सफाई का सबूत देने के लिए महिला ने टॉयलेट से निकालकर पी लिया पानी, सोशल मीडिया पर छिड़ी बहस

ट्वायलेट से निकालकर पानी पीने वाली यह महिला चीन के शानडोंग प्रांत में स्थित एक फर्टिलाइजर कंपनी की केयरटेकर है (वीडियो ग्रैब, YouTube)
ट्वायलेट से निकालकर पानी पीने वाली यह महिला चीन के शानडोंग प्रांत में स्थित एक फर्टिलाइजर कंपनी की केयरटेकर है (वीडियो ग्रैब, YouTube)

यह महिला चीन (China) के शानडोंग प्रांत में स्थित एक फर्टिलाइजर कंपनी (Fertilizer Company) की केयरटेकर है. यह महिला तबसे विवाद के केंद्र में आ गई है, जबसे उसका सीधा टॉयलेट (Toilet) से पानी निकालकर पीने वाला एक वीडियो (Video) सामने आया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 26, 2020, 3:43 PM IST
  • Share this:
चीनी सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हो रहे एक वीडियो (Viral Video) को लेकर चीन (China) और दुनिया में गर्मागर्म बहस छिड़ी हुई है. इस वीडियो में एक युवा महिला सफाईकर्मी (Woman Cleaner) को सीधे टॉयलेट (Toilet) से पानी निकालकर पीते हुए देखा जा सकता है. चीनी सोशल मीडिया (Chinese Social Media) पर एक हफ्ते से यह वीडियो लगातार ट्रेंड कर रहा है.

महिला के बारे में अब तक मिली जानकारी के मुताबिक वह चीन (China) के शानडोंग प्रांत में स्थित एक फर्टिलाइजर कंपनी (Fertilizer Company) की केयरटेकर है. यह महिला तबसे विवाद के केंद्र में आ गई है, जबसे उसका सीधा टॉयलेट (Toilet) से पानी निकालकर पीने वाला एक वीडियो सामने आया है. लुओ सरनेम वाली यह युवती कथित तौर पर अपने मालिकों को प्रभावित करने के लिए इस हद तक गई थी. युवती को टॉयलेट के पानी (Toilet Water) से भरे एक प्लास्टिक कप से पानी पीते देखा जा सकता है.





कंपनी प्रतिनिधियों ने कहा- परफेक्शन साबित करने को महिला ने खुद उठाया कदम
हालांकि इस वीडियो के सामने आने के बाद जब कंपनी के प्रतिनिधियों पर कर्मचारी को खुद को अपमानित करने के लिए प्रोत्साहित करने का आरोप लगा तो कंपनी के प्रतिनिधियों ने जोर देकर कहा कि केयरटेकर का यह कदम स्वैच्छिक था. उन्होंने यह भी कहा कि इस युवती ने पिछले कुछ सालों में कई बार टॉयलेट का पानी पिया है.

पूर्वी चीन के शानडोंग में स्थित ज़्हांगचेंग फ़र्टिलाइज़र टेक्नोलॉजी कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा, "यह उसका अपने काम में परफेक्शन दिखाने का तरीका है, जिससे वह दूसरों को बताना चाहती है कि वह अपने काम में कितनी समर्पित है.' उन्होंने यह भी कहा, 'वह दिखाना चाहती है कि उसे शौचालय की अपनी सफाई पर इतना भरोसा है कि वह शौचालय का पानी भी पी सकती है.'

कंपनी इस महिला को कहती है अपना बेंचमार्क कर्मचारी
इस वीडियो में भी पानी के कप को नीचे रखने के बाद केयरटेकर को यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'मुझे आशा है कि कंपनी के सभी पदों पर मौजूद लोग अपने काम को सर्वश्रेष्ठ तरह से कर सकते हैं.' लुओ के सहयोगियों ने पुष्टि की है कि वह 2014 में इस नौकरी को शुरू करने के बाद से पूरी तरह से अपना काम करने के लिए प्रतिबद्ध है, और उसे कंपनी का "बेंचमार्क कर्मचारी" कहा जाता है.



पत्रकारों से बात करते हुए, फर्टिलाइजर कंपनी के एक प्रवक्ता ने अपने इंप्लॉयर का बचाव किया. उन्होंने इस बात से भी इंकार किया कि किसी ने शौचालय से पानी पीने के लिए लुओ को मजबूर किया था. कथित तौर पर महिला ने अपनी मर्जी से ऐसा किया, जैसा कि उसने पिछले दो वर्षों में कई बार किया है.

यह भी पढ़ें: रामविलास पासवान ही नहीं इन 5 बिहारी नेताओं ने भी की दूसरे धर्म-जाति में शादी, मिसाल बनीं जोड़ियां

हालांकि कुछ सोशल मीडिया यूजर्स ने कहा कि वे लुओ की अपनी नौकरी के प्रति समर्पण की भावना से प्रभावित हुए, लेकिन ज्यादातर ने उनके इस कृत्य को परेशान करने वाला और अपमानजनक पाया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज