• Home
  • »
  • News
  • »
  • ajab-gajab
  • »
  • जमीन पर रहकर हवा से बात करेगी चीन की यह ट्रेन! जाने, कैसे चलेगी बिना पहियों के

जमीन पर रहकर हवा से बात करेगी चीन की यह ट्रेन! जाने, कैसे चलेगी बिना पहियों के

नई हाई-स्पीड ट्रेन 620 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफतार से दौड़ेगी (फोटो: चाइना डेली एचके)

नई हाई-स्पीड ट्रेन 620 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफतार से दौड़ेगी (फोटो: चाइना डेली एचके)

चीन (China) ने एक ऐसी नई हाई स्पीड ट्रेन (High Speed Train) का डिजाइन लॉन्च किया है जोकि जमीन पर चलकर आसमान में बात करेगी। नई हाई-स्पीड ट्रेन 620 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफतार से दौड़ेगी. शोधकर्ता इस ट्रेन की स्पीड को अगले 3 से 10 सालों के भीतर ऑपरेशनल यानि चालू करने के समय स्पीड को 800 किलोमीटर प्रतिघंटा करने की तैयारी में जुटे हैं. लंदन व पेरिस के यात्रा समय को कम करेगी.

  • Share this:
    कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर चीन एक ओर जहां पूरी दुनिया में विवादों से घिरा है, वहीं दूसरी ओर रेल टेक्नोलॉजी में वह एक नया मिसाल कायम करने जा रहा है. दरअसल, हाल ही में चीन ने एक नई हाई स्पीड ट्रेन का डिज़ाइन लॉन्च किया है, जो चलेगी जमीन पर, लेकिन बातें आसमान से करेगी.

    नई हाई-स्पीड ट्रेन 620 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफतार से दौड़ेगी. इतना ही नहीं, शोधकर्ता इस ट्रेन की स्पीड को अगले 3 से 10 सालों के भीतर ऑपरेशनल यानि चालू करने के समय स्पीड को 800 किलोमीटर प्रतिघंटा करने की तैयारी में जुटे हैं.

    दिलचस्प बात यह है कि चीन के दक्षिण-पश्चिम जियोओतोंग विश्वविद्यालय (Southwest Jiaotong University) के वैज्ञानिकों द्वारा तैयार की गई इस ट्रेन में पहिये नहीं है. वैज्ञानिकों ने उच्च तापमान की सुपरकंडक्टिंग  तकनीक के जरिये मैग्नेटिक लेविएशन ट्रेन (Magnetic Leviation Train) को विकसित किया है. एचटीएस तकनीक मैग्नेट का उपयोग करती है जोकि इस द इंडिपेंडेंट के अनुसार ट्रैक के उपर होवर करने की अनुमति देती है. इससे ऐसा लगता है कि ट्रेन चुंबकित पटरियों पर तैर रही है. वहीं, यह तेज रफतार के साथ घर्षण रहित यात्रा मुहैया कराएगी.

    चीन के वैज्ञानिकों की ओर से हाल ही में 69 फुट के प्रोटोटाइप यानी डिजाइन का चेंग्दू में अनावरण किया गया. लाचिंग समारोह के दौरान, ट्रेन को ट्रैक के साथ-साथ धीरे-धीरे तैरते फ्लोटिंग करते हुये भी देखा गया. चीन की समाचार एजेंसी ‘सिन्हुआ न्यूज’ ने अपने ऑफिशियल ट्वीटर हैंडल पर प्रोटोटाइप की फुटेज भी शेयर की है. समाचार एजेंसी ने यह भी बताया है कि सुपरकंडक्टर तकनीक से लैस ट्रेन रोजगार देती है और अपने साथियों की तुलना में इसको ज्यादा हल्का बना सकती है.

    सीजीटीएन की रिपोर्ट की माने तो देश में एचटीएस टैक्नाॅलोजी के विकास में ‘फ्लोटिंग’ ट्रेन की शुरूआत ‘शून्य से एक’ के रूप में की गई है.

    बताया यह जाता है कि चीन अपने शहरों में तेजी से लिंक बनाने के लिये नई मैग्लेव ट्रेन (Maglev Train) को बड़ा नेटवर्क बनाने की कोशिश में है. वैज्ञानिकों ने जहां अभी इस ट्रेन को 620 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ाने का डिजाइन तैयार किया हैं जोकि लंदन और पेरिस के बीच की यात्रा सफर के समय को 47 मिनट तक कम करने वाला है. उसको ट्रेन ऑपरेशनल के समय तक और कम करने के लिये अभी से ही 800 किलोमीटर प्रतिघंटा रफ्तार पर करने काम शुरू कर दिया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज