प्रथा के चलते चुपचाप लेटे रहे लोग और ऊपर से गुजरती रहीं गायें

गायों को परिक्रमा शुरु करने के लिए भेज दिया गया और मंदिर के सामने कुछ लोग गौहरी के लिए खड़े हो गए. अचानक वो लोग कांपने लगे.

News18Hindi
Updated: April 14, 2019, 8:54 PM IST
News18Hindi
Updated: April 14, 2019, 8:54 PM IST
आधी हकीकत आधा फसाना. 550 से 600 किलोग्राम की वजन वाली गाय किसी इंसान को रौंदते हुए गुजर जाए तो क्या होगा? सवाल थोड़ा अजीब है लेकिन जवाब बहुत ही सीधा. या तो वो इंसान बुरी तरह जख्मी हो जाएगा या गंभीर चोट लगने से उसकी मौत हो जाएगी लेकिन दावा किया जाता है कि उस गांव में ऐसा कुछ नहीं होता. एक साथ कई गाय और बैल लोगों को पैरों से रौंदते हुए निकल जाते हैं और किसी को चोट तो दूर, एक हल्की सी खरोंच तक नहीं आती. ऐसा दावा करने वालों के मुताबिक एक अंजान शक्ति उनकी रक्षा करती है. इसी दावे की पड़ताल करने न्यूज़ 18 की टीम उस गांव में पहुंची और हर तस्वीर को हक़ीक़त में देखा.

रात होते ही फिर से गायों की पूजा का दौर शुरु हो गया जो सुबह तक जारी रहा. इस बार पिछले दिन की तरह एक बार गाय गौहरी नहीं होगी बल्कि गायें इस मंदिर की 7 बार परिक्रमा करेंगी. गायों को परिक्रमा शुरु करने के लिए भेज दिया गया और मंदिर के सामने कुछ लोग गौहरी के लिए खड़े हो गए. अचानक वो लोग कांपने लगे. लोगों ने बताया कि इनको माता जी आ रही हैं, ये गौहरी पढ़ेंगे, दोनों को माता आ चुकी हैं.



ये भी पढ़ें- फैशन नहीं पैशन : 'मैं अंधा तक होने के लिए तैयार था'

थोड़ी ही देर बाद गाय वहां पहुंच गईं और लोग उनके सामने गिरने लगे. गायें उन्हें रौंदते हुए जाने लगीं. लोग बेजान होकर सड़क पर यूं ही पड़े रहे और इस तरह गौहरी के दो चक्कर पूरे हो गए. माना जाता है तीसरा चक्कर सबसे खतरनाक होता है. लेटे हुए लोगों के शरीर में फिर कंपन शुरु हुई. ऊपर से गायें गुजरने लगी और लोग पड़े रहे.

ये सिलसिला चलता रहा और गाय गौहरी के सातों चक्कर पूरे हुए. सातों चक्कर में लेटे एक आदमी से जब पूछा गया कि उसे चोट तो नहीं आई तो उसका जवाब था कि मैं 20 साल से ये कर रहा हूं, मुझे कभी कोई दर्द नहीं हुआ. लोग भले ही चोट नहीं लगने की बात कह रहे हों, लेकिन हकीकत सबके चेहरे से बयां हो रही थी.

ये भी पढ़ें- खतरनाक साइंस: डॉक्टर ने किया ऐसा प्रयोग, जिंदगीभर के लिए अनाथ बच्चों की ऐसी हो गई हालत!

इसी बीच ये भी पता चला कि गांव में एक शख्स की गाय गौहरी से मौत भी हो चुकी है. अक्सर गायें, शोर और खींचतान से घबरा कर खुद ही लेटे हुए इंसानों के बगल से निकल जाती हैं और जब भी वो अपने पूरे वजन के साथ इंसानों को पैरों तले दबा देती हैं तो लोग जख्मी भी होते हैं. इसमें मौत भी हो सकती है जिसकी तस्दीक डॉक्टर और पुजारी ने भी की थी. न्यूज 18 का मकसद गाय गौहरी से जुड़े हर पक्ष को सामने रखना था. सही और गलत का फैसला आपको लेना है.
Loading...

ऐसी ही अजब-ग़ज़ब कहानियों और VIDEOS के लिए क्लिक करें
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार