होम /न्यूज /अजब गजब /पोस्टमॉर्टम हाउस में काम करने वाली लड़की का खुलासा- अंदर गाजर-मूली की तरह काटी जाती हैं लाशें

पोस्टमॉर्टम हाउस में काम करने वाली लड़की का खुलासा- अंदर गाजर-मूली की तरह काटी जाती हैं लाशें

एक दिन में 6 से 7 लाशों को फाड़ने के बाद भी अलेक्सांद्रिया अपने जॉब से काफी प्यार करती है

एक दिन में 6 से 7 लाशों को फाड़ने के बाद भी अलेक्सांद्रिया अपने जॉब से काफी प्यार करती है

सोशल मीडिया (Social Media) पर पोस्टमॉर्टम हाउस (Postmortem House) में काम करने वाली लड़की ने अपने जॉब से जुड़ी सीक्रेट बा ...अधिक पढ़ें

    किसी डेड बॉडी को काटकर उसके अंदर झांकना, इंसान के मरने का समय और उसकी वजह का पता लगाने का काम कितना एक्साइटमेंट भरा हो सकता है (Work Inside Mortuary House)? आप सोच रहे होंगे कि ऐसा काम एक्साइटमेंट से भरा कैसे हो सकता है? आखिर दुनिया के किस इंसान को ये काम एक्साइटिंग लगता होगा? लेकिन ऐसा सच में है. सोशल मीडिया पर एक मॉर्चरी वर्कर (Mortuary Worker) ने अपना एक्सपीरियंस लोगों के साथ शेयर किया. दिखने में बेहद हसीन ये लड़की एक दिन में छह से सात लाशों का पोस्टमॉर्टम करती है. अब उसने सोशल मीडिया पर लोगों के साथ पोस्टमॉर्टम रूम के अंदर के हालात शेयर किये हैं.

    जहां दुनिया में ज्यादातर बच्चे 11 की उम्र में एस्ट्रोनॉट या डॉक्टर बनने का सपना देखते हैं, वहीं अलेक्सांद्रिया को उस समय से ही लाशों की चीर-फाड़ करने का शौक था. वो तब से ही मॉर्चरी टेक्नोलॉजिस्ट (Mortuary Technologist) बनना चाहती थी. कई लोगों को उसके करियर चॉइस को जानकर हैरानी हुई थी लेकिन आखिरकार बड़ी होकर अलेक्सांद्रिया ने अपना सपना पूरा किया. आज अलेक्सांद्रिया एक अस्पताल के मॉर्चरी में लाशों का पोस्टमॉर्टम करती है. उसने लोगों के साथ अपने काम से जुड़े कई सीक्रेट्स शेयर किये.

    एक फिल्म से बदली करियर की दिशा
    अलेक्सांद्रिया अपने इस प्रोफेशन के बारे में याद करते हुए बताती हैं कि 11 की उम्र में देखी एक फिल्म के बाद ही वो इस जॉब में आना चाहती थीं. उन्होंने बताया कि कैसे उनकी मां ने उनसे पूछा था कि क्या वो वाकई ये फिल्म देखना चाहती थी? अलेक्सांद्रिया की मां को यकीन नहीं हो रहा था कि 11 साला की बच्ची एक लाश को काटते हुए देख पाएगी. लेकिन इसके बाद से ही अलेक्सांद्रिया इस प्रोफेशन की तरफ आकर्षित हो गई थी.

    लाशें काटकर होती है खुश
    अपने काम के बारे में अलेक्सांद्रिया ने बताया कि एक दिन में वो करीब 6 से 7 लाशों का पोस्टमॉर्टम करती है. उसे लाशों के ऑर्गन को निकालकर उनकी जांच करना काफी पसंद है. वो बॉडी के अंदर एब्नार्मल चीजों को तलाशती है और जब ऐसा कुछ मिलता है तो उसे बेहद ख़ुशी होती है. अलेक्सांद्रिया ने बताया कि उनका काम है बॉडी के सारे ऑर्गन्स निकाल देना. इसके बाद एक्सपर्ट्स मौत की वजह तलाशते हैं. इसके बाद वो वापस सारे ऑर्गन्स को बॉडी में डालती है और फिर उसे सिलाई कर पैक करती है.

    1 घंटे का है काम
    अलेक्सांद्रिया ने जानकारी दी कि एक लाश के पोस्टमॉर्टम में करीब एक घंटे का समय लगता है. अगर लाश की हालत खराब है तो सिलाई में थोड़ा ज्यादा समय लगता है. साथ ही उन्होंने बताया कि पोस्टमॉर्टम के लिए इस्तेमाल होने वाले इक्विपमेंट्स किचन के चाक़ू-छुरी जैसे ही होते हैं. इनमें समय के साथ कोई ज्यादा बदलाव नहीं आया है. उन्होंने लाशों को काटना सब्जियों को काटने जैसा बताया है. लोग अलेक्सांद्रिया के इस पोस्ट पर कमेंट करते देखे जा रहे हैं. कई लोगों ने लिखा कि ऐसी खूबसूरत लड़की को मॉडल होना चाहिए ना कि पोस्टमॉर्टम हाउस में लाशों की चीर-फाड़ करने वाली.

    Tags: Dead body, Job news, Postmortem, Weird news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें