इस कंपनी की है अजीबोगरीब पॉलिसी, दिन में एक बार से ज्यादा टॉयलेट जाने पर कर्मचारियों से लेती है जुर्माना!

(फोटो: सोशल मीडिया)

(फोटो: सोशल मीडिया)

Once A Day Toilet Break Policy: कंपनी (Company) के प्रवक्ता ने कहा कि हम ऐसा करने के लिए मजबूर हैं क्योंकि कंपनी के कर्मचारी आलसी हैं. वो अपने काम से बचते रहते हैं. कंपनी ने कर्मचारियों से भी इस बारे में कई बार बात की है मगर उन्हें कोई सकारात्मक बदलाव देखने को नहीं मिला.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 8, 2021, 12:52 PM IST
  • Share this:
सोचिए आप आप अपने ऑफिस में हों और आपको तुरंत टॉयलेट जाना पड़ जाए मगर आपको जाने ना दिया जाए तो आपकी क्या हालत होगी? कुछ इसी तरह की पॉलिसी चीन की एक कंपनी ने अपने कर्मचारियों के लिए बनाई है. ये कंपनी अपने कर्मचारियों को टॉयलेट तो जाने देती है मगर एक से ज्यादा बार शौचालय जाने पर  कर्मचारियों को जुर्माना देना पड़ता है.

ये तानाशाही रवैया चीन की अनपू इलेक्ट्रिक साइंस एंड टेक्नोलॉजी कंपनी ने अपनाया है. गुआंगडॉग राज्य के डॉन्ग गुआंग में स्थित इस कंपनी का ये नियम सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है. कंपनी ने इस बात को माना है कि उन्होंने एक दिन में एक टॉयलेट ब्रेक की पॉलिसी को अपनाया है और अगर कोई कर्मचारी एक बार से ज्यादा टॉयलेट जाता है तो उसे प्रत्येक बार 20 युआन यानी 3 डॉलर (220 रुपये) फाइन के तौर पर चुकाने पड़ेंगे. कंपनी ने ये कदम उन आलसी कर्मचारियों की वजह से उठाया है जो काम से बचने के लिए कई बार टॉयलेट ब्रेक लेते थे.

ऐसी पॉलिसी पर क्या है कंपनी का कहना?

कंपनी ने जो नोटिस जारी किया था उसे कुछ कर्मचारियों ने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. उसके बाद कंपनी के खिलाफ लोगों ने नाराजगी जाहिर करना शुरु कर दिया था. कंपनी ने इस हरकत के बाद 7 कर्मचारियों को 20 और 21 दिसंबर को निकाल दिया था. सोशल मीडिया पर कंपनी के इस नियम की आलोचना हो रही है मगर कंपनी इसी बात पर टिकी है कि ऐसा इसलिए किया गया है कि कंपनी के कई कर्मचारी अपनी जिम्मेदारियों और काम से बचने के लिए अधिक टॉयलेट ब्रेक लेने लगे थे.
कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि हम ऐसा करने के लिए मजबूर हैं क्योंकि कंपनी के कर्मचारी आलसी हैं. वो अपने काम से बचते रहते हैं. कंपनी ने कर्मचारियों से भी इस बारे में कई बार बात की है मगर उन्हें कोई सकारात्मक बदलाव देखने को नहीं मिला. कंपनी के प्रवक्ता ने बताया कि लोगों को काम ना करने के लिए नौकरी से निकालने से बेहतर विकल्प है कि उनसे जुर्माना लिया जाए. प्रवक्ता ने कहा कि जो लोग एक से अधिक बार टॉयलेट जाते हैं उनसे जुर्माना उसी वक्त  चुकाने के लिए नहीं कहा जाता है बल्कि वो उनके मासिक बोनस से काटा जाता है. जो भी कर्मचारी एक से ज्यादा बार टॉयलेट जाना चाहता है उसे अपने बॉस के पास रजिस्टर करा के ही जाना पड़ता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज