• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • 5वीं के बच्चों को मुफ्त कंडोम बांट रही है सरकार, बैग में किताबों के साथ रखकर ले जा सकेंगे घर

5वीं के बच्चों को मुफ्त कंडोम बांट रही है सरकार, बैग में किताबों के साथ रखकर ले जा सकेंगे घर

Chicago में स्कूलों के लिए ये अजीबोगरीब पॉलिसी देखकर माता-पिता परेशान हैं.

Chicago में स्कूलों के लिए ये अजीबोगरीब पॉलिसी देखकर माता-पिता परेशान हैं.

अमेरिका के Illinois प्रांत में Chicago Public School Board इस वक्त सुर्खियों में है. इस बार इसकी वजह यहां की सरकार एक बेहद अजीबोगरीब (Free Condom To Kids) फैसला है.

  • Share this:
    जिस उम्र में बच्चों को शरीर की ठीक से समझ भी नहीं होती, उस उम्र में अमेरिका के शिकागो (Chicago) में बच्चों के हाथ में कंडोम थमाया जाना है. शिकागो की नई पॉलिसी के मुताबिक यहां प्राइमरी स्कूलों में 5वीं कक्षा (Free Condom To Primary Kids) के छात्रों को भी कंडोम दिया जाएगा. 10 साल से ही कंडोम देने की इस शुरुआत पर माता-पिता बौखला गए हैं.

    यूं तो ये पॉलिसी शिकागो में साल 2020 के दिसंबर महीने से ही लागू होनी थी, लेकिन कोरोना (Coronavirus) महामारी के चलते स्कूलों के खोले जाने तक इसे टाल दिया गया. अब स्कूल खुलने के बाद एलिमेंट्री स्कूलों (Elementary schools free condom) में 250 कंडोम जबकि हाई स्कूलों में 1000 कंडोम सप्लाई किए जाएंगे. बच्चों को जब भी ज़रूरत होगी वे इसे ले सकेंगे. ये कंडोम बच्चों को बिल्कुल मुफ्त (Free Condom To Kids) दिए जाएंगे. पॉलिसी को सुनकर पेरेंट्स के कानों से धुआं निकल रहा है जबकि सोशल मीडिया (Social Media) पर लोग भड़के हुए हैं.

    10 साल में कंडोम की क्या ज़रूरत?
    ये पॉलिसी शिकागो पब्लिक स्कूल बोर्ड ऑफ एजुकेशन (Chicago Public Schools ) ने बनाई है. इस पॉलिसी के तहत स्कूलों को 10 साल और इससे ऊपर के बच्चों के लिए कंडोम (Free Condom To Kids) का इंतजाम करना होगा. सीधी भाषा में कहें तो 5वीं में पढ़ने वाले बच्चे के हाथ में भी आसानी से कंडोम आ सकेगा. इसका इंतज़ाम शिकागो का स्वास्थ्य विभाग करेगा. कंडोम की व्यवस्था सुनिश्चित करना ज़रूरी होगा. शिकागो पब्लिक स्कूल सिस्टम के अंतर्गत कुछ 600 सरकारी स्कूल आते हैं और इन सभी में ये नई पॉलिसी लागू होगी. स्कूलों और पेरेंट्स के बीच पहले भी ये चिंता का विषय रहा है कि कंडोम किसी निजी जगह रखे जाएं, जहां से ज़रूरत पड़ने पर छात्र इन्हें ले सकें, लेकिन 5वीं कक्षा के बच्चों तक इसे पहुंचाना वाकई अजीब है.

    सरकार का पक्ष
    कंडोम की उपलब्धता के पीछे दलील दी जा रही है कि इससे बच्चों को यौन संक्रमण, एचआईवी इन्फेक्शन और अनचाही प्रेग्नेंसी से बचने में मदद मिलेगी. Chicago Women’s Health Center में काम कर रहे Scout Bratt ने नई पॉलिसी का बचाव करते हुए कहा कि कंडोम उपलब्ध होने का ये मतलब नहीं है कि हर छात्र इसका इस्तेमाल ही करने जा रहा है या उसे इस्तेमाल के लिए कहा जा रहा है. ये सिर्फ इसलिए है ताकि बच्चों का नुकसान न हो और उन्होंने सेक्सुअली ट्रांसमिट होने वाले रोग न हों. ये सुरक्षा और सफाई के लिए है.

    ये भी पढ़ें- प्रेगनेंसी से बेखबर लड़की रातभर करती रही पार्टी, सुबह हुआ पेट में दर्द और हाथ में आ गया बच्चा

    सोशल मीडिया पर मचा हंगामादसु
    फिलहाल कोरोना (Coronavirus) के चलते शिकागो के स्कूल बंद हैं. इन्हें अगले ही महीने खोला जाना है. स्कूल खुलते ही ये पॉलिसी लागू हो जाएगी. ऐसे में सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा भड़का हुआ है. पेरेंट्स और तमाम लोग इसे शर्मनाक और शिकागो सरकार की बीमार मानसिकता करार दे रहे हैं. हालांकि शिकागो पब्लिक स्कूल (CPS) इस बात पर टिका हुआ है और उसका कहना है कि इससे छात्रों के बीच 'HIV Infection' और अनचाहे गर्भ की समस्या कम होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज