सके. उनकी कप्तानी पर लगातार बढ़ रही चर्चा को देखते हुए क्या कोहली इस आग को और हवा देने से बचना चाहते हैं. इसी तरह वर्ल्ड कप से ठीक पहले कप्तानी से हटने की घोषणा कतई सही समय पर लिया गया फैसला नहीं हो सकता. कुल मिलाकर आईपीएल के इस सीजन के दूसरे दौर मे अभी बहुत कुछ बाकी है, लेकिन यह तय है कि वर्ल्ड कप से पहले हर बीतते दिन के साथ इसका रोमांच भी शबाब पर होगा!


(डिस्क्लेमर: ये लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता/सटीकता के प्रति लेखक स्वयं जवाबदेह है. इसके लिए News18Hindi किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है)
ब्लॉगर के बारे में
संजय बैनर्जी

संजय बैनर्जीब्रॉडकास्ट जर्नलिस्ट व कॉमेंटेटर

ब्रॉडकास्ट जर्नलिस्ट व कॉमेंटेटर. 40 साल से इंटरनेशनल मैचों की कॉमेंट्री कर रहे हैं.

और भी पढ़ें

facebook Twitter whatsapp
First published: September 22, 2021, 11:14 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर