होम /न्यूज /राष्ट्र /Udhampur Blast: सीमा पार बैठे आतंकी ने रची थी धमाके की साजिश, ड्रोन से पहुंचा था स्टिकी बम

Udhampur Blast: सीमा पार बैठे आतंकी ने रची थी धमाके की साजिश, ड्रोन से पहुंचा था स्टिकी बम

उधमपुर बम धमाकों के मुख्‍य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

उधमपुर बम धमाकों के मुख्‍य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Udhampur Sticky Bomb Blast: उधमपुर में हुए 2 बम धमाकों के मुख्‍य आरोपी मोहम्‍मद असलम का भाई आतंकी है. वह सीमापार से जम् ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

ड्रोन से हीरानगर सेक्‍टर में पहुंचाया गया था स्टिकी बम
सीमा पार से संदिग्‍धों के खातों में मोटी रकम आने की सूचना
पाकिस्‍तान में बैठा है धमाके के मुख्‍य आरोपी का भाई

जम्‍मू. उधमपुर में हुए बम धमाके के मुख्‍य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है. उसके साथ 2 अन्‍य आतंकियों को भी पकड़ा गया है. वहीं, एक पूर्व आतंकी की पत्‍नी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. बताया जा रहा है कि गिरफ्तार मोहम्‍मद असलम लश्‍कर-ए तैयबा से जुड़ा हुआ है. असलम द्वारा नियमित तौर पर सीमा पार से बातचीत करने का भी पता चला है. पुलिस ने मुख्‍य आरोपी को हथियारों के साथ गिरफ्तार किया है. पुलिस सूत्रों की मानें तो असलम ने ही दोनों बसों में बम प्‍लांट किया था. पूछताछ के क्रम में बम धमाकों के तार सीमा पार से जुड़ने के भी साक्ष्‍य मिले हैं.

बता दें कि उधमपुर के 28 और 29 सितंबर 2022 को 2 बम धमाके हुए थे. अब पुलिस ने इस गुत्‍थी को सुलझाने का दावा किया है. पलिस का दावा है कि मोहम्मद असलम नाम का पूर्व आतंकी दोनों बसों में बम प्लांट किया था. असलम बसों में बम लगाने के लिए शिमला से जम्‍मू आया था. मोहम्मद असलम का लशकर-ए तैयबा से संपर्क बताया जा रहा है. उसे उधमपुर के रामनगर के गांव बसंतगढ से गिरफ्तार किया गया है. उधमपुर में दो दिनों के अंतराल में 2 बम धमाके से स्‍थानीय पुलिस के साथ ही खुफिया एजेंसियों के भी होश उड़ गए थे. धमाके के बाद मामले की छानबीन शुरू कर दी गई थी. अब इस मामले में पुलिस को अहम सफलता मिली है.

VIDEO: 8 घंटे के भीतर बस में ताबड़तोड़ 2 धमाकों से दहला उधमपुर, घटना CCTV में कैद 

पाकिस्‍तान में बैठा है असलम का आतंकी भाई
पुलिस ने बसतंगढ के रहने बाले मोहम्मद असलम का रिकॉर्ड खगांला तो पता चला कि वह हिमाचल प्रदेश के शिमला के पास रहकर मजदूरी का काम करता है. आरोप है कि वह वहीं से सीमा पार बैठे अपने भाई से लगातार संपर्क में था. उसका भाई भी आतंकवादी है. असलम खुद एक पूर्व आतंकी है और 10 साल सजा काट चुका है. वह सुरक्षा एजेंसियो की नजर से बचने के लिए हिमाचल प्रदेश चला गया था, ताकि किसी को शक न हो. पुलिस का दावा है कि असलम सीमा पार बैठे अपने भाई और अन्‍य आतंकियों के संपर्क में था. उधमपुर -रामनगर रूट की दोनो बसों को स्टिकी बम से निशाना बनाने के लिए सीमा पार से ही आदेश आया था, जिसके चलते ये बम प्लांट किए गए थे.

पुलिस खंगाल रही बैंक रिकॉर्ड
पुलिस सूत्रों के अनुसार, शिमला में असलम का एक साथी भी था. उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया है. जम्मू-कशमीर में खासकर उधमपुर इलाके को दहलाने की साजिश सीमा पार से रची गई थी. हिरासत में लिए गए संदिग्‍धों से पूछताछ में मोहम्‍मद असलम का नाम सामने आया. इसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया. पुलिस अब इनके बैंक रिकॉर्ड खंगाल रही है. माना जा रहा है कि टेरर फडिंग के लिए पैसा भी इन लोगों के पास पहुंचा था.

हीरानगर सेक्‍टर में ड्रोन से पहुंचा था बम
मुख्‍य आरोपी के साथ दो और पूर्व आतंकियों को गिरफ्तार किया गया. उनसे पूछताछ चल रही है. पुलिस सूत्रों के अनुसार, सीमा पार से ड्रोन के जरिए जिला कठुआ जिला के हीरानगर सेक्टर में यह स्टिकी बम कुछ सप्ताह पहले पहुंचा था. वहीं से कुछ ओवरग्राउंड वर्करों ने हथियारों की खेप बसंतगढ़ पहुंचाई थी. सूत्र बताते हैं कि सीमा पार से मोटी रकम भी अलग-अलग अकाउंट में भेजी गई थी. वहीं, उधमपुर दोहरे ब्लास्ट केस में एक महिला भी पूछताछ के लिए हिरासत में ली गई है. यह महिला पूर्व आतंकी की पत्नी है.

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें