नर्मदा की लहरों में डूबता हरसूद: फिर वो भूली सी याद आई है

हिन्दुस्तान को आज़ाद हुए कुछ अरसा बीता था और तरक्की के पांव नापती एक योजना इंदिरा सागर बांध की तैयारी हुई. मानचित्र बना तो हरसूद और उसके आसपास बसे कई छोटे-बड़े देहातों की जल समाधि का फरमान जारी हुआ था.

Source: News18Hindi Last updated on: June 30, 2021, 10:55 AM IST
शेयर करें: Facebook Twitter Linked IN
नर्मदा की लहरों में डूबता हरसूद: फिर वो भूली सी याद आई है
मध्यप्रदेश के निमाड़ जनपद का शहर हरसूद डूब रहा था. नदी नर्मदा की उछाल मारती लहरों ने आखिर धरती पर बसे जीवन को अपनी आगोश में समेट लिया.
30 जून... वक़्त के सफ़े पर यह एक और तारीख़ के आने और बीत जाने का सिलसिला हो सकता है, लेकिन पानी की परतों में अपना वजूद खो चुके एक शहर के वाशिंदों के सीने में यह दिन, यह तारीख़ अपनी सरज़मीं से बिछुड़ने की बेबस कहानी कहती है. मध्यप्रदेश के निमाड़ जनपद का शहर हरसूद डूब रहा था. नदी नर्मदा की उछाल मारती लहरों ने आखिर धरती पर बसे जीवन को अपनी आगोश में समेट लिया. सब कुछ उजड़ गया. सिर्फ़ नक़्श-ए-क़दम रह गये. यादों के सिरहाने पर सिर रखकर अब भी शहर सिसकी भरता है.

हिन्दुस्तान को आज़ाद हुए कुछ अरसा बीता था और तरक्की के पाँव नापती एक योजना इंदिरा सागर बांध की तैयारी हुई. मानचित्र बना तो हरसूद और उसके आसपास बसे कई छोटे-बड़े देहातों की जल समाधि का फरमान जारी हुआ और एक दिन अपने वतन और अपनी विरासत को वीरान वादियों के हवाले कर हरसूद के वाशिंदे वक़्त की उंगली थामें सरहद से कूच कर गये. बरस 2004 का था. कहने को सोलह साल गुज़र गये पर नये हरसूद के दामन पर अब भी पुराने हरसूद की कसक  साफ़ तौर पर पढ़ी जा सकती है.

डा. शिवशंकर शर्मा, श्रीराम परिहार, रघुवीर शर्मा, इलाहशंकर गुहा, वसंत सकरगाए, काशीनाथ भारद्वाज, श्रीकृष्ण उपाध्याय,  कमलकांत भारद्वाज, शशिकांत गीते, बालू टाले और दिवाकर शर्मा  जैसे उस हरसूद के अनेक ऐसे कि़रदार रहे जिनकी जुबां पर अपने शहर के बेशुमार कि़स्से शहद बनकर टपकते रहे. कवि दिनेश प्रभात की कलम से झरते अश्क कहते हैं-

"कारवां रूकता कहां है
आंसुओं के जलजले का
बांध से बस्ती का रिश्ता
सांप से ज्यों नेवले का.

देश की खुशियाँ यहाँ हरसूद से ज़्यादा बड़ी हैं". वसंत सकरगाए अपनी जन्मभूमि की याद को थामती कविता में एक मार्मिक बिंब रचते हैं-

"जगह-जगह से नुची-पिटीं
मूक रहीं जो बरसों बरस
लटकी-पटकी वक़्त की तरह
होते-होते हरसूद से बेदख़ल
लोगों के संग-साथ
बहुत रोयीं थी बाल्टियां भी".


ये रेत भरी कुछ वो बाल्टियाँ थीं, जिनकी पीठ पर लिखा होता था 'आग'.

कुछ बरस पहले वरिष्ठ गीतकार रघुवीर शर्मा की एक पूरी किताब ही हरसूद पर लिखी उनकी कविताओं का संग्रह बनीं- "चारों ओर कुहासा है". 30 जून के प्रसंगवश उसका जि़क्र बेहद मौजूं हैं.

मिसाल के तौर पर यह गीत-

"क्या बतलाएं भैया
अपना क्या-क्या डूब गया
डूब गई पुरखों की माटी
बचपन की पहचान
हंसी-ठिठोली चौराहों की
अधरों की मुस्कान
संबंधों में गरमाहट का जरिया डूब गया".


गहराई के गर्भ से उपजी ये मन की आहें-कराहें हैं जो गीत का दामन थामकर स्मृतियों की दुनिया में ले जाती हैं. सुधियों का यह संसार इतना सगा-भला, भोला और निष्कलुष है कि सरगोशी से अपनी आत्मा का आलिंगन कर लेता है. अपनी सरज़मीं और अपने बसेरे से दूर हो जाने की बेबसी ने रघुवीर शर्मा के कलेजे को कहीं भीतर तक इतना आहत किया कि वे खरोंचे एक दिन कविता की आवाज़ बन गई. दरअसल ये दर्द भरे गीत हैं. अवसाद का संगीत हैं. रूदन का राग है.

हरसूद, रघुवीर जैसे वहां के वाशिंदों के लिए वो जगह था, जहां उनकी सांसों का कारवां शुरू हुआ. संस्कारों को थामकर धूप-छांही अठखेलियां करता जीवन नातों-रिश्तों की डोर थामे अपने उत्कर्ष तलाशता रहा. यहीं भावनाओं का निवेश करते हुए अनमोल सौगातें पायीं. रघुवीर के गीत की जुबानी कहें तो दुख्खम-सुख्खम जी लिया यहां. लेकिन, एक दिन जब यह सब पानी की बलि चढ़ गया तो उदास लहरों का संगीत चारों ओर फैले कुहासे का आलाप गाने को विवश हो गया.

बिलाशक ये गीत रघुवीर शर्मा के बिलखते-बिसूरते मन की इबारतें हैं. कहते हैं-

"मन लिखा बांचना
अनलिखा बांचना 
कागद में सपनों का
चित्र लिखा बांचना".


आप इस किताब के पन्ने इसी गरज से पलटिये. यहां कागज़ के वक्ष पर टूटे-बिखरे सपनों के रेखाचित्रों में एक तन्हा और परेशां आदमी के अफसाने आप सुन सकते हैं. अपनी मिट्टी और जीवन से बेइंतहा मोहब्बत करने वाले एक शरीफ आदमी की आवाज़ बनकर उभरा है रघुवीर शर्मा का गीतकार. आस्था में आकंठ डूबा, ममतत्व को दुलारता, स्मृतियों को पुकारता और अपने गाँव की धूल को चंदन की तरह माथे पर लगाकर धन्यता के गीत गाता आखर जगत का यह साधक निश्चय ही मनुष्यता को रचता है.

काबिले ग़ौर यह कि उदासियों के बीच धड़कते ये गीत कुंठा के शोर से बचकर करूणा के प्रांजल प्रवाह में लयबद्ध हो जाते हैं और अपनी तड़प को तल्ख़-आक्षेपों की ओट से मुक्त कर अपने सहज छंद की तलाश करते हैं. यह छंद भाषा और कहन की दृष्टि से बेहद सधा-सुगठित और रम्य है. बिम्बों, रूपकों और उपमाओं से रघुवीर की कलम को परहेज़, तो नहीं लेकिन जटिल प्रयोगों के बोझ से वह आज़ाद है. सहज आत्मीयता में बिंधा शिल्प है रघुवीर शर्मा के पास. और, रचना का यह कौशल उन्होंने हरसूद के साहित्यिक पर्यावरण में हासिल किया.

उनके गीतकार ने वहाँ अपनी आंखें खोलीं और कविता की तीसरी आंख से दुनिया को देखने-समझने की कुव्वत पायी. 'चारों ओर कुहासा हैं' उनके गीतों का पहला किताबी दस्तावेज़ है. अलबत्ता कविता के परिसर में उनकी आमद नई नहीं है. उनकी हर आहट को संवेदनाओं से भरे मन आदर और प्रेम से सुनते-गुनते रहे हैं. साहित्यिक महत्वाकांक्षाओं और स्थापनाओं के मोहजाल से मुक्त उनके गीत, जीवन का ओर-छोर नापते हुए अन्तर्यात्रा का सुख देते हैं.

दरअसल, हरसूद के डूब की कहानी विस्थापन की एक बड़ी बहस खड़ी करती है. इस बहस में सिर्फ मटियारी धरती से दूर हो जाने की बेचारगी भर नहीं है. मुआवज़ों के बंटवारे और सियासत तथा अफसरी के गठजोड़ की बेरहमियाँ भी हैं. पुरखों की जायदाद पर हक़ जताते ख़ानदानी कि़स्से भी हैं. लेकिन, आश्चर्य और अफ़सोस होता है यह जानकर कि इस ज्वलंत हक़ीकत को अख़बारी की सतही सुर्खियों, चंद कविता-संस्मरणों के अलावा साहित्य में वो जगह नहीं मिली, जिसकी दरकार रही.

अलबत्ता कुछ साल पहले पत्रकार विजय मनोहर तिवारी की किताब "हरसूद 30 जून" शीर्षक से ही छप कर आयी जिसमें उनकी टीवी रिपोर्टिंग के दौरान हुए अनुभव कलमबंद है. साहित्यिक दस्तावेज़ों का अपना महत्व होता है आने वाली नस्लों के लिए वह प्रामाणिक इतिहास होता है. प्रसिद्ध कवि मंगलेश डबराल ने एक साक्षात्कार में विस्थापन से जुड़े सवाल पर कहा था कि स्वयंसेवी संगठनों ने भी हरसूद के हक में वो आवाज़ नहीं उठाई जो ज़रूरी थी. बहरहाल, यादों के दरीचों पर हरसूद की दस्तकें आज भी सुनी जा सकती है.
(डिस्क्लेमर: ये लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता/सटीकता के प्रति लेखक स्वयं जवाबदेह है. इसके लिए News18Hindi किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है)
ब्लॉगर के बारे में
विनय उपाध्याय

विनय उपाध्यायकला समीक्षक, मीडियाकर्मी एवं उद्घोषक

कला समीक्षक और मीडियाकर्मी. कई अखबारों, दूरदर्शन और आकाशवाणी के लिए काम किया. संगीत, नृत्य, चित्रकला, रंगकर्म पर लेखन. राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उद्घोषक की भूमिका निभाते रहे हैं.

और भी पढ़ें

facebook Twitter whatsapp
First published: June 30, 2021, 10:55 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर