राज्य

VIDEO: 4 छात्रों ने बनाई ऐसी वेबसाइट, जो करती है इंजीनियरिंग के छात्रों की समस्या को हल

Rahul Mahajan
Updated: June 19, 2017, 11:20 PM IST
VIDEO: 4 छात्रों ने बनाई ऐसी वेबसाइट, जो करती है इंजीनियरिंग के छात्रों की समस्या को हल
Photo- News18Hindi.com
Rahul Mahajan
Updated: June 19, 2017, 11:20 PM IST
अगर आप इंजीनयरिंग के छात्र है और आपके मन में इंजीनयरिंग को लेकर कई सवाल है तो इस समस्या का समाधान करने के लिए बिट्स पिलानी के चार छात्रों ने एक वेबसाइट तैयार की है. इस वेबसाइट में आपको आपकी हर दुविधा का समाधान मिलेगा.

बिट्स पिलानी हैदराबाद के चार छात्रों ने इस वेबसाइट को बनाया है. चंडीगढ़ के रिदम सिंघल, गोआ के शोर्य चतुर्वेदी, हैदराबाद के अभिजीत मुलुगु और लखनऊ के शोभित दिक्षित ने एक साल में इस वेबसाइट को तैयार किया है.

इस टीम के सदस्य रिदम सिंघल ने न्यूज18 हिंदी की टीम से बातचीत में बताया कि इस वेबसाइट के जरिए छात्र कैसे अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं. रिदम ने बताया कि इस वेबसाइट का छात्रों का अच्छा रिस्पांस मिल रहा है और उनकी टीम को दिन में करीब 350 से अधिक कॉल आ रही है.

कैसे आया वेबसाइट बनाने का आइडिया 

रिदम ने बताया कि जब भी छुट्टियों पर घर आते थे तो कई बच्चे और उनके माता पिता उनसे इंजीनियरिंग को लेकर काफी सवाल करते थे. माता-पिता ये सवाल करते थे कि उनके बच्चे के लिए कौन सा कॉलेज ठीक रहेगा तो छात्रों के इंजीनियरिंग को लेकर कई सवाल होते थे. उन्होंने सोचा की क्यों ना एक वेबसाइट बनाकर ऐसे कई परिजनों और उनके बच्चों की समस्या का समाधान किया जा सकता है औऱ उन्होंने इस वेबसाइट को बनाने का मन बनाया.

परिजनों का मिला साथ

रिदम ने बताया इस वेबसाइट को बनाने के बारे में जब उन्होंने अपने परिजनों से बात की तो उन्होंने उनका पूरा सहयोग किया. रिदम ने बताया कि हालांकि शुरुआत में उनकी पढ़ाई थोड़ी सफर हुई लेकिन बाद में टाइम मैनेजमेंट कर उन्होंने दोनों को पूरा समय दिया.

वेबसाइट का नाम

इस वेबसाइट का नाम कैरियर क्रुसिबल है और इसमें आपकी समस्या का समाधान करने के लिए करीब 400 काउंसलर हैं. ये काउंसलर आपकी हर समस्या का समाधान करते हैं. चाहे कॉलेज को लेकर कोई सवाल हो या इंजीनियरिंग का, यहां आपकी हर समस्या का समाधान होगा. इंजीनियरिंग के छात्र इस लिंक http://careercrucible.com/ पर क्लिक कर अपनी समस्याओं का समाधान जान सकते हैं.

 
First published: June 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर