Home /News /maharashtra /

uddhav thackeray sena chief rebel group does not have recognition says arvind sawant rsr

उद्धव ठाकरे ही बने रहेंगे शिवसेना अध्यक्ष, बागी धड़े के पास मान्यता नहीं: सांसद अरविंद सावंत

शिवसेना सुप्रीमो और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फाइल फोटो)

शिवसेना सुप्रीमो और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे. (फाइल फोटो)

Shiv Sena Crisis: बागी शिवसेना विधायक गुलाबराव पाटिल ने बुधवार को कहा था कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाला धड़ा पार्टी के चुनाव चिह्न 'तीर कमान' का असली हकदार है.

मुंबई. शिवसेना सांसद अरविंद सांवत ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि अधिकतर पार्टी विधायकों के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की अगुआई वाले बागी धड़े में शामिल होने के बावजूद उद्धव ठाकरे पार्टी प्रमुख बने रहेंगे. सावंत ने एक वेबसाइट से कहा कि शिवसेना बतौर राजनीतिक दल और विधायक दल ‘दो अलग-अलग समूह’ हैं. उन्होंने दावा किया, ‘बागी धड़े के पास मान्यता नहीं है.’

सावंत ने कहा, ‘यहां तक कि अगर दो तिहाई विधायक भी चले जाएं, तो भी कानून के मुताबिक उद्धव ठाकरे ही शिवसेना अध्यक्ष बने रहेंगे और केवल वह ही पार्टी विधायक दल के नेता की नियुक्ति कर सकते हैं.’ सांसद ने कहा, ‘आप ठाकरे और शिवसेना को अलग नहीं कर सकते.’

एकनाथ शिंदे खेमा पार्टी के चुनाव चिह्न का असली हकदार

बागी शिवसेना विधायक गुलाबराव पाटिल ने बुधवार को कहा था कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाला धड़ा पार्टी के चुनाव चिह्न ‘तीर कमान’ का असली हकदार है. उद्धव ठाकरे की अगुआई वाले खेमे ने इस दावे पर विरोध दर्ज कराया है. पाटिल ने कहा था कि पार्टी के 18 में से 12 सांसद भी शिंदे का समर्थन कर रहे हैं.

‘बागियों के पास कोई मान्यता नहीं है’

कानूनी लड़ाई में ठाकरे गुट की अगुआई कर रहे नेताओं में से एक सांवत ने कहा, ‘बागी विधायकों को तत्काल अपने गुट का विलय किसी अन्य दल में करना होगा. बागियों ने अपने गुट का किसी अन्य दल में विलय नहीं किया है. उनके पास कोई मान्यता नहीं है. कानून के मुताबिक, उन्हें किसी राजनीतिक दल में शामिल होना होगा.’

Tags: Eknath Shinde, Shiv sena, Uddhav thackeray

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर