यहां घायल सैनिकों को हॉस्पिटल में Supply की जाती हैं लड़कियां, जानें क्या है चर्चा में आयी Sex Therapy?

 काफी विवादित ये थेरेपी इन दिनों चर्चा में है

काफी विवादित ये थेरेपी इन दिनों चर्चा में है

इजरायल (Israel) में घायल सैनिकों को दी जाने वाली सेक्स थेरेपी इन दिनों चर्चा में है. ये थेरेपी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती उन सैनिकों को दी जाती है जो घायल होने के बाद सेक्स करने में असमर्थ हो जाते हैं. सबसे बड़ी बात कि इस थेरेपी के लिए भेजी जाने वाली लड़कियां सरकारी खर्चे पर हायर (Hire) की जाती हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 12:13 PM IST
  • Share this:
जानें क्या है चर्चा में आयी दुनिया में अलग-अलग बीमारियों के लिए डिफरेंट तरह के इलाज के तरीके हैं. इनमें से तो कुछ बेहद विवादित होते हैं. जैसे कुछ महिलाएं प्रेग्नेंसी के बाद अपना ही प्लेसेंटा (Placenta) खा लेती हैं. उनका कहना है कि इस तरीके से प्रेग्नेंसी की कमजोरी दूर हो जाती है. उसी तरह दुनिया में सेक्स थेरेपी भी मशहूर है. हालांकि, ये थेरेपी काफी विवादित भी है. हाल ही में इजरायल के सैनिकों को ये थेरेपी दिए जाने की खबर खूब चर्चा में हैं. BBC द्वारा जारी रिपोर्ट में बताया गया कि इजरायल में सैनिकों को दी जाने वाली सेक्स थेरेपी सरकारी खर्चे पर उपलब्ध है.

बुरी तरह घायल सैनिकों का इलाज

कई देशों में रोगियों के लिए सेक्स थेरेपी का इस्तेमाल किया जाता है. इसमें बीमार शख्स के साथ एक अन्य शख्स को रखा जाता है जो रोगी के यौन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है. ये काफी विवादित थेरेपी है. लेकिन इसके बावजूद इजरायल में कई घायल सैनिकों को ये थेरेपी दी जा रही है. ये सैनिक युद्ध में बुरी तरह घायल होने के बाद अस्पताल के बेड पर पड़ गए हैं. अब उन्हें ठीक करने के लिए सेक्स थेरेपी दी जा रही है.

क्या होता है सेक्स थेरेपी?
इजरायल के सेक्स थेरेपिस्ट Ronit Aloni ने समझाया कि आखिर ये थेरेपी क्या है? इसमें रोगी के कमरे में एक बेड, सीडी प्लेयर और दीवारों पर कामुक पेंटिंग्स लगाई जाती है. ये थेरेपी उन सैनिकों को दी जाती है जो युद्ध में घायल होने के बाद सेक्स क्षमता खो बैठते हैं. थेरेपी में रोगियों को दुबारा सेक्स करना सिखाया जाता है.

थेरेपी के हैं काफी विरोधी

इस थेरेपी को काफी फायदेमंद कहा जाता है. इस थेरेपी के कारण कई सैनिक जल्दी से रिकवर कर जाते हैं. लेकिन कई लोग इसका विरोध भी करते हैं. उनका कहना है कि ये थेरेपी वैश्यवृति जैसा है. इसे बैन कर देना चाहिए. सबसे बड़ी बात ये है कि इस थेरेपी में जाने वाली लड़कियों का भुगतान सरकार करती है. इस थेरेपी की इन दिनों काफी चर्चा हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज