ये महिला थी दुनिया की सबसे पहली कोरोना मरीज, Top अधिकारी की गलती से हुआ चीन के झूठ का पर्दाफाश

एक मेडिकल जर्नलिस्ट को दिए इंटरव्यू में चीन के टॉप ऑफिसर ने सनसनीखेज खुलासा कर दिया

एक मेडिकल जर्नलिस्ट को दिए इंटरव्यू में चीन के टॉप ऑफिसर ने सनसनीखेज खुलासा कर दिया

कोरोना (Corona Virus) को लेकर चीन (China) के झूठ का पर्दाफाश करने में लगी टीम ने एक और खुलासा किया है. चीन के एक अफसर की गलती की वजह से दुनिया की पहली कोरोना मरीज की पहचान उजागर हो गई है. सबसे हैरानी की बात ये है कि ये मरीज चीन द्वारा वायरस का जिक्र करने के तीन हफ्ते पहले ही पॉजिटिव हो गई थी.

  • Share this:

चीन के ऊपर शुरुआत से कोरोना वायरस को लेकर झूठ बोलने का इल्जाम लग रहा है. अब चीन के एक अधिकारी द्वारा गलती से दुनिया की सबसे पहली कोरोना मरीज के नाम, पता और डिटेल्स को लीक कर दिया गया है. ये महिला वुहान (Wuhan) में रहती थी और चीन द्वारा कोविड के पहले केस को मानने से तीन हफ्ते पहले ही वायरस की चपेट में आ गई थी.

ये डिटेल अधिकारी द्वारा एक मेडिकल जर्नल (Medical Journal) को भेजे डाक्यूमेंट्स द्वारा लीक हो गई. महिला की पहचान 61 साल की 'पेशेंट सू' (Patient Su) के रूप में हुई, जो चीन के उस लैब के नजदीक रहती थी, जहां वायरस को तैयार करने का दावा किया जाता है. साथ ही साथ ये महिला उस रेल लाइन के भी नजदीक रहती थी, जिसे चीन में कोरोना फैलाने का जिम्मेदार बताया जाता है.

शुरुआत से झूठ बोल रहा चीन

कॉमन फॉरेन अफेयर्स कमिटी के टॉम टुगंधत (Tom Tugendhat) के मुताबिक, चीन को दुनिया से सच शेयर करने की जरुरत है. अगर वायरस को खत्म करना है तो इससे जुडी हर सही जानकारी चीन को देनी चाहिए. अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस यूं ही तबाही मचाएगा. ताजा रिपोर्ट्स में चीन द्वारा कोरोना नाम के वायरस के बारे में बताए जाने के तीन हफ्ते पहले ही इसकी पहली मरीज की जानकारी दी गई है.
फरवरी 2020 में ही मची थी तबाही

चीन ने लंबे समय तक इस वायरस की जानकारी दुनिया को नहीं दी. वुहान यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर यू चुन्हुआ Yu Chuanhua ने एक मेडिकल जर्नलिस्ट को दिए इंटरव्यू में खुलासा किया कि फरवरी 2020 तक चीन में करीब 47 हजार लोग कोरोना की चपेट में आ चुके थे. इसमें से एक मरीज सितंबर 2019 में ही पॉजिटिव पाई गई थी. हालांकि, इसके रिपोर्ट्स की कोई जानकारी नहीं है लेकिन इसके सिम्पटम्स कोरोना जैसे थे और उसकी मौत हो गई थी.

एक स्क्रीनशॉट से खुलासा



चीन में सोशल मीडिया पर सरकार की नजर होती है. ऐसे में वहां से डिटेल्स मुश्किल है. हालांकि, इस इंटरव्यू के कुछ स्क्रीनशॉट्स बाहर आए हैं. इसमें इस मरीज का नाम और वो किस अस्पताल में थी, इसका खुलासा हुआ है. स्क्रीनशॉट में बाकी डिटेल्स ब्लर कर दी गई है लेकिन इसका नाम पेशेंट शू के तौर पर सामने आया है. महिला वुहान की रहने वाले थी और उसका घर उस लैब के नजदीक था, जहां इस वायरस को बनाए जाने का अंदेशा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज