• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • खुद को फिट रखने के लिए 'जादुई पानी' पीता था खिलाड़ी, अचानक गल कर गिर गया आधा जबड़ा

खुद को फिट रखने के लिए 'जादुई पानी' पीता था खिलाड़ी, अचानक गल कर गिर गया आधा जबड़ा

जिस दवा को ताकत बढ़ाने के लिए एबेन पीते थे वही उनकी बॉडी को अंदर से खोखला बना रही थी (इमेज- Reddit)

जिस दवा को ताकत बढ़ाने के लिए एबेन पीते थे वही उनकी बॉडी को अंदर से खोखला बना रही थी (इमेज- Reddit)

अमेरिका (America) में रहने वाले एबेनेज़र मैकबर्नी बयेर्स (Ebenezer McBurney Byers), जिन्हें लोग एबेन बयेर्स (Eben Byers) के नाम से भी जानते हैं दुनिया के बेहतरीन खिलाड़ियों में से एक थे. 1880 में पैदा हुए एबेन ने कई गोल्ड मेडल जीते थे. लेकिन एक हादसे के कारण उनकी लाइफ और करियर बर्बाद हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    स्पोर्ट्समैन के लिए फिट रहना सबसे जरुरी है. एक खिलाड़ी अगर बीमार है तो वो स्पोर्ट्स में ध्यान नहीं दे पाता है. कई बार तो खेल के दौरान खिलाड़ी चोटिल हो जाता है लेकिन कुछ मामलों में खुद खिलाड़ी ही खुद को ऐसा नुकसान पहुंचा बैठते हैं जिसकी भरपाई नामुमकिन होती है. अमेरिका के काफी अमीर घर में पैदा हुए एबेन के साथ कुछ ऐसा ही हुआ. एबेन बेहतरीन खिलाड़ी थे. लेकिन एक दवा के कारण उनके चेहरे का आधा हिस्सा गलकर गिर गया.

    1880 में पैदा हुए एबेन ने 1900 के दौर में कई चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था. लेकिन 1927 में गेम के दरान चोटिल होने के बाद डॉक्टर्स ने उन्हें रैडिटौर ( Radithor) प्रिस्क्राइब किया. इस दवा से एबेन को एनर्जी मिली तो वो इसके दीवाने ही हो गए. ठीक होने के बाद भी एबेन इसे लगातार कंज्यूम करते रहे. दवा की 1400 शीशी पीने के बाद अचानक उनके जबड़े का आधा हिस्सा सड़कर नीचे गिर गया. साथ ही उनकी हड्डियां अंदर से खोखली हो गई. नतीजा हुआ कि 51 साल की उम्र में उनकी मौत हो गई.

    man jaw dropped due to radioactive water

    अमीर घर में पैदा हुए एबेन के एक गलत फैसले से उनकी जान मुश्किल में पड़ गई

    दवा ही बन गया जहर
    एबेन की मौत के बाद उनकी हालत पर गहन जांच की गई. मेडिक्स का मानना है कि रैडिटौर के इस्तेमाल से उनके बाजू में लगे चोट को जल्दी भरा जा सकता था. इस वजह से उन्हें हर रोज एक छोटी चम्मच रैडिटौर पीने की सलाह दी गई थी. कुछ दिन इसके कंजप्शन से एबेन को काफी अच्छा लगने लगा. उन्हें इस दवा के कारण काफी फुर्ती महसूस होने लगी, जिसकी वजह से वो हर दिन करीब एक बोतल रैडिटौर पीने लगे. एक साल में इस दवा की उन्हें ऐसी लत लगी कि दिनभर में वो इसके तीन बोतल गटक जाते. नतीजा हुआ कि 1931 में अचानक उनका जबड़ा गलकर गिर गया.

    man jaw dropped due to radioactive water

    गलत दवाई को ज्यादा मात्रा में लेने से 51 साल की उम्र में एबेन की मौत हो गई

    नहीं हुआ दर्द
    जब एबेन का जबड़ा गिरा, तब उन्हें थोड़ा भी दर्द महसूस नहीं हुआ. दरअसल, रैडिटौर पीने की वजह से उनकी नसें सुन्न हो चुकी थी. डॉक्टर्स ने उनके जबड़े को जोड़ने की कोशिश की लेकिन नाकामयाब हुए. 1932 में मौत होने के बाद उनकी बॉडी को डॉक्टर्स ने प्रिजर्व करके रखा. बाद में 1965 में उनकी बॉडी को निकाल कर टेस्ट किया गया. इतने सालों बाद भी उनकी डेड बॉडी में रेडियोएक्टिव कण पाए गए. एबेन की मौत का सबसे बड़ा सच जो सामने आया वो ये कि एबेन को जिस डॉक्टर ने ये दवा लिखी थी, वो असल में डॉक्टर था ही नहीं. उसने झूठी डिग्री के जरिये कई लोगों को बेवक़ूफ़ बनाया था. उसने रैडिटौर को दवा बताकर कई लोगों को इसका सेवन करवाया. जिसकी वजह से कई लोगों की जान मुसीबत में पड़ गई.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन