रूस में मिलीं Aliens की कब्र ! 2000 साल पहले क्राइमिया के पास दफ़्न हुई थीं लाशें

Aliens Graves में कुछ ऐसी खोपड़ियां मिली हैं, जिनकी बनावट बिल्कुल अलग है. (Credit- East2West News)

Russia में वैज्ञानिकों ने कुछ ऐसी कब्रें (Aliens Graves) खोद निकाली हैं, जिनमें Aliens दफ्न हैं. इनकी खोपड़ी (Aliens Skull) का आकार बिल्कुल वैसा ही है, जैसा Aliens का माना गया है.

  • Share this:
    Aliens और UFO को लेकर चल रही ग्लोबल चर्चा के बीच Russia में वैज्ञानिकों को ऐसी कब्रें मिली हैं, जिनमें Aliens दफ़्न हैं. इनकी खोपड़ी (Aliens Skull) की बनावट बिल्कुल वैसी ही है और इन कब्रों (Aliens Graves) रूस के क्राइमिया (Crimea,Russia) क्षेत्र में ढूंढा गया है.

    कब्रों में मिलीं 5 खोपड़ियों का आकार काफी बड़ा है. इनमें एक मां और बच्चे की भी खोपड़ी शामिल है. Archaeologist Oleg Markov ने इन कब्रों को ढूंढा है. ये Crimea के Kyz-Aul इलाके में मिली हैं. पांचों कंकाल एक के ऊपर एक रखे हुए हैं. माना जा रहा है कि ये कंकाल 2000 साल पुराने हैं, ऐसे में ये काफी टूट-फूट भी चुके हैं.

    Sarmatian Culture से जुड़े हैं कंकाल
    कुछ साल पहले इसी जगह से एक बच्चे का कंकाल पया गया था, उसकी खोपड़ी की आकृति को देखते हुए मीडिया ने उसे एलियन की कब्र का नाम दे दिया. हालांकि पुरातत्ववेत्ता बताते हैं कि ये कंकाल सारमेशियन कल्चर से जुड़े हुए हैं. इसी सभ्यता में खोपड़ी का बड़ा होना सुंदरता और साहस का प्रतीक माना जाता है. ऐसे में बचपन से बच्चों की खोपड़ी को लकड़े के फ्रेम से बांधकर उन्हें अलग तरह का आकार दे दिया जाता था. इस काम में किसी सर्जरी की ज़रूरत नहीं पड़ती थी, बल्कि खोपड़ी खुद ही उसी रूप में बढ़ने लगती थी. कब्र से मिले कंकाल में एक बच्चा मां की छाती पर लेटा हुआ दिख रहा है. 5 लोगों को एक साथ दफनाया क्यों गया, इसका जवाब किसी के पास नहीं है.

    ये भी पढ़ें- 80 साल पुराना फ्रिज देखा है आपने? जगह भले ही कम हो कूलिंग आज भी है सॉलिड.. देखकर नहीं होगा यकीन

    2000 साल पुरानी हैं कब्रें
    Sarmatian Culture में खोपड़ी को इस तरह बढ़ाने की परंपरा था. ये लोग काफी बहादुर होते हैं. यहां की महिलाएं भी योद्धा होती थीं. ऐसे में ये नहीं कहा जा सकता है कि इन्हें किसी युद्ध के दौरान यहां दफनाया गया या फिर किसी महामारी के बाद इनकी मौत हुई. पुरातत्व के जानकार बताते हैं कि इनकी सभ्यता में इस तरह खोपड़ी का आकार बदलने के बाद माना जाता था कि योद्धा और भी ज्यादा एग्रेसिव हो जाते हैं. वहीं Nikolay Sudarev नाम के पुरातत्ववेत्ता कहते हैं कि - इन्हें ये ज्यादा खूबसूरत समझते थे. इस सभ्यता की महिलाओं की बहादुरी और लड़ाकू प्रवृत्ति के किस्से पुराने ज़माने में मशहूर थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.