Home /News /ajab-gajab /

गजब ! 7 करोड़ साल पुराने अंडे में वैज्ञानिकों को मिला डायनासोर का 'बच्चा'

गजब ! 7 करोड़ साल पुराने अंडे में वैज्ञानिकों को मिला डायनासोर का 'बच्चा'

वैज्ञाानिकों ने डायनासोर के अंडे से एक भ्रूण को निकाला है, जो पंखों वाले डायनासोर की प्रजाति है. (सांकेतिक तस्वीर)

वैज्ञाानिकों ने डायनासोर के अंडे से एक भ्रूण को निकाला है, जो पंखों वाले डायनासोर की प्रजाति है. (सांकेतिक तस्वीर)

Dinosaur Embryo : वैज्ञानिकों ने एक अहम सफलता हासिल करते हुए डायनासोर के करीब 7 करोड़ साल पुराने अंडे डायनासोर के बच्चे का भ्रूण हासिल किया है. बताया जा रहा है कि ये बच्चा पंखों वाले डायनासोर का था, जिनकी चोंच और शरीर का आकार अलग होता था. इनके दांत नहीं होते थे.

अधिक पढ़ें ...

    धरती पर हज़ारों साल पहले विशालकाय डायनासोर (Dinosaur Age) रहा करते थे. हमने इनके बारे तमाम कहानियां और कई वैज्ञानिक तथ्य भी पढ़े और सुने हैं. इसी सिलसिले में चीन के जियांगशी प्रांत (Jiangxi, China) में वैज्ञानिकों को डायनासोर के अंडे (Dinosaur Egg Fossil) का एक जीवाश्म मिला है. इससे संबंधित सबसे दिलचस्प बात ये है कि अंडे के अंदर एक संरक्षित डायनासोर भ्रूण (Dinosaur Embryo) भी मिला है.

    वैज्ञानिकों के मुताबिक संरक्षित किए गए डायनासोर के भ्रूणों में से ये पूर्ण एम्ब्रायो है, जो 10.6 इंच लंबा रहा होगा. इस भ्रूण को बेबी यिंगलियांग (Baby Yingliang) का नाम दिया गया है. इसकी उम्र आज से करीब 66-72 मिलियन यानि करीब 7 करोड़ साल पुराना माना जा रहा है. इसके बारे में बर्मिंघम विश्वविद्यालय के नेतृत्व में पैलियोंटोलॉजिस्ट ने कहा है कि बेबी यिंगलियांग ओविराप्टोरोसॉर (Oviraptorosaurs) की प्रजाति का है.

    पंखों वाले डायनासोर का है बच्चा
    ओविराप्टोरोसॉर (Oviraptorosaurs) डायनासोर को थेरोपोड डायनासोर भी कहा जाता था. इनके दांत नहीं होते थे और सिर्फ चोंच होती थी. ओविराप्टोरोसॉर (Oviraptorosaurs) पंखों वाले डायनासोर थे, जिन्हें एशिया और उत्तरी अमेरिका की चट्टानों में पाया जाता था. इनकी चोंच और शरीर का आकार अलग-अलग होता था . Daily Mail की रिपोर्ट के मुताबिक बेबी यिंगलियांगे थोड़े ही दिनों में सेने के बाद बाहर आने वाला था. उसके सिर और शरीर के हिस्से नीचे थे और उसकी पीठ के आकार की तरह मुड़ी हुई थी. भ्रूण के पैर और सिर भी थे.

    ये भी पढ़ें- Viral : बंदर और कुत्ते के बीच का प्यार देख आप भूल जाएंगे खूनी गैंगवार ! देखें वीडियो 

    दुर्लभ जीवाश्म से उत्साहित वैज्ञानिक
    यूनिवर्सिटी ऑफ बर्मिंघम के जीवाश्म वैज्ञानिक फियोन वैसम माई और उनकी टीम ने ये रिसर्च की है. डायनासोर के भ्रूण सबसे दुर्लभ जीवाश्मों में से एक है और वैज्ञानिक इस खोज को लेकर बेहद उत्साहित हैं और इस स्टडी को आगे बढ़ाएंगे. इस जीवाश्म के ज़रिये डायनासोर के विकास और उनकी ज़िंदगी से जुड़ी अहम जानकारियां हासिल हो सकती हैं. अंडे के अंदर मौजूद भ्रूण की मुद्रा टकिंग के दौरान जैसी होती है, वैसी ही है. ऐसी मुद्रा हैचिंग के लिए काफी ज़रूरी है.

    Tags: Dinosaurs, Science news, Viral news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर